Blood in Hindi | रक्त क्या है, रक्त के कार्य क्या है इत्यादि

हमारे शरीर में रक्त एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका प्रकार की माला के मोतियों को एक धागा पिरोए रखता है उसी प्रकार हमारे शरीर के सभी अंगों को रक्त एक दूसरे से जोड़ने का कार्य करता है। रक्त हमारे शरीर में एक फ्यूल की तरह है जो निरंतर हमारे शरीर में संचालित होता रहता है अगर किसी कारणवश इसमें किसी भी प्रकार की कोई समस्या आती है तो हमें बीमारियां होने लगती। 

इसके साथ साथ ही रक्त हमारे शरीर में विभिन्न प्रकार के अहम कार्य करता है जैसे यह फेफड़ों से ऑक्सीजन लाकर सभी कोशिकाओं और ऊतकों तक पहुंचाता है इसके साथ ही रक्त में उपलब्ध श्वेत रक्त कोशिका में विभिन्न प्रकार की बीमारियों और संक्रमण से भी बचाती हैं अगर किसी व्यक्ति को कोई चोट लग जाए और उसका खून उसकी मौत भी हो सकती है लेकिन खून में उपलब्ध प्लेटलेट्स ऐसा होने नहीं देते और उस घाव पर खून का एक थक्का बना देते हैं जिससे खून बाहर ना निकल पाए और सही से ज्यादा खून बहना पाए।

हम इस आर्टिकल में रक्त के बारे में जानकारी देंगे जैसे कि रक्त क्या है, रक्त के कार्य क्या है इत्यादि (Blood in Hindi)

रक्त क्या है – What is Blood in Hindi?

images 15

रक्त हमारे जीवन के लिए अत्यंत आवश्यक होता है यह एक तरल पदार्थ है जो निरंतर हमारे शरीर में संचारित होता रहता है। रक्त शरीर को पोषण, ऑक्सीजन और अपशिष्ट हटाने की सुविधा प्रदान करता है। रक्त का ज्यादातर हिस्सा तरल होता है जिसमें कई प्रकार की प्रोटीन तथा कोशिकाएं मिली हुई होती है। इस कारण से ही रक्त पानी की तुलना में अधिक गाढ़ा होता है औसतन एक व्यक्ति के शरीर में 5 लीटर रक्त होता है।

रक्त में लगभग 50% प्लाज्मा होता है यह एक तरल सामग्री होती है जिसमें प्रोटीन होते हैं जो रक्त का थक्का बनने में मदद करते हैं रक्त के माध्यम से पदार्थ परिवहन करते हैं और अन्य कार्य करते हैं रक्त प्लाज्मा में ग्लूकोज और अन्य पोषक तत्व होते हैं।

रक्त लगभग 50% रक्त कोशिकाओं से बना होता है

  • लाल रक्त कोशिकाएं, यह ऊतकों तक ऑक्सीजन ले जाती हैं।
  • सफेद रक्त कोशिकाएं, यह संक्रमण से लड़ने में मदद करती हैं।
  • प्लेटलेट्स, छोटी कोशिकाएं जो रक्त का थक्का बनने में मदद करती हैं।

रक्त का पूरे शरीर में संचालन होता रहता है रक्त का वाहिकाओं(शिरा और धमनिया) के माध्यम से संचालन होता है। रक्त वाहिका काफी चिकनी होती है तथा इनमें कुछ विशेषता होती है जिस वजह से रक्त निरंतर संचालित होता रहता है रुकता नहीं है।

यह भी पढ़ें:- White blood cells in Hindi | श्वेत रक्त कोशिका क्या है, कार्य इत्यादि

रक्त के कार्य – Function of Blood in Hindi 

रक्त शरीर में प्रवाहित होने वाला एक विशिष्ट द्रव्य है इसके मुख्य रूप से चार घटक होते हैं प्लाज्मा, लाल रक्त कोशिकाएं, श्वेत रक्त कोशिकाएं और प्लेटलेट्स। रक्त के भिन्न-भिन्न कार्य होते हैं जो निम्नलिखित हैं

ऑक्सीजन का परिवहन करना

  • रक्त फेफड़ों से कोशिकाओं और ऊतकों ऑक्सीजन पहुंचाता है।

आवश्यक पोषक तत्वों का परिवहन करना

  • रक्त कोशिकाओं को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है जैसे अमीनो एसिड, फैटी एसिड और ग्लूकोस इत्यादि।

अपशिष्ट पदार्थों को हटाना

  • रक्त शरीर में से अपशिष्ट पदार्थ को भी बाहर निकालने का कार्य करता है जैसे कार्बन डाइऑक्साइड, यूरिया और लैक्टिक एसिड इत्यादि।

संक्रमण से बचाना

  • रक्त में मौजूद श्वेत रक्त कोशिकाएं विभिन्न प्रकार के रोगों और संक्रमण और से शरीर को बचाते हैं

तापमान को नियंत्रण में रखना

  • शरीर में रक्त के निरंतर संचालन के कारण ही शरीर में तापमान नियंत्रण में रहता है।

रक्त में मौजूद प्लेटलेट रक्त के थक्के या रक्त को जमने में मदद करता है जब रक्त स्राव होता है तो प्लेटलेट्स एक साथ मिलकर थक्का बनाते हैं और एक पपड़ी नमक संरचना बना देते हैं जिससे रक्त स्राव रुक जाता है और घाव का संक्रमण से भी बचाव होता है।

रक्त के प्रकार – Types of Blood in Hindi 

रक्त का प्रकार मुख्य रूप से वंशानुगत होता है मतलब यह विरासत में मिलता है कोशिकाओं की सतह पर कुछ दिन होते हैं जो कोशिकाओं को एक दूसरे से भिन्न बनाते हैं इन्हें एंटीजन भी कहते हैं यह प्रोटीन और शकरा के होते हैं इनका उपयोग शरीर कि रक्त कोशिकाओं को पहचानने के लिए किया जाता है। शरीर में दो मुख्य रक्त समूह ABO और Rh होते हैं।

ABO रक्त प्रणाली के चारे मुख्य प्रकार होते हैं

  • टाइप ए – इस प्रकार के ब्लड ग्रुप के एंटीजन को ए नाम से जाना जाता है।
  • टाइप बी – इस प्रकार के ब्लड ग्रुप के एंटीजन को बी नाम से जाना जाता है।
  • टाइप ए बी – इस प्रकार के ब्लड ग्रुप में ए और बी दोनों ही एंटीजन होते हैं।
  • टाइप ओ – इस प्रकार के ग्रुप में ना ही ए एंटीजन होता है और ना ही बी एंटीजन होता है।

इसके आगे रक्त को कौन हैं आरएच पॉजिटिव (इसमें आरएच फैक्टर है) और आरएच नेगेटिव(इसमें आरएच फैक्टर नहीं है) के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।

तो मुख्य रूप से रक्त के 8 संभावित प्रकार होते हैं

  1. O positive
  2. O negative
  3. A positive
  4. A negative
  5. B positive
  6. B negative
  7. AB positive
  8. AB negative

रक्त के घटक – Component of blood in Hindi

रक्त के मुख्य चार घटक होते हैं

  • प्लाज्मा
  • लाल रक्त कोशिकाएं
  • श्वेत रक्त कोशिकाएं
  • प्लेटलेट्स

प्लाज्मा

मनुष्य रक्त में लगभग 55% प्लाज्मा होता है प्लाज्मा में लगभग 92% पानी और शेष 8% निम्नलिखित सामग्री होती है

  • शकरा
  • हार्मोन
  • प्रोटीन
  • खनिज लवण
  • वसा
  • विटामिन

शेष 45% रक्त में मुख्य रूप से लाल रक्त कोशिकाएं, सफेद रक्त कोशिकाएं और प्लेटलेट्स होते हैं इनमें से प्रत्येक रक्त में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

लाल रक्त कोशिकाएं या एरिथ्रोसाइट्स

लाल रक्त कोशिकाएं पतली और डिस्क के आकार की कोशिकाएं होती हैं यह कोशिकाएं फेफड़ों से ऑक्सीजन प्रत्येक कोशिका तथा उत्तक में पहुंचाने का कार्य करते हैं। हिमोग्लोबिन एक प्रोटीन है जिसमें आयरन होता है और ऑक्सीजन को अपने गंतव्य स्थान तक पहुंचाता है एक लाल रक्त कोशिका का संपूर्ण जीवन काल 4 महीने का होता है और शरीर में नियमित रूप से लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन और विनाश होता रहता है मानव शरीर में लाल रक्त कोशिकाएं चारों ओर पैदा होती रहती हैं हर एक सेकंड लगभग 20 लाख कोशिकाएं उत्पन्न होती हैं।

एक बूंद रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या लगभग पुरुषों में 4.5 से लेकर 6.2 मिलीयन तक होती है और महिलाओं में यह संख्या 4 मिलियन से लेकर 5.2 मिलियन तक होती है। 

श्वेत रक्त कोशिकाएं, या ल्यूकोसाइट्स

श्वेत रक्त कोशिकाएं रक्त में लगभग 1% से भी कम होती हैं जो संक्रमण और बीमारी के खिलाफ महत्वपूर्ण सुरक्षा प्रदान करती हैं एक माइक्रोलीटर रक्त में श्वेत रक्त कोशिकाओं की संख्या लगभग 3700 से लेकर 10500 तक होती है। शरीर में श्वेत रक्त कोशिकाओं की कमी या बढ़ोतरी होने पर इसका सीधा असर हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है और विशेष रूप से अगर श्वेत रक्त कोशिकाओं की कमी हो जाए तो व्यक्ति को भिन्न भिन्न प्रकार की बीमारियां होने लगती हैं।

प्लेटलेट्स, या थ्रोम्बोसाइट्स

रक्त में प्लेटलेट्स होता है यह एक बहुत ही अहम भूमिका निभाता है जब किसी व्यक्ति को कोई चोट लगती है और वहां से निरंतर खून बहने लगता है तब शरीर से ज्यादा खून बह जाने के कारण उस व्यक्ति की मौत भी हो सकती है लेकिन प्लेटलेट्स ऐसा नहीं होने देते प्लेटलेट्स तुरंत चोट लगे हुए स्थान पर इकट्ठा हो जाते हैं और वहां पर रक्त का एक थक्का बना देते हैं जिससे घाव पर एक पपड़ी जम जाती है। और रक्त बहना बंद हो जाता है जिन लोगों को प्लेटलेट्स की कमी होती है अक्सर उन लोगों को विभिन्न प्रकार की बीमारियां होने लगती है। प्रति माइक्रोलीटर रक्त में लगभग 150000 से लेकर 400000 प्लेटलेट्स होती हैं।

रक्त की आवश्यकता क्यों है – Why blood is important in Hindi

हमारे शरीर में रक्त एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है यह हमारे पूरे शरीर को जोड़े रखने का कार्य करता है हमारे शरीर में रक्त ही एक ऐसी चीज है जो शरीर के एक अंग से दूसरे अंग तक आ जा सकता है। यह हमारे शरीर में एक फ्यूल की तरह कार्य करता है। 

अगर हमारे शरीर में रक्त की कमी हो जाए या हमें रक्त संबंधी कोई समस्या हो जाए तो उसके कारण हमें विभिन्न प्रकार के रक्त संबंधी रोग हो सकते हैं जैसे एनीमिया और रक्त का कैंसर इत्यादि। बिना रक्त हम अपने शरीर की कल्पना भी नहीं कर सकते। आप स्वयं सोच कर देखिए कि क्या कोई गाड़ी बिना किसी इंधन चल सकती है क्या नहीं ना। उसी प्रकार हमारा शरीर बिना रक्त नहीं चल सकता।

रक्त कोशिकाएं कहां से आती हैं? – Where do blood cells comes from in Hindi

शरीर में अस्थि मज्जा या बोन मैरो में लाल रक्त कोशिकाओं, सफेद रक्त कोशिकाओं और प्लेटलेट्स का उत्पादन होता है अस्थि मज्जा हड्डियों के केंद्र में एक नरम और स्पंजी पदार्थ होता है यहां शरीर की रक्त कोशिकाओं का लगभग 95% उत्पादन होता है। एक वयस्क शरीर में अधिकांश अस्थि मज्जा हड्डियों, स्तन की हड्डियों और रीड की हड्डी में होता है।

शरीर में कई अंग और अंग तंत्र हैं जो रक्त कोशिकाओं के संचालन में मदद करते हैं लिंफ नोड्स, प्लीहा और यकृत कोशिकाओं का उत्पादन, विनाश और डिफरेंटशिएशन में मदद करते हैं। 

अस्थि मज्जा के अंदर बनने वाली रक्त कोशिकाओं को स्टेम सेल कहा जाता है यह रक्त कोशिकाओं का पहला फेज है। यह कोशिकाएं धीरे-धीरे परिपक्व होती हैं कुछ कोशिकाएं परिपक्व होकर लाल रक्त कोशिकाएं कुछ सफेद रक्त कोशिकाएं और कुछ प्लेटलेट्स में शामिल हो जाती हैं। और जो स्टेम कोशिकाएं परिपक्व नहीं हो पाती उन्हें blasts कोशिकाएं कहते हैं इनमें से कुछ कोशिकाएं परिपक्व होने के लिए अस्थि मज्जा में रहती हैं जबकि कुछ कोशिकाएं यात्रा करके शरीर के अलग-अलग भागों में पहुंच जाते हैं और फिर वहां पर विकसित होती हैं।

रक्त लाल क्यों होता है? – Why blood colour is red in Hindi

रक्त को बिना किसी उपकरण देखने पर हमें यह लाल कलर का दिखाई देता है। ऐसा इसलिए नहीं क्योंकि यह वास्तव में लाल है बल्कि ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इसमें हीमोग्लोबिन होता है हिमोग्लोबिन रक्त में ऑक्सीजन के परिवहन का कार्य करता है और यह लोह से भरपूर होता है इसलिए इसका कलर लाल होता है।

इस संसार में सभी जीवो का रक्त लाल रंग का नहीं होता ऑक्टोपस, घोड़े के खुर और के कणों के खून का कलर नीला होता है ऐसा इसलिए है क्योंकि उनके रक्त में ऑक्सीजन ले जाने वाला प्रोटीन हेमोसायनिन है जो वास्तव में नीले रंग का होता है।

अत्यंत दुर्लभ रक्त का ग्रुप कौन सा है? – Rarest blood type in Hindi

यह कहना की सबसे दुर्लभ रक्त का ग्रुप कौन सा है काफी कठिन है क्योंकि ब्लड ग्रुप जेनेटिक या वंशानुगत होता है इसका मतलब ब्लड ग्रुप की संख्या घटिया बढ़ती रहती है लेकिन अमेरिका में हुए एक शोध के अनुसार एबी नेगेटिव ब्लड ग्रुप को सबसे दुर्लभ ब्लड ग्रुप माना गया है और ओ पॉजिटिव को सबसे सामान्य ब्लड ग्रुप माना गया है।  Stanford School of Medicine Blood Center के द्वारा पब्लिश 1 आर्टिकल की रिपोर्ट

  • AB-negative 0.6%
  • B-negative 1.5%
  • AB-positive 3.4%
  • A-negative 6.3%
  • O-negative 6.6%
  • B-positive 8.5%
  • A-positive 35.7%
  • O-positive 37.4%

Rhnull or “golden blood”

Rhnull ब्लड ग्रुप दुनिया का सबसे ज्यादा दुर्लभ ब्लड ग्रुप है इसमें किसी भी प्रकार के एंटीजेंस नहीं होते। यह इतना दुर्लभ है कि इसे गोल्डन ब्लड ग्रुप के नाम से भी जाना जाता है पूरी हर 700000 लोगों में से सिर्फ एक व्यक्ति का ही ब्लड ग्रुप गोल्डन ब्लड ग्रुप होता है। इस ब्लड ग्रुप पर साइंटिस्ट बहुत सारी रिसर्च कर रहे हैं कि यह दुनिया का सबसे ज्यादा यूनीक ब्लड ग्रुप क्यों है।

भारत में हुई एक रिसर्च के आंकड़े

  • O+ = 32.53%
  • O- = 2.03%
  • A+ = 21.8%
  • A- = 1.36%
  • B+ = 32.09%
  • B- = 2.01%
  • AB+ = 7.70%
  • AB- = 0.48%

इन सभी ब्लड ग्रुप के साथ-साथ भारत में बॉम्बे ब्लड  ग्रुप नाम का भी एक ब्लड  ग्रुप पाया जाता है और यह काफी दुर्लभ ब्लड ग्रुप है इस ब्लड ग्रुप में एंटीजन नहीं होता। यह ब्लड ग्रुप लगभग 10 लोगों में लोगों में से सिर्फ 4 लोगों काही ब्लड ग्रुप बॉम्बे ब्लड ग्रुप होता है। इस ब्लड ग्रुप की एक और विशेषता है कि यह ब्लड ग्रुप ज्यादातर बॉम्बे में रहने वाले लोगों में होता है इसलिए इसे बॉम्बे ब्लड ग्रुप भी कहते हैं।

रक्त संबंधी विकार – Blood related disease in Hindi

अगर किसी कारणवश हमारे रक्त में किसी प्रकार की कोई समस्या हो या शरीर में रक्त की कमी हो जाए तो हमें निम्नलिखित रक्त संबंधी रोग हो सकते हैं।

एनीमिया 

यह रक्त तब होता है जब शरीर में लाल रक्त कोशिकाएं या फिर हिमोग्लोबिन केसर की कमी हो जाए इसके लक्षण हैं थकान पीढ़ी त्वचा इत्यादि।

रक्त का थक्का जमना

रक्त के थक्के घाव और चोट को जल्दी से जल्दी ठीक करने में मदद करते हैं लेकिन रक्त वाहिकाओं के अंदर अगर रक्त के थक्के बन जाए तो यह शरीर के रक्त संचरण को प्रभावित कर सकते हैं रक्त के बहाव में रुकावट पैदा कर सकते हैं जिससे व्यक्ति का जीवन भी खतरे में आ सकता है ऐसी स्थिति होने पर व्यक्ति को हार्टअटैक भी आ सकता है।

रक्त का कैंसर

ल्यूकेमिया, मायलोमा और लिम्फोमा इस प्रकार के कैंसर तब होते हैं जब रक्त कोशिकाएं अपने जीवन चक्र के अंत में मरे बिना अनियंत्रित होकर शरीर में विभाजित होने लगती हैं।

हीमोफीलिया

यदि किसी व्यक्ति के रक्त में रक्त का थक्का बनाने वाले कारक कम हो जाए। मान ले कि उस व्यक्ति को कोई चोट लग जाती है तो उस व्यक्ति का खून घाव से बहना बंद ही नहीं होगा और ज्यादा खून बहने की वजह से उस व्यक्ति की मौत हो जाए।

सिकल सेल रोग 

यह रोग अनुवांशिक रोग होता है इस रोग में कोशिकाओं का आकार अर्ध चंद्रमा के आकार का होने लगता है यह एक गंभीर रोग है यह व्यक्ति के स्वास्थ्य को गंभीर रूप से प्रभावित करता है इस रोग की वजह से व्यक्ति का जीवन काल भी खतरे में आ सकता है।

थैलेसीमिया

यह भी एक प्रकार का वंशानुगत एनीमिया रोग है इस रोग में शरीर में हीमोग्लोबिन असामान्य रूप से पैदा होने लगता है और व्यक्ति के स्वास्थ्य को गंभीर रूप से प्रभावित करता है।

यह भी पढ़ें:- तंत्रिका कोशिका (neurons) | न्यूरॉन्स के संरचना और कार्य, प्रकार, संरचना इत्यादि

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने रक्त के बारे में जानकारी दिया है जैसे रक्त क्या है, रक्त के कार्य क्या है इत्यादि (Blood in Hindi)

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा अगर आपको हमारे आर्टिकल पसंद आता है या आप क्या कोई सवाल या जवाब है तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं धन्यवाद।