बाजरे की रोटी के फायदे और नुकसान | Bajre ki roti ke Fayde aur Nuksan

भारत में कई प्रकार के अनाज उगाए जाते हैं जैसे गेहूं, चावल, मटर, मकई, बाजरा इत्यादि इत्यादि भारत के ज्यादातर हिस्सों में गेहूं से बनी हुई रोटी का सेवन किया जाता है, परंतु बहुत सी जगहों पर गेहूं की नहीं बल्कि बाजरे की रोटी का प्रयोग किया जाता है। क्या आप जानते हैं? कि बाजरे की रोटी खाना स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक होता है बाजरे की रोटी आम रोटी के मुकाबले अधिक ताकतवर होती है बाजरे की रोटी में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं बाजरे की रोटी खाने के अनेकों लाभ होते हैं जिनके बारे में हमने आज इस आर्टिकल में बताया है।

इस आर्टिकल में हम बाजरे की रोटी के बारे में बात करेंगे और बाजरे की रोटी के बारे में सभी जानकारी प्रदान करेंगे जैसे कि बाजरे की रोटी के फायदे (Bajre ki roti ke Fayde), बाजरे की रोटी के नुकसान (Bajre ki roti ke Nuksan

बाजरे की रोटी खाने के लाभ – Benefits Of Bajre ki Roti In Hindi

बाजरे की रोटी के फायदे और नुकसान | Bajre ki roti ke Fayde aur Nuksan

बाजरा बहुत सारे पोषक तत्वों से भरपूर होता है। भारत के बहुत सारे राज्यों में बाजरे का सेवन किया जाता है बाजरा हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। बाजरे की रोटी खाने के मुख्य लाभ निम्नलिखित हैं।

डायबिटीज से बचाव के लिए

बाजरे की रोटी खाने से डायबिटीज नियंत्रण में रहती है तथा डायबिटीज से बचाव के लिए भी बाजरे का उपयोग किया जाता है क्योंकि बाजरे में प्रचुर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट होता है जो बहुत धीरे-धीरे पचता है जिसकी वजह से शरीर में ग्लूकोज का स्तर काफी लंबे समय तक के लिए नियंत्रित रहता है इसलिए जिस भी व्यक्ति को डायबिटीज या डायबिटीज से संबंधित समस्या हो उसके लिए बाजरा और बाजरे की रोटी बहुत अच्छे आहार सिद्ध होते हैं।

स्वस्थ हृदय के लिए

हृदय संबंधी समस्या से ग्रसित व्यक्ति को आहार में बाजरे का सेवन करना चाहिए बाजरे में प्रचुर मात्रा में डाइटरी फाइबर होते हैं जो शरीर में कोलेस्ट्रोल के स्तर को नियंत्रण में रखते हैं। जिसकी वजह से व्यक्ति को हृदय संबंधी कोई बीमारी नहीं होती। इसके अलावा बाजरे में मैग्नीशियम और पोटेशियम भी होते हैं जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखते हैं।

एसिडिटी और स्टमक अल्सर से बचाव के लिए

बाजरा एक ऐसा अनाज है जिसका सेवन करने पर पेट में एसिडिटी कम होती है तथा पेट का अल्सर भी ठीक हो जाता है। जिस व्यक्ति को एसिडिटी या पेट के अल्सर की समस्या है उसे एक बार बाजरे की रोटी का सेवन अवश्य करना चाहिए आप बाजरे का सेवन बाजरे का दलिया या फिर बाजरे की खिचड़ी बनाकर भी कर सकते हैं यह दोनों बहुत ही स्वादिष्ट और गुणकारी होते हैं।

मजबूत हड्डियों के लिए

बाजरा बहुत सारे पोषक तत्वों से भरपूर होता है बाजरे में प्रोटीन वसा एनर्जी कार्बोहाइड्रेट इत्यादि इत्यादि तत्व होते हैं बाजरे में फास्फोरस भी होता है जो शरीर की हड्डियों को मजबूत बनाने का काम करता है यानी कि अगर आप बाजरे की रोटी खाते हैं तो आप की हड्डियां सामान्य से अधिक मजबूत हो जाएंगी और जिस व्यक्ति को कमजोर हड्डियों की समस्या हो उसे भी बाजरे की रोटी या बाजरा संबंधित खाद्य सामग्री का उपयोग अवश्य करना चाहिए।

पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए

बाजरा एक ऐसा गुणकारी अनाज है जिसमें बहुत सारे पोषक तत्व है तथा इसका नियमित सेवन करने से बहुत सारे लाभ होते हैं जैसा कि आप सभी जानते हैं ज्यादातर बीमारियां पेट से जुड़ी होती हैं परंतु बाजरे का सेवन करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है क्योंकि बाजरे में प्रचुर मात्रा में फाइबर होते हैं जो पाचन तंत्र को मजबूत बनाते हैं जिसकी वजह से व्यक्ति को पेट संबंधी समस्या नहीं होती और जब किसी व्यक्ति को पेट संबंधी समस्या नहीं होती तब वह व्यक्ति आसानी से बीमार नहीं पड़ता।

कोलेस्ट्रॉल को ठीक करने के लिए

बाजरा पोषक तत्वों से भरपूर होता है और बाजरे में phytic acid होता है जो कोलेस्ट्रोल के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है यह शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल एलडीएल के प्रभाव को कम करता है और एचडीएल गुड कोलेस्ट्रॉल के प्रभाव को बढ़ाता है जब हमारे शरीर में गुड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है तब हमारे शरीर की कई बीमारियां अपने आप ही ठीक होने लगती हैं जैसे डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, लो ब्लड प्रेशर, हार्ट अटैक की संभावना कम हो जाती है, इसके साथ साथ ही कई ऐसी अन्य बीमारियां हैं जो अपने आप ही ठीक हो जाती है इसलिए अगर किसी व्यक्ति को कोलेस्ट्रॉल की समस्या है तो उसे अपने खाने में बाजरे को जरूर शामिल करना चाहिए।

बच्चों के लिए पोषक तत्वों से भरपूर आहार

बाजरा छोटे बच्चों के लिए एक अति उत्तम आहार है यह काफी आसानी से पच जाता है तथा इसमें बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं जिसकी वजह से बच्चे को किसी भी प्रकार के पोषक तत्व की कमी नहीं होती और बच्चा आसानी से बीमार नहीं पड़ता 6 महीने से अधिक आयु के बच्चे बाजरे का उपयोग कर सकते हैं। बाजरे का पाउडर बनाकर उससे खाद्य सामग्री बनाकर बच्चे को खिलाएं।

एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है

बाजरे में एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं जो हमें अलग-अलग प्रकार की बीमारियां होने से बचाते हैं बीमारियां जैसे अल्जाइमर कार्डियोवैस्कुलर डिजीज हृदय संबंधी रोग डायबिटीज और कैंसर इत्यादि।

वजन को नियंत्रण करने करने के लिए

अगर आपको वजन कम करना है या वजन को नियंत्रण में रखना है तो आप अपनी डाइट में बाजरे को जरूर शामिल करें क्योंकि बाजरा एक लो कैलरी डेंसिटी फूड है मतलब इसमें कैलोरी बहुत कम होती है और इस वजह से ही वजन को नियंत्रित करने में बाजरा बहुत लाभदायक होता है।

पेट के कैंसर होने के खतरे को कम करने के लिए

कई रिसर्च और शोध बताते हैं कि बाजरे का सेवन करने पर पेट के कैंसर होने का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है परंतु अभी तक इसके कोई ठोस प्रमाण नहीं है।

गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए उत्तम आहार है

बाजरे में बहुत सारे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं जैसे पोटैशियम, फास्फोरस, आयरन मैग्नीशियम फोलिक एसिड इत्यादि। इसलिए यह गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए एक उत्तम आहार है बाजरा उनके शरीर में सभी पोषक तत्वों की कमी को पूरा करता है। इसके साथ साथ ही यह एक अच्छा एंटीऑक्सीडेंट भी है जिसकी वजह से गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाएं जल्दी बीमार नहीं पड़ती। इसलिए अगर आप भी गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिला हैं तो आपको भी अपने आहार में बाजरे को शामिल करना चाहिए।

कब्ज को ठीक करता है

बाजरे में फाइबर होते हैं जो हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाते हैं जब किसी व्यक्ति का पाचन तंत्र मजबूत हो जाता है तब उसे कब्ज और गैस इत्यादि की समस्या नहीं होती।

आयरन की कमी और एनीमिया से बचाव

जैसा कि आप सभी जानते हैं बाजरे में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व होते हैं जैसे जिंक, आयरन, फॉलिक, एसिड इत्यादि इत्यादि। और विशेष रूप से बाजरे में आयरन प्रचुर मात्रा में होता है इसलिए जब किसी व्यक्ति को आयरन की कमी हो या व्यक्ति को एनीमिया की बीमारी हो तो उसे अपने आहार में बाजरे को शामिल जरूर करना चाहिए ऐसा करने से व्यक्ति के शरीर में आयरन की कमी जल्द से जल्द पूरी हो जाएगी।

अनिद्रा से बचाव

नियमित रूप से या फिर कभी कभी अपने आहार में बाजरे को शामिल करने से हमारा मन शांत होता है हमारा तन शांत होता है और हमारा दिमाग भी पूर्ण रूप से रिलैक्स हो जाता है जिसकी वजह से हमें किसी प्रकार का कोई तनाव नहीं रहता और अनिद्रा की समस्या से निजात मिल जाता है इसलिए अनिद्रा की समस्या आने पर हमें अपने आहार में बाजरे को शामिल जरूर करना चाहिए।

त्वचा की चमक और निखार बढ़ाता है

बाजरे में प्रचुर मात्रा में जिंक होता है जो हमारी त्वचा के रिपेयर और त्वचा के निखार को बढ़ाता है तथा यह त्वचा की उम्र बढ़ने के प्रोसेस को धीमा कर देता है जिससे व्यक्ति जवान दिखने लगता है। इसलिए अगर आप भी अपनी त्वचा का निखार बढ़ाना चाहते हैं या उसकी चमक बढ़ाना चाहते हैं तो आपको अपने आहार में बाजरे का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए।

जिगर को स्वस्थ रखता है

जो लोग बाजरे का सेवन करते हैं उनके शरीर के अंगों की कार्य क्षमता बढ़ जाती है और विशेष रूप से जिगर की कार्य क्षमता काफी हद तक बढ़ जाती है और जिन लोगों को जिगर संबंधी रोग होते हैं वे लोग भी जल्दी ठीक हो जाते हैं।

कैंसर के इलाज के लिए लाभदायक

कई रिसर्च और शोध बताते हैं कि कैंसर से ग्रस्त मरीजों को बाजरे से बने आहार देने पर मरीजों में लाभ देखे गए। बाजरे का सेवन करने पर कैंसर का इलाज भी संभव है परंतु इसके कोई ठोस प्रमाण नहीं है।

फोलिक एसिड से भरपूर होता है

बाजरे में भरपूर मात्रा में फोलिक एसिड होता है और फोलिक एसिड यानी विटामिन B9 हमारे शरीर में नई कोशिकाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है विशेष रूप से लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में।

आंखों के लिए बहुत अच्छा होता है

बाजरे में प्रचुर मात्रा में जिंक होता है जिंक हमारे शरीर में एक ऐसे एंजाइम को सक्रिय करता है जो विटामिन ए के प्रोडक्शन को बढ़ाता है क्योंकि ज्यादातर आंख संबंधी समस्या विटामिन ए की कमी की वजह से ही होती है जैसे रतौंधी night blindness इत्यादि। इसलिए अगर आपको किसी भी प्रकार की आंख संबंधी समस्या हो रही है तो सबसे पहले तो अपने डॉक्टर को दिखाएं और अपने आहार में बाजरे को शामिल जरूर करें।

एनर्जी का अच्छा स्रोत है

जैसा कि आप इस पूरे आर्टिकल में पढ़ चुके हैं कि बाजरे में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं जैसे आयरन जिंक मैग्नीशियम फॉलिक एसिड इत्यादि इत्यादि इसलिए जब कोई व्यक्ति बाजरे का सेवन करता है तो उसे बहुत ऊर्जा मिलती है और वह व्यक्ति ऊर्जावान महसूस करता है।

यह भी पढ़ें:- चाय पीने के नुकसान | चाय पीने के फायदे

बाजरे की रोटी खाने के नुकसान – Side effects Of Bajre ki Roti In Hindi

बाजरा बहुत सारे पोषक तत्वों से भरपूर होता है आप बाजरे का सेवन अलग-अलग रूप में कर सकते हैं जैसे दलिया खिचड़ी बाजरे की रोटी इत्यादि इत्यादि। बाजरा खाने के बहुत सारे लाभ होते हैं परंतु बाजरा खाने से हल्के-फुल्के दुष्प्रभाव हो सकते हैं जो निम्नलिखित हैं।

  • बाजरे में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं जिसके कई लाभ होते हैं इसके बावजूद बाजरे में कुछ एंटीन्यूट्रिएंट्स भी शामिल होते हैं जो अन्य पोषक तत्व के अवशोषण के प्रोसेस को धीमा कर देते हैं।
  • बाजरे के बहुत सारे घटक होते हैं जिनमें से एक घटक का नाम फाइटिक एसिड होता है। और यह पोटैशियम कैल्शियम लोहा जस्ता और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्वों के अवशोषण को कम कर देता है हालांकि जो लोग संतुलित आहार का सेवन करते हैं उनमें ऐसी कोई समस्या नहीं होती।
  • बाजरे में एक और एंटीन्यूट्रिएंट्स होता है जिसका नाम goitrogenic polyphenol होता है यह थायराइड ग्रंथि की कार्य क्षमता को प्रभावित करता है जिस वजह से व्यक्ति  का गला सूज सकता है जिसे घेंघा रोग कहते हैं। यह समस्या सिर्फ उन लोगों को होती है जिनके शरीर में अत्यधिक मात्रा में पॉलीफेनॉल होता है।

यह भी पढ़ें:- Detox water meaning in hindi | डिटॉक्स वाटर क्या होता है, फायदे, नुकसान इत्यादि

बाजरे की रोटी खाने से होने वाले दुष्प्रभावों से बचाव – How to avoid the side effects caused by eating Bajre ki Roti

  • अगर आप बाजरे को कमरे के तापमान पर रात भर भिगोकर छोड़ दें और फिर पकाने से पहले इसे छानकर धोकर पकाए तो घेंघा रोग नहीं होगा।
  • अगर आप बाजरे को अंकुरित करके खाए तो बाजरे में से एंटीन्यूट्रिएंट्स तत्व निकल जाते हैं जो कई प्रकार की बीमारियां उत्पन्न करते हैं जब ये तत्व बाजरे से निकल जाते हैं तब बाजरे का नियमित सेवन करने पर भी किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होती इसलिए आप बाजरे का सेवन बाजरे को अंकुरित करके करें तो आपको अधिक लाभ होगा।

100 ग्राम बाजरे में पोषक तत्व – Nutrition value of Bajre ki Roti 

100 ग्राम बाजरे में निम्नलिखित पोषक तत्व निम्नलिखित मात्रा में होते हैं आप इस सूची से अंदाजा लगा सकते हैं कि बाजरा कितना पोषक तत्वों से भरपूर होता है

  • प्रोटीन – 10.96 ग्राम
  • कार्बोहाइड्रेट – 61.78 ग्राम
  • वसा – 5.43 ग्राम
  • आहार फाइबर – 11.49 ग्राम
  • ऊर्जा – 1456 KJ

कौन सी रोटी खानी चाहिए गेहूं की या बाजरे की? – Which roti to eat wheat or millet

बाजरे की रोटी बहुत लाभदायक होती है तथा भिन्न भिन्न प्रकार की रोग होने से बचाती है, इसका इस्तेमाल कई प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए भी किया जाता है परंतु नियमित रूप से बाजरे की रोटी का सेवन करना हानिकारक हो सकता है क्योंकि इससे घेंघा रोग होने की संभावना रहती है। इसलिए रोजमर्रा के जीवन में बाजरे का नियमित रूप से उपयोग करना सही नहीं होगा परंतु अगर आप एक संतुलित मात्रा में बाजरे को अपने आहार में शामिल करें तो आपको लाभ अवश्य होगा इसके साथ साथ ही आप बाजरे को अंकुरित करके खाए तो घेंघा रोग होने की संभावना भी बहुत कम हो जाती है। और अगर आप बाजरे को नियमित रूप से ना खाकर, हफ्ते में 3 दिन खाएं तो भी यह बहुत लाभदायक होगा।

निष्कर्ष

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा अगर आपके कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके सवालों का जवाब देने का प्रयास जरूर करेंगे

इस आर्टिकल में बाजरे की रोटी के बारे में बताया है और बाजरे की रोटी के बारे में सभी जानकारी प्रदान किया है जैसे कि बाजरे की रोटी के फायदे (Bajre ki roti ke Fayde), बाजरे की रोटी के नुकसान (Bajre ki roti ke Nuksan)