बवासीर में दूध पीना चाहिए या नहीं | Can people with piles drink milk in Hindi

बहुत सारे लोगों को ऐसा लगता है कि बवासीर होने पर दूध पीना हमारी सेहत के लिए काफी हानिकारक होता है या फिर दूध पीने से बवासीर बढ़ जाएगा, नहीं तो बवासीर में पीप बनने लगेगा या फिर किसी अन्य प्रकार की समस्या होने लगेगी। 

हम इस आर्टिकल में बवासीर में दूध पीने के बारे में जानकारी देंगे जैसे कि बवासीर में दूध पीना चाहिए या नहीं इत्यादि (bawasir mein doodh peena Chahiye ya nahi)

क्या बवासीर होने पर दूध पीना चाहिए – Can we drink milk during piles in Hindi?

hemorrhoids 2790200 960 720

आमतौर पर दूध पीने से बवासीर में गंभीर समस्याएं नहीं होती परंतु जिन लोगों को बवासीर की समस्या है उन्हें डॉक्टरों द्वारा दूध पीने के लिए मना किया जाता है क्योंकि रिसर्च में ऐसा देखा गया है कि ज्यादातर लोगों को दूध पीने से गैस की समस्या होने लगती है जिसकी वजह से बवासीर और अधिक बढ़ जाता है।

कई मामलों में ऐसा देखा जाता है कि लोगों को दूध पीने से गैस बनना और पाचन तंत्र में गड़बड़ी जैसी समस्याएं होने लगती हैं और अधिक गैस बनने के कारण उन्हें बवासीर की तकलीफ बढ़ने लगती है इसलिए अगर आपको भी दूध पीने से गैस बनती है या बवासीर बढ़ने लगता है तो दूध ना पिए और अगर आपको दूध पीने से किसी प्रकार की समस्या नहीं होती तो आप दूध पी सकते हैं।

वैसे तो दूध की वजह से आमतौर पर गैस या कब्ज की समस्या नहीं होती है परंतु जिन लोगों का पाचन तंत्र कमजोर होता है उन्हें दूध को पचाने में बड़ी समस्या आती है क्योंकि दूध में रेशे या फाइबर बहुत कम होते हैं जिसकी वजह से बवासीर में इसका सेवन करने से कब्ज और गैस बनने की समस्या होने लगती है अगर किसी व्यक्ति को बवासीर के दौरान कब्ज या गैस हो जाए तो फिर यह उस व्यक्ति को काफी तकलीफ दे सकता है इसलिए बवासीर में कभी भी दूध का सेवन या दूध से बनी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।

Note :- बवासीर में दूध पीना नुकसानदेह हो सकता है परंतु अगर फुल क्रीम या अमूल दूध (अधिक क्रीम वाला दूूध) के स्थान पर टोंड दूध का इस्तेमाल किया जाए तो यह नुकसान नहीं करता.

टोंड दूध से हमारा तात्पर्य है कि ऐसा दूध जिसमें फैट बिल्कुल ना हो. ऐसे दूध को तैयार करने के लिए आप दूध को गर्म करें और उसमें से मलाई निकाल ले फिर दोबारा गर्म करें और फिर मलाई निकाल ले यह प्रोसेस दो तीन बार करने पर टोंड दूध तैयार हो जाता है। इस प्रकार के दूध को बवासीर से ग्रस्त मरीज उपयोग कर सकता है।

दही :- अगर आप दही का प्रयोग करना चाहते हैं तो बाजार के दही का प्रयोग ना करें घर पर ही दही जमाए और उसका प्रयोग करें। दही का अधिक सेवन ना करें हल्का-फुल्का सेवन करने से बवासीर में कोई समस्या नहीं हो और घर के बनाए दही का ही प्रयोग करें।

डेयरी उत्पाद से कब्ज क्यों होता है – Why does Dairy products cause Constipation

आजकल ज्यादातर लोग डेयरी उत्पाद का प्रयोग करते हैं परंतु आज के समय में मिलावट काफी हद तक बढ़ गई है जिसकी वजह से हर चीज में मिलावट हो रही है इसलिए मिलावटी दूध पीने से बीमारियां बढ़ती हैं और बवासीर की समस्या तो काफी हद तक बढ़ जाती है।

  • दूध को खराब होने से बचाने के लिए दूध को कई मशीनों द्वारा प्रोसेस किया जाता है जिसकी वजह से इसमें कई केमिकल को मिलाया जाता है और कई पोषक तत्वों को हटा दिया जाता है और इन केमिकल के रिएक्शन करने की वजह से भी कब्ज की समस्या होने लगती है।
  • दूध और दूध से बनी चीजों में काफी गुणकारी पोषक तत्व होते हैं और दूध एक ऐसा तत्व है जो आसानी से नहीं पचता, दूध को बिना पानी मिलाएं पीने से पेट खराब होने की समस्या होने लगती है।
  • इसके साथ साथ ही गाय-भैंसों द्वारा दूध का उत्पादन बढ़ाने के लिए अलग-अलग विधियों का प्रयोग किया जाता है जिनमें कुछ विधियों में जानवरों को केमिकल के इंजेक्शन लगाए जाते हैं जिसकी वजह से जानवर अधिक दूध देने लगते हैं परंतु यह दूध हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी ज्यादा हानिकारक होता है और इससे कब्ज बनने की समस्या काफी हद तक बढ़ जाती है।
  • दूध में लेक्टोज होता है और कई लोगों में लैक्टिक एंजाइम की कमी होती है जिसकी वजह से लोग लेक्टोज को पचा नहीं पाते और उन्हें कब्ज हो जाता है।

यह भी पढ़ें:- Aarskog–Scott syndrome क्या है | Aarskog–Scott syndrome की जानकारी

क्या बवासीर में हल्दी वाला दूध पीना चाहिए – Is turmeric milk good in piles in Hindi

वैसे तो हल्दी बहुत ही गुणकारी औषधि और मसाला है तथा इसे कई प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए भी उपयोग में लाया जाता है इसमें ऐसी गुणकारी एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज होती हैं जो किसी भी बीमारी को जल्दी ठीक करने में मदद करती हैं।

इसलिए जब किसी व्यक्ति को चोट लगती है या कमजोरी महसूस होती है तब उसे हल्दी वाला दूध पीने के लिए कहा जाता है।

परंतु क्या बवासीर में हल्दी वाला दूध पीना उचित है? जिन लोगों को दूध पीने से एलर्जी है या दूध पीने से उल्टी होने लगती है उन लोगों को दूध बिल्कुल नहीं पीना चाहिए इसके साथ साथ ही वे लोग जिन्हें दूध पीने पर बवासीर में तकलीफ बढ़ने लगती है वह हल्दी वाले दूध का इस्तेमाल बिल्कुल ना करें।

परंतु जिन लोगों को दूध पीने से बवासीर में आराम मिलता है वह लोग दूध में हल्दी डालकर पी सकते हैं दूध में हल्दी डालकर नियमित रूप से नहीं पीनी चाहिए आप हर 2 दिन में एक गिलास दूध में एक चम्मच या आधी चम्मच हल्दी पाउडर डालकर पी सकते हैं।

दूध में हल्दी डालकर पीने से कुछ लोगों को राहत मिलती है अच्छा महसूस होता है और बवासीर भी ठीक होने लगता है जबकि कुछ लोगों को यह नुकसान भी करने लगता है इसलिए आप हल्दी वाला दूध पी कर देखें और अगर आपको किसी भी प्रकार की कोई समस्या हो रही है तो फिर हल्दी वाले दूध को ना पिए।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने बवासीर में दूध पीने के बारे में जानकारी दिया है जैसे कि बवासीर में दूध पीना चाहिए या नहीं इत्यादि (bawasir mein doodh peena Chahiye ya nahi)

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा अगर आपको हमारे आर्टिकल पसंद आता है या आप क्या कोई सवाल या जवाब है तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं धन्यवाद।

References

Practo. (2018, December 29). Piles or fissures. – Is drinking milk harmful for the patients https://www.practo.com/consult/piles-or-fissures-is-drinking-milk-harmful-for-the-patients-suffering-from-piles-and-fissures-apart-from-green/q

Hemorrhoids | Piles | MedlinePlus. (n.d.). MedlinePlus – Health Information from the National Library of Medicine. https://medlineplus.gov/hemorrhoids.html

Hemorrhoids: From basic pathophysiology to clinical management – PMC. (n.d.). National Center for Biotechnology Information. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3342598/