RBS Test in Hindi | रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट क्या है

आजकल की भागदौड़ भरी और अन हेल्थी जिंदगी में अलग-अलग प्रकार की बीमारियां हो जाना स्वभाविक है अक्सर देखा जाता है कि लोगों को मिठाई खाना बहुत पसंद होता है लेकिन अधिक मिठाई खाने से व्यक्ति को डायबिटीज की प्रॉब्लम हो जाती है।

डायबिटीज मतलब जब हमारे रक्त में शुगर की मात्रा एक निर्धारित मात्रा से अधिक हो जाती है तब उसे डायबिटीज कहा जाता है। इसकी जांच करने के लिए एक Test होता है जिसका नाम है Random Blood Sugar Test (RBS Test)

आज इस आर्टिकल में हम पढ़ेंगे की RBS test क्या है, RBS test क्यों किया जाता है, RBS test करने के दुष्प्रभाव क्या है, RBS test करने के क्या-क्या लाभ हैं और इसके अलावा हम RBS test के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे।

RBS test क्या है – What Is RBS test in Hindi

RBS Test in Hindi | रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट क्या है

किसी व्यक्ति के शरीर के रक्त में कितनी मात्रा में शुगर या ग्लूकोस है इसे ही ब्लड शुगर या ब्लड ग्लूकोस के नाम से जाना जाता है। 

RBS test (Random Blood Sugar Test) एक टेस्ट है इस टेस्ट का मूल उद्देश्य है कि किसी भी समय हमारे शरीर के रक्त में शुगर की मात्रा कितनी है, की जांच करना। 

अक्सर इस टेस्ट की जांच डायबिटीज को कंफर्म करने तथा बीमारियों का पता लगाने के लिए किया जाता है। इसके साथ साथ ही बीमारी के ठीक होने के बाद और इलाज के दौरान इस टेस्ट को नियमित रूप से किया जाता है ताकि व्यक्ति के रक्त में शुगर की मात्रा को मॉनिटर किया जा सके। 

अगर किसी व्यक्ति के शरीर में 200 मिलीग्राम प्रति डिसिलिटर या उससे अधिक शुगर होती है तो व्यक्ति को डायबिटीज रोग है।

यह भी पढ़ें:- CBC test in hindi | CBC Test क्यों करवाया जाता है इत्यादि

RBS test क्यों करते हैं – Why Do I Need RBS test Test in Hindi

RBS Test कराने का मुख्य उद्देश्य ही है कि किसी भी समय हमारे ब्लड में शुगर की मात्रा कितनी है इसकी जांच करना।

आमतौर पर अगर किसी व्यक्ति की जांच में शुगर लेवल 200 मिलीग्राम प्रति डेसी लीटर या उससे अधिक है तो यह बात कंफर्म है कि उस व्यक्ति को शुगर की समस्या है।

कुछ बीमारियों का पता लगाने के लिए भी RBS Test (Random Blood Sugar Test) किया जाता है। इसके साथ साथ ही इलाज के दौरान समय-समय पर यह टेस्ट किया जाता है जिससे व्यक्ति की स्थिति को मॉनिटर किया जा सके।

डॉक्टर आपको निम्नलिखित परिस्थितियों में यह टेस्ट कराने के लिए कह सकता है

  • अगर आपका अचानक से वजन घटने लगे
  • अगर आपको डिहाइड्रेशन हो या आपके होंठ सूख रहे हो
  • अगर आपको धुंधला दिखाई देने लगे
  • बार बार पेशाब जाना
  • जल्दी ठीक ना होना

RBS test करने से पहले तैयारी – Prepration before RBS test Test in Hindi

RBS Test करने के लिए किसी भी प्रकार की विशेष तैयारी की कोई जरूरत नहीं है। अगर आपको किसी प्रकार की कोई समस्या है, तो आप अपने डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं। रेंडम ब्लड सूगर टेस्ट के लिए आपको किसी प्रकार की कोई दवाई का सेवन नहीं करना होता। इसके अलावा इसे करने के लिए आपको खाली पेट भी नहीं रहना पड़ता।

RBS test कैसे किया जाता है – How Is RBS test done in Hindi

RBS Test कराना काफी सिम्पल होता है। RBS Test करने के लिए व्यक्ति का ब्लड सैंपल लिया जाता है ब्लड सैंपल लेने का प्रोसीजर बहुत सिंपल है। ब्लड सैंपल लेने के लिए चिकित्सक व्यक्ति के हाथ में इंजेक्शन लगाकर नसों में से थोड़ा सा ब्लड का सैंपल ले लेता है और ऐसा करने में व्यक्ति को ज्यादा दर्द भी नहीं होता।

RBS test की सामान्य रेंज क्या होती है – What is normal range of RBS test in Hindi

Reference RangeInterpretation
AbsentUrine Sugar
110-126Impaired Glucose
70-110Normal Glucose Tolerance
>126Provisional Diag. Diabetes Mellitus

क्या RBS test खाली पेट रहना चाहिेए  

RBS Test कराने के लिए खाली पेट रहने की कोई आवश्यकता नहीं है RBS Test का मतलब होता है RBS Test (Random Blood Sugar Test) मतलब कि किसी भी समय हमारे ब्लड में शुगर की मात्रा कितनी है।

RBS test के साथ-साथ कौन-कौन से टेस्ट कराने चाहिए – What Other Tests Might I Have Along With RBS test in Hindi

आमतौर पर RBS test डायबिटीज की जांच करने के लिए किया जाता है परंतु कई बार डायबिटीज की वजह से ही नहीं कई अन्य कारणों से भी इस टेस्ट को कराना पड़ता है। कारण जैसे थायराइड, पैंक्रियास में सूजन होना, पैंक्रियास का कैंसर होना कुछ विशेष ट्यूमर होने पर और इन सब परिस्थितियों में सिर्फ RBS Test करने से ही इन परिस्थितियों का पता नहीं लगता इन सभी परिस्थितियों का पता लगाने के लिए अलग-अलग प्रकार के टेस्ट भी करने पड़ते हैं जैसे कोलेस्ट्रोल, ग्लूकोस टेस्ट, tolerance टेस्ट, फास्टिंग ब्लड शुगर टेस्ट, हीमोग्लोबिन टेस्ट आदि

RBS test का रिजल्ट आने में कितना समय लगता है – When Do You Expect Results of RBS test Test in Hindi

आमतौर पर RBS Test का रिजल्ट आने में 24 से 36 घंटे लगते हैं।

RBS test का मूल्य क्या है – Price of RBS test in Hindi

RBS Test का मूल्य अलग-अलग राज्यों और जगहों के हिसाब से बदल सकता है आप आपके घर के आस-पास ही किसी भी पैथोलॉजी लैब से इस टेस्ट को करवा सकते हैं यह टेस्ट महंगा नहीं होता।

RBS test के दुष्प्रभाव क्या है – Side effects of RBS test in Hindi

RBS test कराने के दुष्प्रभाव ना के बराबर होते हैं RBS test कराने पर आपको हल्के-फुल्के दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे

  • सिर में दर्द
  • जिस हिस्से से सैंपल लिया गया है उस हिस्से में सूजन होना
  • शरीर में दर्द होना

गर्भावस्था में RBS test – RBS test in pregnancy in Hindi

प्रेगनेंसी के दौरान हमारे शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा बढ़ सकती है इसलिए हमें नियमित रूप से RBS Test कराते रहना चाहिए परन्तु अपनी मर्जी से स्टेटस को कराने का कोई फायदा नहीं होगा अगर डॉक्टर कहता है आपको यह टेस्ट कराने के लिए तभी आप इस टेस्ट को कराएं बाकी इस ड्रेस को कराने से प्रेगनेंसी पर किसी प्रकार का कोई दुष्प्रभाव नहीं होगा।

निष्कर्ष

हमने आज इस आर्टिकल में बताया है RBS test क्या है, RBS test क्यों किया जाता है, RBS test करने के दुष्प्रभाव क्या है, RBS test करने के क्या-क्या लाभ हैं और इसके अलावा हम RBS test के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करवाया है

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा अगर आपके कोई सवाल या सुझाव हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम आपके सवालों का जवाब देने का प्रयास जरूर करेंगे।