च्यवनप्राश के नुकसान, फायदे, खाने का समय इत्यादि | Chyawanprash in Hindi

च्यवनप्राश यह नाम आपने कभी ना कभी जरूर सुना होगा क्योंकि च्यवनप्राश की कंपनी काफी पुरानी है च्यवनप्राश ऐसी आयुर्वेदिक दवाई है जिसका उपयोग दिमाग को तेज करने के लिए किया जाता है इस दवाई को बनाने के लिए विभिन्न प्रकार की जड़ी बूटियों का उपयोग किया जाता है विशेष रुप से नौजवान और बच्चों को इसका सेवन करने के लिए कहा जाता है जिससे बच्चों के शरीर में ताकत आए तथा उनका दिमाग भी तेज हो कभी ना कभी आपने जरूर यह सोचा होगा कि क्या सच में च्यवनप्राश फायदेमंद होता है या नहीं।

तो इसलिए आज इस आर्टिकल में हम च्यवनप्राश के बारे में बात करेंगे कि च्यवनप्राश क्या है, च्यवनप्राश कैसे बनाया जाता है, च्यवनप्राश के क्या-क्या लाभ होते हैं इत्यादि

च्यवनप्राश क्या है – What is Chyawanprash in Hindi

images 11

च्यवनप्राश एक आयुर्वेदिक दवाई है जिसमें 50 से अधिक सम्रागी मिलाई जाती है। च्यवनप्राश में लगभग 36 प्रकार की जड़ी-बूटिया देती है।च्यवनप्राश को बनाने के लिए आंवला एक मुख्य घटक है, क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन सी होता है, जो शरीर की रक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। इसे पकाने के बाद भी विटामिन सी की मात्रा में कोई कमी नहीं आती है। इसमें लगभग 36 तरह की जड़ी-बूटियों का प्रयोग किया जाता है। इसमें नागकेशर, सफेद मूसली, पिप्पली, शहद और तेजपत्ता, पाटला, अरणी, गंभारी, कमल गट्टा, विल्व और श्योनक की छाल, नागमोथा, पुष्करमूल, केशर, दालचीनी, आदि चीजें मिलाई जाती हैं।

च्यवनप्राश कैसे बनाएं – How to make Chyawanprash in Hindi

च्यवनप्राश बनाने के लिए सभी जड़ी बूटियों के द्रव्य को निकाल लें। ताजे आंवला को एक कपड़े की पोटली में बांधकर किसी बड़े बर्तन में कम से कम 12-13 लीटर पानी डालकर उबालें। जब पानी का आंठवा हिस्सा रह जाए तो आंवले को निकाल कर उसके बीजों को अलग कर दें और आंवले का पेस्ट बना लें। 

बचे पानी को भी छान कर रख लें। किसी कढ़ाई में तिल का तेल गर्म करें और आंवले को उसमें अच्छी तरह से पकाएं। उसके बाद बचे हुए पानी में आवश्यकतानुसार चीनी मिलाकर चाश्नी की तरह तैयार कर लें। 

इसके बाद इसमें आंवला डालकर पकाएं। जब इसका एक गाढ़ा पेस्ट जैसा तैयार हो जाए तो उसमें 200 ग्राम 200 ग्राम तुगाक्षिरी, 300 ग्राम शहद, 50 ग्राम छोटी इलायची, 100 ग्राम पिप्पली, 50 ग्राम तेजपत्र और 50 ग्राम नागकेसर मिलाएं। 

इस तरह से च्यवनप्राश बनकर तैयार हो जाएगा।जिन लोगों को महक की जानकारी होती है, वे च्यवनप्राश की खुशबू से उसे पहचान सकते हैं। इसमें पिप्पली और दालचीनी की खूशबू आती है। 

स्वाद में ये थोड़ा खट्टा होता है। अगर च्यव्यनप्राश ज्यादा मीठा लगता है, तो इसका मतलब है कि चीनी का प्रयोग ज्यादा किया गया है। 

च्यवनप्राश को पानी में डालने से वह डूब जाता है। अगर पानी में डालने पर उसके कण तैरते हुए नजर आते हैं, तो इसका मतलब है कि च्यवनप्राश पूरी तरह से पका नहीं है।

च्यवनप्राश के फायदे – Benifits of Chyawanprash in Hindi

च्यवनप्राश विभिन्न प्रकार की जड़ी-बूटियों, हर्बल अर्क और प्रसंस्कृत खनिजों से तैयार किया जाता है। भारत में स्वास्थ्य में सुधार और बीमारियों को रोकने के लिए इसे व्यापक रूप से बेचा और खाया जाता है। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन में प्रकाशित एक पेपर के अनुसार, इस आयुर्वेदिक औषधि का सेवन करने से सेहत को कई फायदे होते हैं। प्राचीन समय से इम्यूनिटी बढ़ाने और लंबी उम्र के लिए आंवला से बने च्यवनप्राश का उपयोग दवा के रूप में किया जाता है।च्यवनप्राश मेंएंटी-एजिंग गुण पाया जाता है। यह विटामिन, खनिज, और एंटीऑक्सिडेंट की खुराक के अस्तित्व में आने से पहले सबसे अधिक सराहा जाने वाला खाद्य पदार्थ है।

  • च्यवनप्राश में आंवला और अन्य जड़ी बूटियां होती है जो आपके शरीर को विटामिन और मिनरल्स देती है जिससे आपकी कार्यशीलता में वृद्धि होती तथा साथ ही सेक्स पावर में भी इजाफा होता है ।
  • पाचन से जुड़ी परेशानियों में च्यवनप्राश बहुत फायदेमंद है इसे रोजाना खाने से पाचन से संबधित  सभी परेशानियां खत्म हो जाती है ।
  • च्यवनप्राश  का सेवन करने से शरीर में गर्माहट पैदा होती है जो हमें ठंड के दुष्प्रभाव से बचाता है इसके अलावा च्यवनप्राश खाने से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि भी होती है इससे आप बीमारियों से बचे रहते हैं ।
  • खांसी, सर्दी , फ्लू और कप हो जाने पर च्यवनप्राश खाना फायदेमंद होता है 
  • आपके बाल सफेद हो रहे हैं तो च्यवनप्राश खाना आपके लिए एक बेहतरीन उपाय है रोजाना च्वनप्राश खाना आप के सफेद बाल को काला करने की क्षमता रखता है इससे नाखून भी मजबूत होते हैं ।
  • सर्दी खांसी होना आम बात है लेकिन अगर आप पुरानी खांसी से भी परेशान है तो च्यवनप्राश जरूर खाएं इससे आपको खांसी से बिल्कुल निजात मिल जाएगा |
  • छोटे बच्चों में होने वाली कई बीमारियां सिर्फ च्यवनप्राश खाने से दूर हो सकती है सर्दी के कारण भी बच्चों की सेहत पर काफी बुरा असर पड़ता है च्यवनप्राश का नियमित सेवन बच्चों को अंदरूनी ताकत देता है ।
  • महिलाओं के लिए भी च्यवनप्राश खाना बहुत लाभकारी है अगर महामारी नियमित नहीं हो रही है तो नियमित च्यवनप्राश का सेवन आपको मासिक धर्म से जुड़ी समस्याओं से दूर रखता है ।
  • बड़े हो या बच्चे नियमित च्यवनप्राश का सेवन दिमाग की सक्रियता बढ़ाता है और एकाग्रता में वृद्धि करता है इससे मानसिक तनाव में कमी आती है और दिमाग स्वस्थ रहता है ।
  • यह शरीर के आंतरिक अंगों की सफाई करता है तथा हानिकारक तत्वों को बाहर निकालने में मदद करता है इसके अलावा यह रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित रखने में मददगार है ।

च्यवनप्राश कब और कैसे ले – How and When to take Chyawanprash in Hindi

च्यवनप्राश (12-28 ग्राम) की सामान्य खुराक सुबह खाली पेट दूध के साथ सेवन करना चाहिए। आयुष मंत्रालय ने सुझाव दिया कि सुबह 10 ग्राम यानी एक चम्मच च्यवनप्राश लेना चाहिए। अस्थमा या अन्य सांस की बीमारियों से पीड़ित लोगों को इसे गुनगुने पानी के साथ लेना चाहिए और दूध एवं दही से बचने की सलाह दी जाती है।च्यवनप्राश (12-28 ग्राम) की सामान्य खुराक सुबह खाली पेट दूध के साथ सेवन करना चाहिए। आयुष मंत्रालय ने सुझाव दिया कि सुबह 10 ग्राम यानी एक चम्मच च्यवनप्राश लेना चाहिए। अस्थमा या अन्य सांस की बीमारियों से पीड़ित लोगों को इसे गुनगुने पानी के साथ लेना चाहिए और दूध एवं दही से बचने की सलाह दी जाती है।

च्यवनप्राश के नुकसान – Side effects of Chyawanprash in Hindi

च्यवनप्राश बहुत ज्यादा मात्रा में खाने से नुकसान भी हो सकता है. अधिक सेवन से अपच, पेट फूलना, पेट में सूजन, लूज मोशन और पेट में दिक्कत हो सकती है. वयस्क रोजाना 1 चम्मच च्यवनप्राश को सुबह शाम गुनगुने दूध या पानी के साथ ले सकते हैं. वहीं बच्चों को रोजाना आधा चम्मच ज्यादा च्यवनप्राश नहीं खिलाना चाहिए.

च्यवनप्राश की कीमत – Price of Chyawanprash in Hindi

  • डाबर च्यवनप्राश – 372 रु (900g)
  • डाबर च्यवनप्राश – 94 रु (250g)

यह भी पढ़ें:- True herbs Superfood Supplement benefits in Hindi

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में च्यवनप्राश के बारे में बताया है हमने इस आर्टिकल में च्यवनप्राश से संबंधित सभी विषयों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी है जैसे कि च्यवनप्राश क्या होता है च्यवनप्राश के क्या-क्या लाभ हैं इत्यादि

अगर आपके हमारे इस आर्टिकल से संबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं हम आपके सवालों का जवाब देने का प्रयास जरूर करेंगे धन्यवाद