स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा | Stree ki kamottejana badhaane ki dawa

संभोग करने से जो एहसास होता है वह पवित्र और सुगम एहसास होता है परंतु आज के समय में पुरुष और महिलाओं में सेक्स संबंधी समस्याएं बहुत अधिक बढ़ गई हैं। पहले यह समस्याएं पुरुषों में अधिक होती थीं परंतु आजकल के समय में महिलाओं में भी सेक्स संबंधी समस्याएं होना काफी आम हो गया है। 

महिलाओं में कामोत्तेजना कम होना उचित नहीं है मोनोपॉज के बाद महिलाओं में कामोत्तेजना का कम होना सामान्य है परंतु आजकल 30 वर्ष की महिलाओं में भी कामोत्तेजना कम होने लगी है। महिलाओं में कामोत्तेजना की कमी होने के कई कारण हो सकते हैं यह कारण मानसिक और शारीरिक दोनों हो सकते हैं।

पुरुषों की कामोत्तेजना को बढ़ाने के लिए बाजार में अलग-अलग प्रकार के उत्पाद और दवाइयां उपलब्ध हैं परंतु महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने के लिए ज्यादा उत्पाद और दवाइयां उपलब्ध नहीं है।

इसलिए इस आर्टिकल में हम स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा के बारे में विस्तार पूर्वक पढेंगे जैसे कि स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा का दुष्प्रभाव क्या हैं और स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा का उपयोग कैसे करते हैं (stree ki kamottejana badhaane ki dawa)

स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा – Stree ki kamottejana badhaane ki dawai

how the pandemic is affecting sexual desire what to do

बाजार में मुख्य रूप से महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने के लिए एक पिंक वायग्रा नाम की दवा आती है यह महिलाओं को गर्म कर, योनि में कामोत्तेजना बढ़ाने का काम करती है। वैज्ञानिकों का दावा है कि इस दवाई का सेवन करने के बाद महिलाएं शारीरिक और मानसिक तौर पर संभोग के प्रति आकर्षित होने लगती हैं।

पिंक वायग्रा का सेवन संभोग करने से लगभग 3 से 4 घंटे पहले करना चाहिए यह दवाई एस्प्रिन की दवाई से भी छोटी होती है और इसके चारों ओर मिन्ट की कोटिंग होती है।

फ़्लिबानसेरिन को महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है वैसे तो इस दवाई को मुख्य रूप से एंटी डिप्रेशन गोली के रूप में विकसित किया गया था परंतु जब महिलाओं पर इसका प्रयोग किया गया तो पाया। कि यह महिलाओं में एक वायग्रा की तरह काम करता है यह मस्तिष्क में डोपामिन और सेरोटोनिन हार्मोन को संतुलित करने का काम करता है जब इस दवाई का टेस्ट किया गया तब पाया गया कि इस दवाई का व्यक्ति के मूड पर कोई खास प्रभाव नहीं था परंतु जिन जिन लोगों पर इस दवाई का टेस्ट किया गया उन लोगों में संभोग के प्रति रुचि बढ़ गई।

महिलाओं में कामोत्तेजना की कमी होने के कारण – Causes of low sexual desire in females in Hindi

महिलाओं में कामोत्तेजना की कमी होने के कई कारण हो सकते हैं यह कारण मानसिक और शारीरिक दोनों हो सकते हैं मुख्य रूप से कुछ मानसिक होते हैं जैसे 

  • गहरी चिंता होना
  • अवसाद होना
  • मन में किसी प्रकार का डर होना या संभोग के प्रति गलत दृष्टिकोण होना 
  • जबरदस्ती संभोग होना 
  • संभोग करते समय गंदा महसूस करना
  • संभोग के दौरान होने वाला दर्द और मनपसंद पुरुष से विवाह ना हो पाना।

इसके अलावा महिलाओं में कामोत्तेजना की कमी होने के कई शारीरिक कारण भी हो सकते हैं जैसे 

  • कोई रक्त विकार 
  • शारीरिक कमजोरी 
  • गर्भधारण के दौरान किसी प्रकार की समस्या 
  • कोई योनि संक्रमण 
  • बच्चे को दूध पिलाने में किसी प्रकार की समस्या होना इत्यादि।

यह भी पढ़ें:- मासिक धर्म (Periods): लक्षण, इलाज, और अन्य जानकारी

महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा को खाने के लिए कुछ सावधानियां – 

यह दवाइयां आम दवाइयों से अलग होती हैं इसलिए इन दवाइयों का उपयोग करते समय हमें कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। हमने नीचे कुछ टिप्स बताई है अगर आप इन सभी टिप्स को फॉलो करते हैं तो आपको महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा खाने के दुष्प्रभाव कम से कम होंगे।

उचित मात्रा में दवाई का उपयोग करें

आप हमेशा डॉक्टर की सलाह से दवाई का उपयोग करें तथा डॉक्टर से इस दवाई की खुराक के बारे में अच्छी तरीके से जान लें। यह दवाई आम तौर पर 3 से 4 घंटे के बाद ही असर दिखाना शुरू करती है इसलिए अगर आपको दवाई खाने की बात कोई फर्क मालूम नहीं चलता तो आप थोड़ा सा इंतजार करें दवाई को अधिक मात्रा में ना लें।

दवाई को समय पर खाएं

इस दवाई का उपयोग आप समय पर ही करें अगर आप इस दवाई का उपयोग संभोग करने से काफी ज्यादा टाइम पहले कर लेती है तो शायद संभोग करने तक इस दवाई का असर खत्म हो जाए आपको इस दवाई का उपयोग संभोग करने से 4 से 5 घंटे पहले करना चाहिए तभी यह दवाई अपना असर अच्छी तरीके से दिखा पाती है।

गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाएं सावधानियां रखें

गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाएं बिना डॉक्टर की सलाह इस दवाई का उपयोग ना करें ऐसा करना उनके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है तथा उनके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक हो सकता है।

एल्कोहल, तंबाकू और अन्य प्रकार के नशीले तत्वों से बचें

अगर आप कामोत्तेजना बढ़ाने वाली दवाई का उपयोग डॉक्टर की सलाह से कर रहे हैं। और आपको किसी प्रकार की नशे की लत है तो आप डॉक्टर को उसके बारे में अवश्य बताएं नहीं तो यह दवाई एल्कोहल तंबाकू और अन्य प्रकार के नशीले तत्वों के साथ प्रतिक्रिया कर सकती है।

इस दवाई का उपयोग जरूरत पड़ने पर ही करें 

बिना आवश्यकता इस दवाई का उपयोग ना करें अगर आपको किसी प्रकार की कामोत्तेजना संबंधी समस्या है तभी इस दवाई का प्रयोग करें अन्यथा अगर आप इस दवाई का प्रयोग करते हैं तो आपको इस दवाई की लत लग सकती है।

किसी और को ना दे

इस दवाई को किसी अन्य महिला के साथ शेयर ना करें क्योंकि दवाई के संभावित दुष्प्रभाव हैं जो उस महिलाओं को हो सकते हैं।

महिलाओं में कामोत्तेजना की कमी होने के दुष्प्रभाव 

महिलाओं में काम में तेज ना की कमी होने के कई दुष्प्रभाव हो सकते हैं और यह दुष्प्रभाव काफी गंभीर हो सकते हैं जिनमें से प्रमुख है

  • पार्टनर में लड़ाइयां होना 
  • पाटनर को संतुष्टि ना मिल पाना 
  • पाटनर का किसी अन्य महिला के साथ संबंध होना 
  • पार्टनर का चिड़चिड़ा हो जाना

महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने की दवाई खाने के दुष्प्रभाव – 

महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा का उपयोग करने के कुछ दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं जो निम्नलिखित हैं

  • सर दर्द होना 
  • उल्टी आना 
  • चक्कर आना 
  • तबीयत खराब होना 
  • बुखार आना 
  • सर्दी लगना एलर्जी 
  • रिएक्शन होना 
  • पेट में दर्द होना 
  • कब्ज होना
  • पाचन तंत्र खराब हो जाना

महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने के अन्य तरीके

महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने के कुछ अन्य तरीके भी हैं जिनको मुख्य रूप से दो भागों में वर्गीकृत किया गया है पहला खाद्य सामग्री और दूसरा क्रियाकलाप

  • महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने के लिए आप निम्नलिखित सामग्रियों का उपयोग करें तो महिलाओं में कामोत्तेजना जरूर बढ़ेगी।
  • खाने में लहसुन की मात्रा को बढ़ाने से महिलाओं में कामेच्छा की तीव्र इच्छा उत्पन्न होती है और यह सबसे आसान और घरेलू उपाय है।
  • इसके अलावा आप महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने के लिए अनार के जूस केसर सेब इत्यादि का भी प्रयोग कर सकते हैं इन सभी चीजों को खाने से भी महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ती है।

इसके अलावा आप कुछ क्रियाकलाप भी कर सकते हैं जैसे

  • योगा करना: अगर आप नियमित रूप से योगा करें और हल्की-फुल्की अपनी डाइट का ध्यान रखें तो आपको लाभ अवश्य होगा नियमित रूप से योगा करने से शरीर रिलैक्स होता है और मन को शांति मिलती है और संभोग करने का भी मन अधिक होता है
  • संभोग करने के दौरान अपने पार्टनर को गर्दन पर चूमना माथे पर चूमना पार्टनर को कसकर गले लगाना इत्यादि क्रियाकलाप करने से महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ती है।

यह भी पढ़ें:- गर्भवास्था (Pregnancy) के बारे में जानकारी

महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने की दवाई का उपयोग कैसे करें

महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा को आप सामान्य दवा की तरह खा सकते हैं आप इसे खाना खाने के बाद प्रयोग करें और इस बात का विशेष ध्यान रखें कि जब भी आप संभोग करने वाले हो उससे 3 से 4 घंटे पहले आपको महिलाओं में कामोत्तेजना बढ़ाने की दवाई का प्रयोग करना है। यह दवाई आमतौर पर 3 से 4 घंटों में अपना असर दिखाती है।

निष्कर्ष 

इस आर्टिकल में हमने स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा के बारे में जानकारी दिया है जैसे कि स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा का दुष्प्रभाव क्या हैं और स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा का उपयोग कैसे करते हैं (stree ki kamottejana badhaane ki dawa)

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा अगर आपको हमारे आर्टिकल पसंद आता है या आप क्या कोई सवाल या जवाब है तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं धन्यवाद।