प्रोटीन पाउडर के फायदे और नुकसान | Protein powder ke fayde or nuksaan

आजकल जिम जाकर बॉडी बनाना एक बड़ा ही फैशन सा बन गया है इसके लिए आजकल नौजवान प्रोटीन पाउडर का उपयोग करते हैं और बहुत सारे नौजवान इस दुविधा में रहते हैं कि क्या प्रोटीन पाउडर का उपयोग करना सही है या नहीं? इसलिए आज हम प्रोटीन पाउडर के विषय में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे और सभी नौजवानों के मन में उठ रहे इस प्रश्न का जवाब देंगे कि क्या आपको प्रोटीन पाउडर का उपयोग करना चाहिए या नहीं, अगर हां तो क्यों और नहीं तो क्यों नहीं?

इस आर्टिकल में प्रोटीन पाउड के बारे में जानकारी देंगे जैसे कि प्रोटीन पाउडर के फायदे और नुकसान इत्यादि (Protein powder ke fayde or nuksaan)

Table of Contents

प्रोटीन पाउडर क्या है – What is Protein Powder in Hind

images 23

प्रोटीन पाउडर प्रोटीन का ही एक रूप है यह पाउडर के रूप में उपलब्ध होता है प्रोटीन पौधे जैसे (सोयाबीन मटर चावल आलू आदि) तथा अंडे और दूध जैसे आहार से प्राप्त होता है। प्रोटीन दो प्रकार का होता है कैसीन (Casein) प्रोटीन और वे (Whey) प्रोटीन।

प्रोटीन पाउडर में प्रोटीन के साथ-साथ अन्य इनग्रेडिएंट भी होते हैं जैसे शुगर, फ्लेवर, विटामिन और मिनरल्स। एक स्कूप में आमतौर पर 10 से 30 ग्राम प्रोटीन आता है। प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल बॉडीबिल्डिंग, फिजिकल फिटनेस और वजन घटाने जैसे कार्यों के लिए किया जाता है। 

हमारे शरीर के लिए आवश्यक पांच तत्वों में से प्रोटीन भी एक तत्व है इसलिए यह हमारे शरीर के लिए काफी आवश्यक होता है। अक्सर सभी जिम करने वाले युवा हेवी वर्क आउट के साथ-साथ प्रोटीन पाउडर आदि का इस्तेमाल करते हैं अपने शरीर को हष्ट पुष्ट बनाने के लिए।

जब कोई व्यक्ति जिम में एक्सरसाइज और हैवी वर्क आउट करता है तब उसके शरीर में मांसपेशियां टूटती है और इन सभी मांसपेशियों को जोड़ने का काम प्रोटीन का होता है इसलिए बॉडी बनाने के लिए प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़ें:- True herbs Superfood Supplement benefits in Hindi

प्रोटीन पाउडर के प्रकार – Type of protein powder in Hindi

प्राथमिक रूप से प्रोटीन पाउडर के तीन प्रकार होते हैं

  • व्हे प्रोटीन कंसंट्रेटेड (Whey protein concentrated)
  • व्हे प्रोटीन आइसोलेट (Whey protein isolate)
  • व्हे प्रोटीन हाइड्रोलाइजेट (Whey protein hydrolysate)

व्हे प्रोटीन कंसंट्रेटेड (Whey protein concentrated)

इस प्रकार के प्रोटीन में फैट और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बहुत कम होती है। इसमें प्रोटीन की मात्रा इसकी कंसंट्रेशन पर निर्भर करती है आमतौर पर इसमें प्रोटीन की मात्रा 30% से लेकर 90% होती है।

व्हे प्रोटीन आइसोलेट (Whey protein isolate)

इस प्रकार के प्रोटीन में सिर्फ प्रोटीन होता है प्रोटीन को प्रोसेस करके फैट तथा लेक्टोलस को हटा दिया जाता है आमतौर पर इसमें 90% तक प्रोटीन होता है।

व्हे प्रोटीन हाइड्रोलाइजेट (Whey protein hydrolysate)

इस प्रकार के प्रोटीन को हाइड्रोलाइसिस प्रोसेस द्वारा गुजारा जाता है इसलिए इस प्रकार का प्रोटीन शरीर में आसानी से अवशोषित हो जाता है। 

व्हे प्रोटीन हाइड्रोलाइजेट को आमतौर पर मेडिकल प्रोटीन सप्लीमेंट बनाने में इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि यह पाचन तंत्र को बढ़ाता है और इस प्रोटीन पाउडर के दुष्प्रभाव भी बहुत कम होते हैं।

प्रोटीन पाउडर का उपयोग – Protein powder ke fayde

आजकल के युवा प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल जिम में बॉडी बनाने के लिए करते हैं क्योंकि प्रोटीन का मुख्य कार्य है हमारे शरीर का विकास करना। हमारे शरीर को 5 पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है जिनमें से एक प्रोटीन भी है प्रोटीन की कमी के कारण कई प्रकार की बीमारियां हो सकती हैं। और प्रोटीन पाउडर का उपयोग कई प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए तथा स्वस्थ रहने के लिए भी किया जाता है।

वजन घटाना

कई लोग प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल वजन घटाने के लिए भी करते हैं क्योंकि प्रोटीन शरीर के विकास तथा स्वस्थ रहने के लिए मदद करता है और वजन घटाने में भी मदद करता है।

बॉडी बनाना

प्रोटीन पाउडर का सबसे प्रचलित उपयोग है कि नौजवान बॉडी बिल्डिंग के लिए इसका उपयोग करते हैं क्योंकि यह बॉडी बनाने में मदद करता है और शरीर के मसल आदि के विकास में मदद करता है।

स्वस्थ रहना

प्रोटीन हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है इसलिए कई लोग सिर्फ स्वस्थ रहने के लिए ही नियमित रूप से प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल करते हैं।

शारीरिक विकास

प्रोटीन हमारे शरीर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण तत्व है हमारे शरीर में बहुत सारे कार्य प्रोटीन की मदद से होते हैं और प्रोटीन हमारे शरीर के विकास तथा वृद्धि में मदद करता है।

बीमारियों के इलाज

प्रोटीन पाउडर का उपयोग अलग-अलग प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए भी किया जाता है जैसे ब्लड तथा शुगर को नियंत्रण में रखने के लिए भी प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल किया जाता है और किडनी से संबंधित बीमारियों वाले मरीज को भी प्रोटीन पाउडर उपयोग करने के लिए कहा जाता है ऐसा करने से बिमारी जल्दी ठीक हो जाती है।

प्रोटीन पाउडर के दुष्प्रभाव – Protein powder ke nuksaan

आमतौर पर सामान्य मात्रा में प्रोटीन पाउडर का उपयोग करने पर किसी भी प्रकार के कोई दुष्प्रभाव नहीं होते हैं अगर आपको प्रोटीन या दूध से किसी प्रकार की एलर्जी ना हो तो। परंतु अगर कोई व्यक्ति बहुत अधिक मात्रा में प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल करें तो उसे निम्नलिखित लक्षण महसूस हो सकते हैं।

  • पेट में तेज दर्द
  • पेट में ऐठन होना
  • शरीर का कमजोर हो जाना
  • जी मचलाना 
  • सिर दर्द होना 
  • थकान महसूस होना 

अक्सर व्हे प्रोटीन की अधिक मात्रा का सेवन करने पर लोगों को मुंहासे होने लगते हैं। हां कई बार शुरुआत में प्रोटीन पाउडर का उपयोग करने पर निम्नलिखित दुष्प्रभाव हो सकते हैं परंतु अगर आपको लंबे समय तक और असामान्य दुष्प्रभाव हो रहे हैं तो आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए।

प्रोटीन पाउडर का मूल्य – Price of Protein Power in Hindi

प्रोटीन पाउडर का मूल्य, प्रोटीन पाउडर के प्रकार उसकी क्वालिटी, मात्रा और ब्रांड के अनुसार तय किया जाता है। आपको अलग अलग ब्रांड के अलग-अलग प्रोटीन पाउडर अलग-अलग मूल्य में प्राप्त होंगे। कुछ मशहूर ब्रांड के प्रोटीन पाउडर का मूल्य बहुत अधिक होता है जबकि कुछ प्रोटीन पाउडर सामान्य बजट में आ जाते हैं।

प्रोटीन पाउडर का सेवन कैसे करें – How to Take Protein Power in Hindi

प्रोटीन पाउडर का सेवन आप अपनी मर्जी से किसी भी प्रकार कर सकते हैं परंतु प्रोटीन पाउडर का सेवन अगर सही ढंग से किया जाए तो उसका अधिक लाभ होता है। 

सामान्य व्यक्ति जो अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए प्रोटीन पाउडर का उपयोग करता है वह दूध या पानी के साथ प्रोटीन पाउडर का सेवन कभी भी कर सकता है।

जो व्यक्ति बॉडी बिल्डिंग के लिए प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल कर रहा है उसे प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल सही ढंग से करना चाहिए इससे उसे रिजल्ट अच्छे और जल्दी प्राप्त होंगे।

प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल एक्सरसाइज करने से पहले या एक्सरसाइज करने के कुछ समय बाद करना चाहिए। इसका उपयोग सामान्य दूध तथा पानी के साथ किया जा सकता है ऐसा करने से किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होगी परंतु अगर दूध के साथ प्रोटीन का उपयोग किया जाए तो ज्यादा लाभदायक होगा।

प्रोटीन पाउडर कब लेना चाहिए – When to take Protein Power in Hindi

प्रोटीन पाउडर का उपयोग किस समय करना चाहिए यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप प्रोटीन पाउडर का उपयोग किस कार्य के लिए कर रहे हैं।

अगर आप एक साधारण व्यक्ति हैं और आप अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए प्रोटीन का उपयोग करते हैं तो आप अपने खाद्य सामग्री में प्रोटीन पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। आप खाना खाने के बाद प्रोटीन पाउडर का उपयोग कर सकते हैं तथा इसके साथ थोड़ी बहुत हल्की फुल्की एक्सरसाइज भी  करें तो आपके लिए बहुत लाभदायक होगा।

अगर आप एक बॉडीबिल्डर हैं और अपने शरीर को मस्कुलर बनाना चाहते हैं तो आप प्रोटीन पाउडर को एक्सरसाइज करने से पहले भी ले सकते हैं तथा प्रोटीन पाउडर का उपयोग एक्सरसाइज करने के बाद भी कर सकते हैं।

प्रोटीन पाउडर कैसे बनाया जाता है – How Protein Powder is Made in Hindi

प्रोटीन पाउडर एक डाइटरी सप्लीमेंट है। अंडे, डेरी प्रोडक्ट्स, चावल और दाल आदि सभी में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन होता है और मशीनों द्वारा इस प्रोटीन को प्रोसेस कर करके ही प्रोटीन पाउडर का निर्माण किया जाता है। शाकाहारी चीजों में प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत दाल तथा दूध है और मांसाहारी चीजों में तो अनेकों चीज है जिनमें प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता हैं। जैसे मांस, मछली और अंडा

प्रोटीन पाउडर के इनग्रेडिएंट – Ingredients of Protein Power in Hindi

प्रोटीन पाउडर में सिर्फ प्रोटीन ही नहीं होता इसके अलावा प्रोटीन पाउडर में अलग-अलग प्रकार के तत्व भी होते हैं। प्रोटीन हमें कई चीजों से मिल सकता है जैसे सोयाबीन, मटर, आलू, चावल, अंडा और दूध। प्रोटीन पाउडर में प्रोटीन के अलावा शुगर, आर्टिफिशियल फ्लेवर, विटामिंस एंड मिनरल्स भी होते हैं।

किसे प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए – Who should not take Protein Power in Hindi

कुछ लोगों को प्रोटीन पाउडर का उपयोग करने पर किसी प्रकार की कोई भी समस्या नहीं होती परंतु कुछ लोगों को प्रोटीन पाउडर का उपयोग करने पर दुष्प्रभाव होने लगते हैं। विशेषकर उन लोगों को जिनको दूध से एलर्जी होती है तो ऐसे लोग जिन्हें दूध से एलर्जी है वह प्रोटीन पाउडर का उपयोग ना करें तथा जिन लोगों को किडनी संबंधी समस्या है वह लोग प्रोटीन पाउडर का उपयोग करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से सलाह ले लें।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने प्रोटीन पाउडर के बारे में जानकारी दिया है जैसे कि प्रोटीन पाउडर के फायदे और नुकसान इत्यादि (Protein powder ke fayde or nuksaan)

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा अगर आपको हमारे आर्टिकल पसंद आता है या आप क्या कोई सवाल या जवाब है तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं धन्यवाद।

प्रोटीन पाउडर एक्सरसाइज से पहले लें या बाद में?

प्रोटीन पाउडर का उपयोग आप एक्सरसाइज करने से पहले भी ले सकते हैं तथा एक्सरसाइज करने के बाद भी कर सकते हैं परंतु रिसर्च में पता चला है एक्सरसाइज करने के कुछ समय बाद प्रोटीन का उपयोग करना हमारे शरीर के लिए ज्यादा लाभकारी है।

क्या प्रोटीन पाउडर से किडनी खराब होती है?

नहीं, अभी तक की हुई शोध और रिसर्च बताते हैं कि अधिक मात्रा में प्रोटीन किडनी को ख़राब नहीं करता है इसलिए अधिक मात्रा में प्रोटीन पाउडर का उपयोग करने पर किडनी से जुड़ी गंभीर समस्याएं नहीं होती हैं।

किडनी पेशेंट को प्रोटीन बढ़ाने के लिए कौन सा पाउडर इस्तेमाल करना चाहिए?

किडनी पेशेंट को प्रोटीन की कमी होने पर प्रोटीन पाउडर की आवश्यकता पड़ती है इसलिए व्यक्ति कोई अच्छी कंपनी का प्रोटीन पाउडर‌ का उपयोग कर सकता है इससे शरीर में प्रोटीन की कमी की पूर्ति होगी और व्यक्ति जल्दी ठीक हो जाएगा।

किडनी पेशेंट को प्रोटीन बढ़ाने के लिए कौन सा पाउडर इस्तेमाल करना चाहिए?

किडनी पेशेंट को प्रोटीन की कमी होने पर प्रोटीन पाउडर की आवश्यकता पड़ती है इसलिए व्यक्ति कोई अच्छी कंपनी का प्रोटीन पाउडर‌ का उपयोग कर सकता है इससे शरीर में प्रोटीन की कमी की पूर्ति होगी और व्यक्ति जल्दी ठीक हो जाएगा।

जिम करने वाले व्यक्ति को देसी चीजें खानी चाहिए या प्रोटीन पाउडर का प्रयोग करना चाहिए?

जिम करने वाले व्यक्ति को हमेशा प्रोटीन युक्त आहार का सेवन करना चाहिए – ऐसे आहार में प्रोटीन भरपूर मात्रा में होता है। ऐसा करने से उसे नाही प्रोटीन पाउडर की आवश्यकता पड़ेगी और ना ही किसी अन्य चीज की।

क्या होम्योपैथिक दवाइयों के साथ प्रोटीन पाउडर का सेवन किया जा सकता है।

हां, होम्योपैथिक दवाइयों के साथ प्रोटीन पाउडर का सेवन किया जा सकता है क्योंकि होम्योपैथिक दवाइयां किसी भी प्रकार की दवाइयों के साथ प्रतिक्रिया नहीं करती हैं।

प्रोटीन पाउडर के एक चम्मच में कितना प्रोटीन होता है?

प्रोटीन पाउडर के एक चम्मच में कितना प्रोटीन होता है यह बात चम्मच के साइज तथा प्रोटीन पाउडर पर निर्भर करती है क्योंकि प्रोटीन पाउडर में 30% से लेकर 90% तक  प्रोटीन पाउडर होता है। तथा सभी प्रोटीन पाउडर में प्रोटीन पाउडर का उपयोग करने के लिए एक प्लास्टिक का चम्मच उपलब्ध होता है जिसे स्कूप बोला जाता है।

क्या प्रोटीन पाउडर का उपयोग करने पर पिंपल हो जाते हैं?

हां कुछ लोगों को प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल करने पर पिंपल होने रखते हैं ऐसा इसलिए होने लगता है क्योंकि व्यक्ति अधिक मात्रा में प्रोटीन पाउडर का उपयोग करता है या फिर वह प्रोटीन पाउडर उस व्यक्ति को सूट नहीं कर रहा है।

क्या जुखाम और खांसी में प्रोटीन पाउडर पी सकते हैं?

हां जुखाम तथा खांसी में प्रोटीन पाउडर का उपयोग कर सकते हैं कोई भी समस्या नहीं होगी परंतु अगर आपको कोई भी समस्या होती है तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

References

The hidden dangers of protein powders. (2020, April 10). Harvard Health. https://www.health.harvard.edu/staying-healthy/the-hidden-dangers-of-protein-powders

Leonard, J. (n.d.). Health benefits of protein powder. Medical and health information. https://www.medicalnewstoday.com/articles/323093

Atli Arnarson. (n.d.). 10 evidence-based health benefits of whey protein. Healthline. https://www.healthline.com/nutrition/10-health-benefits-of-whey-protein

Reduced resting skeletal muscle protein synthesis is rescued by resistance exercise and protein ingestion following short-term energy deficit. (15, April). American Journal of Physiology-Endocrinology and Metabolism. https://journals.physiology.org/doi/full/10.1152/ajpendo.00590.2013

A systematic review, meta-analysis and meta-regression of the effect of protein supplementation on resistance training-induced gains in muscle mass and strength in healthy adults. British Journal of Sports Medicine https://bjsm.bmj.com/content/early/2018/01/18/bjsports-2017-097608

Adverse effects associated with protein intake above the recommended dietary allowance for adults. (2013, July 18). Publishing Open Access research journals & papers | Hindawi. https://www.hindawi.com/journals/isrn/2013/126929/

Appendix 7. Nutritional goals for age-sex groups based on dietary reference intakes and dietary guidelines recommendations. (n.d.) health.gov https://health.gov/dietaryguidelines/2015/guidelines/appendix-7/