DNA in Hindi | डीएनए क्या है, संरचना, कार्य इत्यादि

कोशिका हमारे शरीर का सबसे छोटा भाग है। और कोशिका के नाभिक में डीएनए होता है डीएनए हमारे शरीर के लिए बहुत आवश्यक होता है। डीएनए एक डाटा के रूप में काम करता है जिसमें हमारे बारे में संपूर्ण जानकारी स्टोर होती है।

हम इस आर्टिकल में डीएनए के बारे में जानकारी देंगे जैसे कि डीएनए क्या है, डीएनए के कार्य क्या है इत्यादि (DNA in Hindi)

डीएनए क्या है – What is DNA in Hindi

images 8

DNA या deoxyribonucleic acid एक अनुवांशिक पदार्थ है जो इंसानों और लगभग अन्य सभी जीवों में पाया जाता है. अधिकतर एक व्यक्ति की प्रत्येक कोशिका (cell) में एक तरह का ही डीएनए होता है. अधिकतर डीएनए कोशिका केन्द्रक में ही स्थित रहते हैं (इसे नाभिकीय DNA कहा जाता है), लेकिन डीएनए की कुछ मात्रा माइटोकांड्रिया में भी पाई जाती है जिसे mitochondrial DNA कहा जाता है. माइटोकांड्रिया कोशिकाओं में मौजूद structures होते हैं जो भोजन से मिलने वाली ऊर्जा को उस रूप में convert करते हैं जिसे कोशिकाओं के लिए इस्तेमाल किया जा सके.

डीएनए के अंदर जानकारियां एक कोड के रूप में सुरक्षित रहती हैं जो चार chemical bases पर बना होता है : adenine (A), guanine (G), cytosine (C), thymine (T). इंसानी डीएनए में लगभग 3 billion (300 करोड़) bases होते हैं और इन bases में से 99 प्रतिशत से ज्यादा bases सभी लोगों में एक जैसे होते हैं. इन bases का order या sequence एक जीव के बनाने और रखरखाव के लिए उपलब्ध जानकारी को निर्धारित करता है. ठीक वैसे ही जैसे किसी शब्द या वाक्य को पूरा करने के लिए alphabets दिखाई देते हैं.

DNA bases एक यूनिट बनाने के लिए एक दूसरे के साथ एक pair (जोड़ा) तैयार करते हैं जिन्हें base pairs कहा जाता है. A, T के साथ pair बनाता है और C, G के साथ pair बनाता है. प्रत्येक base एक sugar molecule और एक phosphate molecule से जुड़ा होता है. जब एक base, sugar और phosphate मिलते हैं तो इसे एक nucleotide कहा जाता है.

Nucleotides दो लंबे strands में व्यवस्थित होते हैं जो एक spiral बनाते हैं जिसे double helix (दोहरी कुंडली) कहा जाता है. दिखने में double helix का structure एक घुमावदार सीढ़ी की तरह होता है, जो base pairs के साथ सीढ़ी का डंडा बनाता है और sugar और phosphate molecules सीढ़ी के vertical side piece बनाते हैं.

डीएनए की सबसे खास बात यह होती है कि यह खुद को दोहराता है यानी खुद की copies तैयार करता है। डीएनए का प्रत्येक strand double helix में bases sequence के duplicating के लिए काम कर सकता है. कोशिकाओं के विभाजन के समय यह काफी महत्वपूर्ण कार्य होता है, क्योंकि प्रत्येक नई कोशिका को पुरानी कोशिका में मौजूद डीएनए की एक सटीक कॉपी (प्रतिलिपि) की आवश्यकता होती है।

यह भी पढ़ें:- RNA in Hindi | आर एन ए क्या है, संरचना, कार्य इत्यादि

डीएनए की खोज – Discovery of DNA in Hindi

ऐसा कहा जाता है की डीएनए की खोज James Watson और Francis Crick द्वारा 1950s के समय में हुई थी. लेकिन सच्चाई यह है की सबसे पहले डीएनए की खोज Friedrich Miescher द्वारा 1860s में ही हो गयी थी. उस समय इसका नाम Nuclein रखा गया था लेकिन डीएनए की ज्यादा जानकारी न होने के कारण इसके महत्व को नहीं समझा गया. डीएनए की Double Helix संरचना को James Watson और Francis Crick ने बताया था इस खोज के लिए 1962 में उन्हें नोबेल पुरस्कार भी मिला था. Albrecht Kossel नाम के जर्मन बायोकेमिस्ट ने 1881 में Nuclein को Nucleic Acid बताया और डीएनए को Deoxyribonucleic acid का नाम दिया. डीएनए को Albrecht Kossel ने पांच भाग एडेनिन, थाइमिन, गुआनिन, साइटोसिन और यूरेसिल में बांटा था. उनको इस कार्य के लिए वर्ष 1910 में रसायन का नोबेल पुरस्कार भी मिला था.

डीएनए की संरचना – Structure of DNA in Hindi

डीएनए न्यूक्लियोटाइड्स नामक अणुओं से बना होता है. हर एक न्यूक्लियोटाइड में एक फॉस्फेट ग्रुप, एक शुगर ग्रुप और एक नाइट्रोजन बेस होता है.

नाइट्रोजन बेस के चार प्रकार एडेनिन (ए), थाइमिन (टी), गुआनिन (जी) और साइटोसिन (सी) हैं. इन बेस का ऑर्डर डीएनए के इंस्ट्रक्शन या जेनेटिक कोड को निर्धारित करता है.

यू.एस. नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन (एनएलएम) के अनुसार, मानव डीएनए में लगभग 3 बिलियन बेस होते हैं, और 99 प्रतिशत से अधिक बेस सभी लोगों में समान हैं.

जिस तरह अल्फाबेट में अक्षर के आर्डर का प्रयोग करके शब्द बनाने के लिए किया जा सकता है, डीएनए सीक्वेंस में नाइट्रोजन के बेस का ऑर्डर जीन बनाता है. जो सेल की भाषा में कोशिकाओं को प्रोटीन बनाने के तरीके बताता है.

एक दूसरे प्रकार का न्यूक्लिक एसिड राइबो न्यूक्लिक एसिड या आरएनए, डीएनए से प्रोटीन में जेनेटिक जानकारी का अनुवाद करता है.

निकलो टाइड डबल हेलिक्स नाम का स्ट्रक्चर बनाने के लिए दो लंबे स्ट्रैंड के रूप में एक दूसरे के साथ स्पाइरल बनाते हैं. अगर आपको यह डबल हेलिक्स स्ट्रक्चर एक सीढी के जैसा लगता है तो फास्फेट और शुगर के अणु उसके साइड के रूप में होंगे. जबकि बेस उनके rung होंगे.

एक स्ट्रैंड के बेस दूसरे स्टैंड के साथ पेयर बनाते हैं. थाइमाइन के साथ एडेनिन पेयर बनाता है जबकि साइटोसिन के साथ guanine पेयर बनाता है.

डीएनए अणु लंबे होते हैं, इतने लंबे, वास्तव में, कि वे सही पैकेजिंग के बिना कोशिकाओं में फिट नहीं हो सकते हैं. कोशिकाओं के अंदर फिट होने के लिए, डीएनए को संरचनाओं को कसकर कुंडलित किया जाता है जिसे हम क्रोमोसोम कहते हैं.

प्रत्येक गुणसूत्र में एक एकल डीएनए अणु होता है. मनुष्य के 23 जोड़े गुणसूत्र होते हैं, जो कोशिका के नाभिक के अंदर पाए जाते हैं.

डीएनए के प्रकार – Types of DNA in Hindi

डीएनए, तीन प्रकार के होते हैं::

A – DNA (ए डीएनए)

A – DNA B – DNA के समान दायीं ओर कुंडलित होता है। निर्जलित डीएनए ए प्रकार का होता है, जो चरम स्थितियों के दौरान डीएनए की रक्षा करता है। प्रोटीन बाइंडिंग भी डीएनए से विलायक को हटाता है और ए प्रकार का डीएनए बनाता है। 

B – DNA (बी डीएनए)

यह सबसे आम डीएनए का प्रकार है; और दायीं ओर कुंडलित होता है। बी प्रकार के अधिकांश डीएनए की बनावट सामान्य शारीरिक स्थितियों के अनुसार होती है।

Z – DNA (जेड डीएनए)

जेड-डीएनए, बायीं ओर का डीएनए होता है, जहां जिग-ज़ैग पैटर्न में बायीं ओर द्विकुंडलित घुमाव होता है। यह जीन के प्रारंभिक स्थल से आगे पाया जाता है और इसलिए माना जाता है कि यह जीन के नियमन में कुछ भूमिका निभाता है। जेड-डीएनए की खोज एंड्रेस वांग और अलेक्जेंडर रिच ने की थी।

डीएनए के कार्य – Function of DNA in Hindi

जैसे कि अभी हमने आपको उपर बताया कि इसकी लंबाई धरती से सूरज तक 3 गुना लंबी होती हैं। 1 ग्राम डीएनए 713 बाइट तक डाटा स्टोर कर सकता है। दुनिया में 99.9 प्रतिशत लोगों का डीएनए एक समान होता है। डीएनए की संरचना डबल हेलिक्स कही जाती है। डीएनए मानव शरीर की सबसे महत्वपूर्ण इकाई है। डीएनए अनेक प्रकार के आरएनए का निर्माण करता है, जो प्रोटीन संश्लेषण की क्रिया में संचालन एवं नियंत्रण करते हैं। डीएनए का मुख्य कार्य जेनेटिक कोड का उपयोग कर प्रोटीन में एमिनो एसिड अवशेषों के अनुक्रम को एन्कोड करना है। चूंकि, प्रत्येक जीव के डीएनए में कई जीन होते हैं, इसलिए विभिन्न प्रकार के प्रोटीन बन सकते हैं। प्रोटीन, जीवों में मुख्य कार्यात्मक और संरचनात्मक अणु हैं। आनुवांशिक जानकारी संग्रहीत करने के अलावा, डीएनए के कार्य में यह भी शामिल हैं: जैसे कि

  • एक कोशिका से उसकी बेटियों तक और एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक आनुवांशिक जानकारी को स्थानांतरित करना
  • कोशिका विभाजन के दौरान डीएनए का समान वितरण
  • उत्तराधिकार
  • प्रतिलिपिकरण (ट्रैन्स्क्रिप्शन)
  • डीएनए फिंगरप्रिंटिंग (अंगुली-छाप)
  • कोशिकीय चयापचय

यह भी पढ़ें:- तंत्रिका कोशिका (neurons) | न्यूरॉन्स के संरचना और कार्य, प्रकार, संरचना इत्यादि

डीएनए संबंधी रोचक तथ्य – Facts about DNA in Hindi

  • यूरिन सैंपल और खून का इस्तेमाल गाल की कोशिकाओं का डीएनए परीक्षण करने के लिए किया जाता है।
  • मनुष्य के शरीर में उपस्थित डीएनए की संरचना केले, गोभी और चिंपैंजी के डीएनए जैसी होती है।
  • मनुष्य के शरीर में लगभग 10,000 से 10 लाख तक डीएनए प्रतिदिन नष्ट होते हैं और उसकी जगह नए बनते हैं।
  • सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि केवल एक चम्मच डीएनए में दुनिया की जितनी भी प्रजातियां हैं उनकी जानकारी हासिल की जा सकती हैं।
  • पुरे विश्व के इंटरनेट डाटा को सिर्फ 2 ग्राम DNA में स्टोर किया जा सकता है।
  • बीस हजार से पच्चीस हजार जीन मानव शरीर में उपस्थित होते हैं।
  • डीएनए मनुष्य की प्रत्येक कोशिका में होता है। जब कोशिकाएं विभाजित होती है तब डीएनए अपनी एक कॉपी बनाता है जिससे की दोनों तरह की कोशिकाओं में एक-एक डीएनए पहुँच सके।
  • यदि डीएनए को पूरी तरह से फैलाये तो 600 बार यह पृथ्वी से सूरज तक जाकर दोबारा आ सकता है।
  • सभी मनुष्यों का डीएनए 99.9 प्रतिशत सामान ही होता है।
  • सूर्य की UV किरणों से डीएनए नष्ट हो सकता है

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने डीएनए के बारे में जानकारी दिया है जैसे डीएनए क्या है, डीएनए के कार्य क्या है इत्यादि (DNA in Hindi)

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा अगर आपको हमारे आर्टिकल पसंद आता है या आप क्या कोई सवाल या जवाब है तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं धन्यवाद।