बार बार पेशाब आने का कारण, लक्षण, इलाज इत्यादि | Frequent Urination in Hindi

बार-बार पेशाब आना एक ऐसी समस्या है जो आपको बहुत परेशान कर सकती है और जिन लोगों को यह समस्या होती है वे लोग अक्सर इसकी वजह से काफी परेशान रहते हैं। उन लोगों को कहीं दूर जाने के लिए भी 10 बार सोचना पड़ता है। अक्सर जिन लोगों को यह समस्या होती है उन लोगों को इस समस्या का विशेष ध्यान रखना पड़ता है। 

इस आर्टिकल में हम बार-बार पेशाब आने के बारे में बात करेंगे और बार बार पेशाब आने के बारे में सभी जानकारी प्रदान करेंगे जैसे कि बार-बार पेशाब आने का कारण, लक्षण इत्यादि (Frequent Urination in Hindi)

बार-बार पेशाब आना क्या है – What is frequent Urination in Hindi

बार बार पेशाब आने का कारण, लक्षण, इलाज इत्यादि | Frequent Urination in Hindi

बार बार पेशाब आना एक समस्या है जिसकी वजह से आम तौर पर एक सामान्य व्यक्ति काफी परेशान हो जाता है यहां तक कि बार-बार पेशाब आने की समस्या व्यक्ति की कार्यकुशलता और व्यक्ति की जीवन शैली को भी प्रभावित करती है।

बार-बार पेशाब आने की समस्या कई कारणों से हो सकती है जिनमें से प्रमुख कारण अन्य बीमारियां होती हैं जैसे मधुमेह, थायराइड इत्यादि। ऐसी गंभीर बीमारियां होने पर अक्सर व्यक्ति को पेशाब संबंधी समस्या होने लगती है तथा व्यक्ति को बार-बार पेशाब आने की परेशानी से जूझना पड़ता है।

क्या आप जानते हैं? कि आपकी पेशाब का कलर बदलता रहता है और यह व्यक्ति के स्वास्थ्य पर निर्भर करता है अक्सर जब कोई व्यक्ति बीमार पड़ता है तो उसके पेशाब का कलर भी बदल जाता है।

पेशाब के अलग-अलग रंगों का मतलब – Meaning of of different colour’s of urine in Hindi

आमतौर पर किसी भी व्यक्ति के पेशाब का कलर सामान्य रहता है मतलब रंगीन होता है। पेशाब किसी भी रंग की नहीं होती परंतु जब व्यक्ति को किसी प्रकार की कोई बीमारी हो जाती है तब पेशाब का कलर बदल जाता है।

गहरा पीला (Dark yellow)

अक्सर आपने देखा होगा कि आपकी पेशाब का कलर गहरा पीला हो जाता है। जब किसी व्यक्ति के पेशाब का कलर गहरा पीला हो जाता है तब यह व्यक्ति के शरीर में पानी की कमी को दर्शाता है। यानी अगर आपके पेशाब का कलर गहरा पीला है तो आपको पानी की कमी हो रही है और आपको नियमित रूप से दिन में 4 से 5 लीटर पानी पीना चाहिए।

लाल रंग (Red)

अगर आपके पेशाब का कलर लाल रंग का है तो आपको तुरंत किसी विशेषज्ञ से मिलना चाहिए क्योंकि पेशाब लाल रंग का तब ही होता है जब किसी व्यक्ति को कोई गंभीर समस्या हो क्योंकि यह लाल रंग रक्त को दर्शाता है और इसका सीधा मतलब यह है कि आपके पेशाब में पानी के साथ साथ रक्त भी निकल रहा है यह किसी बड़ी बीमारी का संकेत हो सकता है जैसे किडनी संबंधित कोई गंभीर बीमारी।

गहरा लाल या काला (Dark red or black)

पेशाब के रंग का गहरा लाल या काला होना मुख्य रूप से किसी गंभीर बीमारी को दर्शाता है अगर किसी व्यक्ति को गहरे लाल या काले रंग की पेशाब होती है तो उसे सावधान हो‌ जाना चाहिए क्योंकि यह लिवर की खराबी या लीवर में किसी गंभीर संक्रमण या फिर हेपेटाइटिस, ट्यूमर, सिरोसिस जैसी कई गंभीर समस्याओं के कारण हो सकता है।

हल्का नारंगी (light orange)

इस तरह के रंग की पेशाब व्यक्ति को तब होती है जब व्यक्ति ने किसी दवा का सेवन किया हो या फिर व्यक्ति ने किसी ऐसे पदार्थ का सेवन किया हो जिसमें सिट्रिक एसिड हो या फिर इसके अलावा कोई ऐसी चीज खाई हो जो नारंगी रंग की हो तो ऐसी स्थिति में व्यक्ति को नारंगी रंग की पेशाब हो सकती है।

बार-बार पेशाब आने के लक्षण – Symptoms of frequent Urination in Hindi

बार-बार पेशाब आना एक गंभीर समस्या है और इसके कई लक्षण हो सकते हैं जब किसी व्यक्ति में इस समस्या की शुरुआत होती है तब उस व्यक्ति को निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं।

  • शुरुआत में व्यक्ति को रात में बार बार पेशाब लगने लगती है।
  • कुछ समय बाद व्यक्ति को पेशाब पर नियंत्रण नहीं रहता व व्यक्ति को पेशाब करने में भी काफी समस्या आती है।
  • शुरुआती समय में बार बार पेशाब आने की समस्या व्यक्ति को कभी-कभी होती है परंतु जैसे-जैसे समय बढ़ता रहता है व्यक्ति को यह समस्या रोज होने लगती है।
  • कई बार व्यक्ति को बार बार पेशाब आता है और जब व्यक्ति बाथरूम में जाता है तो उसे पेशाब नहीं होता और काफी देर खड़े रहने के बाद कुछ बूंद ही पेशाब आता है।
  • कई मरीज अक्सर शिकायत करते हैं कि उन्हें पेशाब नहीं आता यह प्रोस्टेट बीमारी का प्रथम लक्षण हो सकता है।
  • इसके साथ-साथ ही आपको कई बार पेशाब करने में समस्या आने लगती है पेशाब आने पर जलन होने लगती है और लिंग में दर्द भी होने लगता है।

अक्सर जिन लोगों को बार-बार पेशाब आने की समस्या किसी रोग के कारण होती है उन्हें निम्नलिखित लक्षण महसूस होते हैं

  • पेशाब में खून आना
  • पेशाब करते वक्त जलन होना
  • बगल में दर्द होना
  • पेट में दर्द होना
  • पेशाब करते वक्त दर्द होना
  • पूरी तरह ब्लैडर खाली ना हो पाना
  • अचानक तीव्र पेशाब लगना
  • पेशाब पर बिल्कुल नियंत्रण ना कर पाना

बार-बार पेशाब आने से बचाव – Prevention of frequent Urination in Hindi

बार-बार पेशाब आने की समस्या से बचाव के लिए आप अपनी जीवन शैली में निम्नलिखित परिवर्तन करें तो आपको बार-बार पेशाब आने की समस्या बिल्कुल नहीं होगी।

मीठी चीजें ना खाएं

ऐसी चीजों का सेवन यूरिन इन्फेक्शन के दौरान बिल्कुल नहीं करना चाहिए जो चीज शक्कर इत्यादि से बनती है क्योंकि मीठी चीज पेशाब के रास्ते बैक्टीरिया को ब्रीडिंग कराने में सहूलियत देते हैं और जो लोग मीठी चीजें अत्याधिक खाते हैं उन्हें इंफेक्शन इत्यादि होने का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है। इसलिए मीठी चीजों का सेवन कम से कम करें।

कॉफी का सेवन कम करें

अगर किसी व्यक्ति को यूरिन संबंधी किसी भी प्रकार का कोई इंफेक्शन है तो उसे बिल्कुल भी कॉफी का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि यूरिन इन्फेक्शन के दौरान कॉफी का सेवन करने से यूरिन इंफेक्शन बढ़ सकता है कॉफी की जगह आप किसी भी चाय या हर्बल टी का उपयोग कर सकते हैं।

संतुलित भोजन खाएं

किसी भी प्रकार का पेशाब संबंधी इंफेक्शन या समस्या होने पर संतुलित भोजन ही खाना चाहिए किसी भी ऐसे पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए जो इस समस्या को बढ़ा दे जैसे शराब, मिर्च मसाले वाला भोजन इत्यादि।

साफ सफाई का ध्यान रखना

अगर आपको किसी भी प्रकार की पेशाब संबंधी समस्या या इंफेक्शन है तो आपको अपने लिंग के आसपास विशेष साफ सफाई का ध्यान रखना है क्योंकि इंफेक्शन हमेशा ऐसी जगह पर होता है जहां पर साफ-सफाई ना हो अगर आपको किसी भी प्रकार का कोई इंफेक्शन होता है तो आपको नियमित रूप से नहाना है और अपने प्राइवेट पार्ट को बहुत अच्छी तरह साबुन लगाकर साफ करना है।

बार-बार पेशाब आने की समस्या से बचाव के लिए आप निम्नलिखित उपायों को भी अपना सकते हैं

  • हमेशा अच्छी जगह से ही खाना खाने की चीजें ले गंदी जगहों से खाना खाने की चीजें ना ले ऐसी जगहों का खाना खाने पर संक्रमण होने का खतरा रहता है।
  • हमेशा धुले हुए वस्त्र पहने।
  • अगर आपको पेशाब संबंधी कोई इंफेक्शन या समस्या है तो हमेशा सूती कपड़े का ही अंडरवियर पहने।
  • अगर आप पाएं कि आपका संक्रमण बढ़ रहा है तो तुरंत डॉक्टर से मिले या फिर ऊपर दिए गए लक्षणों में से किसी भी प्रकार के लक्षण आपको हो रहे हो तब भी तुरंत डॉक्टर से सलाह लें क्योंकि यह बीमारी आपको बहुत परेशान कर सकती है।
  • अक्सर जब किसी व्यक्ति को बार बार पेशाब आने की समस्या होती है तो वे लोग पानी पीने की मात्रा को कम कर देता है ऐसा बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए ऐसा करने से इंफेक्शन बढ़ता है इसलिए यदि आपको इंफेक्शन की कोई समस्या है तो पानी पीना कम ना करें बल्कि और अधिक पानी पीएं इससे आपका इंफेक्शन जल्दी से जल्दी ठीक हो जाएगा तथा डॉक्टर की सलाह माने और नियमित रूप से दवाइयां खाए।
  • तेल मसाला युक्त और तेज मसालेदार खाना खाने से बचें ऐसा खाना यूरिन इन्फेक्शन को काफी हद तक बढ़ा सकता है और आप बहुत अधिक समस्या ग्रस्त हो सकते हैं।

बार-बार पेशाब आने के कारण और इलाज – Causes and Treatment of frequent Urination in Hindi

बार-बार पेशाब आने की समस्या मुख्य रूप से कई कारणों से हो सकती है कुछ कारण सामान्य होते हैं तथा कुछ कारण गंभीर होते हैं जैसे किसी गंभीर बीमारी की वजह से।

प्रोस्टेट का बढ़ना

प्रोस्टेट पुरुषों में कैसी ग्रंथि होती है जो ब्लैडर के निचले भाग में होती है तथा यह मूत्रमार्ग के आसपास स्थित होती है और यह ग्रंथि जीवन भर बढ़ती रहती है और जब यह ग्रंथि अत्यधिक बड़ी हो जाती है तब इसकी वजह से बी पी एच नाम की बीमारी हो जाती है और इस बीमारी के कारण व्यक्ति को बार बार पेशाब आने लगत है तथा व्यक्ति पेशाब से अपना नियंत्रण खो देता है।

लक्षण

  • बार-बार पेशाब आना
  • अचानक पेशाब की तीव्र इच्छा होना
  • पेशाब पर नियंत्रण ना रहना
  • पेशाब की धारा का पतला हो जाना
  • पेशाब करते करते अचानक रुक जाना
  • पेशाब निकालने के लिए जोर लगाना

इलाज

अगर इस बीमारी के बारे में शुरुआत में ही पता चल जाए तो दवाइयों द्वारा इस बीमारी का इलाज किया जा सकता है परंतु अगर प्रोस्टेट हद से ज्यादा बढ़ जाता है तो उसे सर्जरी द्वारा छोटा करना पड़ता है।

किडनी या यूरेट्रिक स्टोन

बार-बार पेशाब आने का एक मुख्य कारण किडनी में स्टोन या किडनी में पथरी होना होता है। आमतौर पर कम पानी पीने के कारण पेशाब गाढ़ा हो जाता है जिसकी वजह से पेशाब में उपलब्ध यूरिक एसिड और कैल्शियम ऑक्सलेट आपस में मिलकर क्रिस्टल बनने लगते हैं और जब यह इकट्ठा हो जाते हैं तो है मिलकर पथरी बनने लगते हैं।

लक्षण

  • बार-बार पेशाब आना
  • अचानक पेशाब की तीव्र इच्छा होना
  • पेशाब पर नियंत्रण ना रहना
  • पेशाब निकालने के लिए जोर लगाना
  • अचानक तेज दर्द होना

इलाज

जहां तक किडनी की पथरी के इलाज की बात है वह उसके साइज पर निर्भर करती है अगर पथरी छोटी है तो उससे दवाइयों और एक्सरसाइज द्वारा निजात पाया जा सकता है परंतु अगर किडनी की पथरी अत्यधिक बड़ी है तो इसके लिए फिर सर्जरी ही एकमात्र विकल्प रहता है।

मूत्र मार्ग में इन्फेक्शन

मूत्र मार्ग में इन्फेक्शन होना एक बहुत ही कोमन बीमारी है यह पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में ज्यादा होती है जब मूत्रमार्ग के किसी हिस्से में बैक्टीरिया इकट्ठा हो जाता है तब वह धीरे-धीरे बढ़ने लगता है और शरीर के उस हिस्से में सूजन और जलन होने लगती है इसके बाद धीरे-धीरे यह इंफेक्शन बन जाता है। 

लक्षण

  • बार बार पेशाब होना
  • लिंग में जलन और दर्द होना
  • पेशाब करते समय जलन और दर्द होना

इलाज

यह काफी आम बीमारी है तथा इसका इलाज भी काफी आम है इसके इलाज के लिए कुछ एंटीबायोटिक दवाइयों का प्रयोग किया जाता है और यह बीमारी ठीक हो जाती है इसके लिए आप चाहे तो घरेलू नुस्खे भी अपना सकते हैं।

डायबिटीज

डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है जो हमारे शरीर में तब होती है जब हमारे शरीर मे में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है जिसके कारण हमारे शरीर में ग्लूकोस का लेवल बढ़ जाता है। मधुमेह से ग्रस्त रोगी को रात में तीन से चार बार पेशाब जाना पड़ता है।

लक्षण

  • बार-बार पेशाब आना
  • कुछ खास लक्षण ना होना
  • बिस्तर में ही पेशाब का निकल जाना

इलाज

डायबिटीज का इलाज दवाइयों की मदद से अच्छे खान-पान की मदद से तथा नियमित योगा और एक्साइज की मदद से किया जाता है इसके साथ-साथ ही डायबिटीज की बीमारी में डायबिटीज के बारे में जानकारी होना भी बहुत अहम भूमिका निभाता है। अगर आपको भी डायबिटीज की समस्या है तो आप अपने डॉक्टर को दिखाएं तथा डॉक्टर से मधुमेह की दवाइयां ले।

गर्भावस्था

जब कोई महिला गर्भवती होती है तो उसके शरीर में कई प्रकार के बदलाव होते हैं इन बदलावों के कारण महिलाओं को सामान्य से अधिक बार पेशाब जाना पड़ता है गर्भवती महिला को बार बार पेशाब लगने के कई कारण हो सकते हैं जिनमें से सबसे बड़ा कारण है और हार्मोन की गड़बड़ी। तथा इसके साथ साथ ही जैसे-जैसे बच्चा बढ़ता है गर्भ फैलने लगता है जो शरीर के निचले भाग पर जोर डालता है और महिला को बार-बार पेशाब लगती है।

लक्षण

  • बार बार पेशाब लगना
  • खट्टा खाने को मन करना
  • पेट फूलना
  • उल्टी आना

इलाज

वैसे तो यह कोई बीमारी नहीं है परंतु अगर किसी महिला को हद से ज्यादा बार बाथरूम जाना पड़ता है तो वह महिला अपने डॉक्टर से संपर्क कर दवाइयों का सेवन कर सकती है परंतु कोई भी महिला यह बिना डॉक्टर की अनुमति ना करें इसके साथ साथ ही महिला चाय कॉफी और अन्य पेय पदार्थों का सेवन थोड़ा कम कर सकती है।

अति सक्रिय ब्लैडर

कई बार कुछ परिस्थितियों के कारण हमारा ब्लैडर बहुत ज्यादा सक्रिय हो जाता है तथा यह एक ऐसी समस्या है जिसका सही समय पर इलाज न करवाने से यह हमारे जीवन को पूर्ण रूप से अस्त-व्यस्त कर सकता है।

लक्षण

  • बार-बार पेशाब आना
  • पेशाब पर नियंत्रण ना रहना
  • पेशाब करते समय जलन और दर्द होना
  • पेशाब आने पर पेशाब को निकलने से ना रोक पाना

इलाज

इसका इलाज दवाइयों और सही चिकित्सा द्वारा संभव है इसके साथ साथ ही अति सक्रिय ब्लैडर की समस्या होने पर हमें कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए जैसे उन खाद्य पदार्थों और चीजों का सेवन ना करें जिससे ज्यादा मात्रा में पेशाब बनता है जैसे चाय कॉफी शराब बीयर इत्यादि। ताजे फल सब्जियों और स्वस्थ्य अनाजों का प्रयोग करना चाहिए इसके साथ साथ ही नियमित एक्सरसाइज और हल्का-फुल्का व्यायाम करना चाहिए।

बार-बार पेशाब आने के अन्य कारण

इसके साथ साथ ही बार-बार पेशाब आने की समस्या कई अन्य कारणों से भी हो सकती है जो निम्नलिखित हैं

  • ज्यादा मात्रा में पानी पीना
  • मूत्राशय का अधिक सक्रिय हो जाना
  • बुढ़ापा
  • यूरिनरी इनफेक्शन
  • किडनी का इन्फेक्शन
  • आसपास का वातावरण ठंडा होना
  • छोटे बच्चों के पेट में कीड़े पड़ जाना
  • शराब का अत्यधिक सेवन करना
  • इसके अलावा अधिक मात्रा में कैफीन चाय कॉफी चॉकलेट इत्यादि का सेवन करना
  • हाई ब्लड प्रेशर
  • मनोवैज्ञानिक कारण
  • प्रोस्टेट कैंसर और
  • मूत्राशय का कैंसर

बार-बार पेशाब आने का प्राकृतिक इलाज – Natural treatment of frequent Urination in Hindi

बार-बार पेशाब आने की समस्या का घरेलू इलाजआमतौर पर बार-बार पेशाब आने की समस्या किसी गंभीर कारण से नहीं होती बल्कि छोटे-मोटे कारणों से ही होने लगती है ऐसी स्थिति में घरेलू इलाज काफी कारगर होता है इसके साथ साथ ही अगर बार बार पेशाब आने की समस्या किसी बड़ी बीमारी के कारण हो रही है और इस स्थिति की सिर्फ शुरुआत हो रही है तो भी घरेलू इलाज काफी कारगर सिद्ध होता है।

आंवला

आंवला बड़ा ही गुणकारी फल है इसका नियमित सेवन करने से बार-बार पेशाब आने की समस्या में राहत मिलती है आप दो चम्मच आंवले के रस को पानी में मिलाकर पी सकते हैं ऐसा करने से आपको जरूर राहत मिलेगी।

केला

बार-बार पेशाब आने की समस्या में केला खाना बड़ा ही गुणकारी सिद्ध होता है आप प्रतिदिन 2 किलो का सेवन करें तो आपको लाभ अवश्य होगा इसके साथ साथ ही केला खाने से कब्ज की समस्या भी दूर होती है।

मेथी के बीज

मेथी के बीज बड़े ही गुणकारी होते हैं सत्ता मेथी के बीजों का नियमित रूप से सेवन करने पर मेथी के बीच बार-बार पेशाब आने की समस्या को जड़ से खत्म कर देता हैं।

पालक

पालक एक बहुत ही आयुर्वेदिक और पोषक तत्वों से भरपूर सब्जी है नियमित रूप से इसका सेवन करने पर बार बार पेशाब आने की समस्या में राहत मिलती है इसमें उपलब्ध तत्व बार बार पेशाब आने की समस्या को जड़ से खत्म कर देते है।

आंवला और शहद

आंवला और शहद के मिश्रण का नियमित रूप से सेवन करने पर बार-बार पेशाब आने की समस्या में राहत मिलती है क्योंकि इनमें कुछ ऐसे गुणकारी तत्व होते हैं जो इस समस्या को जड़ से खत्म कर देते हैं।

अदरक

नियमित रूप से सुबह शाम दो चम्मच अदरक के रस का सेवन करने पर हमें अवश्य ही बार-बार पेशाब आने की समस्या में राहत मिलती है।

चना

चना हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है नियमित रूप से चना खाना बार बार पेशाब आने की समस्या में राहत दिलाता है।

यह भी पढ़ें:- मधुमेह (Diabetes): लक्षण, उपचार और प्रारंभिक निदान

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए – When to see a doctor in Hindi

बार-बार पेशाब होने की समस्या शुरुआत में तो काफी कम होती है आपको कभी कभी अत्यधिक पेशाब लगने लगती है परंतु जैसे-जैसे समय बढ़ता है यह समस्या भी बढ़ती है और आप धीरे-धीरे अपनी पेशाब पर नियंत्रण नहीं कर पाते हैं और एक समय ऐसा आता है जब आप अपने पेशाब को बिल्कुल कंट्रोल नहीं कर पाते हैं ऐसी स्थिति होने का इंतजार ना करें नीचे दिए गए लक्षणों को ध्यान से पढ़ें इन में से अगर कोई भी लक्षण आपको हो रहा है तो तुरंत डॉक्टर से मिले जांच कराएं क्योंकि कोई भी बीमारी शुरुआती तौर पर ठीक की जा सकती है परंतु जैसे-जैसे वह बीमारी बढ़ती जाती है उसका इलाज भी उतना ही कठिन होता जाता है।

  • बिना किसी कारण पेशाब बार बार आना
  • पेशाब आने पर रक्त निकलना
  • मूत्र का रंग गहरा लाल या गहरा काला होना
  • मूत्र रोकने में परेशानी होना
  • मूत्र निकलने पर दर्द होना

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में बार-बार पेशाब आने के बारे में बताया है और बार बार पेशाब आने के बारे में सभी जानकारी प्रदान किया है जैसे कि बार-बार पेशाब आने का कारण, लक्षण इत्यादि (Frequent Urination in Hindi)

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा अगर आपके कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके सवालों का जवाब देने का प्रयास जरूर करेंगे धन्यवाद।

कितनी बार पेशाब आने को बार-बार पेशाब आने की समस्या कहा जाए ?

अगर आपको प्रतिदिन 10 से 12 बार पेशाब करने जाना पड़े तब आप समझ जाएं कि आपको बार-बार पेशाब करने की समस्या हो गई है।

क्या ठंड में बार बार पेशाब आना सही है?

जब बाहर का वातावरण ठंडा होता है तब हमें अक्सर बार बार पेशाब लगती है अगर आपके साथ भी ऐसा है तो यह कोई घबराने की बात नहीं है यह एक सामान्य सी बात है।

क्या गर्भवती महिलाओं को बार बार पेशाब आना सही है?

अगर आप ही गर्भवती महिला हैं और आपको बार-बार पेशाब आने की समस्या आ रही है तो इसमें घबराने की कोई बात नहीं है आमतौर पर गर्भावस्था में ऐसा हो जाता है परंतु अगर आपको अत्यधिक बार बाथरूम जाना पड़ता है तो आपको एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

रात में बार बार पेशाब की समस्या को रोकने के उपाय क्या है ?

रात में बार बर पेशाब की समस्या को रोकने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखें जैसे रात में कभी भी सोने से पहले अत्यधिक पानी ना पिए या फिर शराब एल्कोहल जैसी किसी भी ऐसे पदार्थ का सेवन ना करें जिससे आपको पेशाब लगे।

इसके बाद भी अगर आपको रात में बार बार पेशाब जाना पड़ता है तो आप तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।