Arjunarishta Syrup uses in Hindi | अर्जुनारिष्ट के फायदे, उपयोग, खुराक और नुकसान

आजकल बाजार में अलग-अलग प्रकार की दवाइयां उपलब्ध हैं कुछ असरदार होती हैं और कुछ नहीं, और कुछ तो बहुत महंगी भी होती हैं। परंतु सबसे बढ़िया दवाई आयुर्वेदिक दवाईयां होती हैं इसीलिए आज इस आर्टिकल में हम ऐसी ही एक आयुर्वेदिक दवाई के बारे में बात करेंगे जिसका नाम Arjunarishta Syrup है।

Arjunarishta Syrup एक आयुर्वेदिक औषधि है इसका निर्माण अलग-अलग प्रकार की औषधियों को मिलाकर किया जाता है इस दवाई के बहुत सारे लाभ है और बहुत कम दुष्प्रभाव हैं अन्य दवाइयों की तुलना में यह दवाई काफी कारगर भी है।

आज इस आर्टिकल में हम पढ़ेंगे कि Arjunarishta Syrup क्या है, Arjunarishta Syrup का उपयोग क्या है, Arjunarishta Syrup के दुष्प्रभाव क्या हैं, Arjunarishta Syrup कैसे कार्य करता है, Arjunarishta Syrup का मूल्य क्या है, Arjunarishta Syrup की खुराक क्या है, Arjunarishta Syrup किन-किन जड़ी बूटियों से मिलकर बना होता है।

Table of Contents

Arjunarishta Syrup क्या है – What is Arjunarishta Syrup in Hindi

Arjunarishta Syrup uses in Hindi | अर्जुनारिष्ट के फायदे, उपयोग, खुराक और नुकसान

Arjunarishta Syrup एक आयुर्वेदिक और हर्बल सिरप है इसका निर्माण अलग-अलग प्रकार की जड़ी बूटियों को उचित अनुपात में मिलाकर किया जाता है। नियमित रूप से Arjunarishta Syrup का सेवन करने से हमारा हृदय स्वस्थ रहता है, ब्लड प्रेशर नियंत्रण में रहता है, किडनी संबंधी रोग होने की संभावना कम हो जाती है और इसके साथ साथ बहुत सारी स्वास्थ्य संबंधी बीमारियां होने का खतरा कम हो जाता है।

बाजार में Arjunarishta Syrup अलग-अलग कंपनियों के नाम से बिकता है जैसे वैद्यनाथ, पतंजलि और डाबर। Arjunarishta Syrup का नियमित सेवन करने के कई सारे फायदे हैं। इतना ही नहीं बल्कि काफी पुराने समय से Arjunarishta Syrup का उपयोग अलग-अलग प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

अगर कोई सामान्य व्यक्ति Arjunarishta Syrup का नियमित सेवन करे तो उसके बीमार पड़ने की संभावना काफी हद तक कम हो जाती है।

Arjunarishta Syrup के उपयोग – Arjunarishta Syrup uses in Hindi

Arjunarishta Syrup अनेकों प्रकार की औषधियों का एक मिश्रण है तथा इसे अलग-अलग प्रकार की बीमारियों से बचाव तथा इलाज के लिए उपयोग में लाया जाता है। 

क्योंकि यह एक आयुर्वेदिक सिरप है इसके बहुत कम दुष्प्रभाव हैं और बहुत सारे लाभ हैं। Arjunarishta Syrup का उपयोग हर उम्र का व्यक्ति कर सकता है। (बहुत छोटे बच्चों को छोड़कर)

हृदय को स्वस्थ रखता है 

Arjunarishta Syrup का मुख्य उपयोग हृदय संबंधी रोगों के इलाज के लिए किया जाता है इसमें उपलब्ध जड़ी बूटियों में ऐसे तत्व हैं जो हृदय को स्वस्थ रखते हैं और हृदय संबंधी विकारों से लड़ते हैं। 

इसके साथ साथ ही अगर कोई व्यक्ति नियमित रूप से Arjunarishta Syrup का उपयोग करता है तो उसे हार्ट अटैक आने की संभावना काफी कम हो जाती है।

अमेरिका में हुई एक रिसर्च के अनुसार 100 लोगों में से जिन जिन लोगों ने Arjunarishta Syrup का उपयोग किया उनमें से 80% लोगों को हृदय संबंधी बीमारियों में सुधार देखने को मिला।

भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं

Arjunarishta Syrup में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो अलग-अलग प्रकार की बीमारियों के इलाज में उपयोग किए जाते हैं तथा इन बीमारियों से बचाव के लिए भी इनका उपयोग किया जाता है। 

Arjunarishta Syrup में उपलब्ध एंटी ऑक्सीडेंट तत्व हमें हार्ट अटैक, डायबिटीज, टाइप 2 डायबिटीज और कैंसर आदि जैसी बीमारियों से बचाते हैं।

ब्लड शुगर को नियंत्रण में रखता है

Arjunarishta Syrup में उपलब्ध औषधियां हमारे शरीर में ब्लड शुगर के लेवल को नियंत्रण में रखती हैं इसमें कुछ ऐसे तत्व उपलब्ध होते हैं जो हमारे शरीर में उपलब्ध इंसुलिन की मात्रा को नियंत्रण में रखते हैं जिसकी वजह से हमारे शरीर में शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है।

कैंसर बीमारी की संभावना को कम करता है

कुछ रिसर्च तथा शोध बताते हैं कि Arjunarishta Syrup का उपयोग करने से कैंसर जैसी बड़ी बीमारी से भी बचाव हो सकता है।

अस्थमा ठीक करता है

Arjunarishta Syrup का नियमित उपयोग करने से हमें श्वसन तंत्र संबंधी विकार नहीं होते तथा स्वसन तंत्र संबंधी विकार के इलाज में भी Arjunarishta Syrup का उपयोग किया जाता है। Arjunarishta Syrup में उपलब्ध तत्व अलग-अलग प्रकार के श्वसन तंत्र संबंधी रोगों को दूर करते हैं और अस्थमा को भी ठीक करते हैं।

यूरिनरी डिसऑर्डर के इलाज के लिए उपयोग में लाया जाता है

नियमित रूप से Arjunarishta Syrup का उपयोग करने से हमारा पाचन तंत्र मजबूत रहता है हमें किसी प्रकार का कोई इंफेक्शन और संक्रमण नहीं होते, हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ जाती है। नियमित रूप से Arjunarishta Syrup का उपयोग करने पर यूरिनरी डिसऑर्डर में भी राहत मिलती है।

किडनी की कार्य क्षमता को बढ़ाता है

Arjunarishta Syrup में उपलब्ध तत्व हमारी किडनी की कार्य क्षमता को बढ़ा देते हैं। नियमित रूप से Arjunarishta Syrup का उपयोग करने से हमें किडनी संबंधी विकार नहीं होते और हमारी किडनी भी बहुत अच्छे से कार्य कर पाती है।

पुरुष यौन शक्ति बढ़ाता है

अक्सर कई मामलों में पाचन तंत्र के कमजोर होने और इम्यून पावर के कम होने की वजह से व्यक्ति कि यौन शक्ति कमजोर हो जाती है। Arjunarishta Syrup में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो हमारे पूरे पाचन तंत्र को मजबूत बनाते हैं इसके साथ साथ ही हमारी इम्यून शक्ति को भी बढ़ा देते हैं।

प्रजनन की क्षमता को बढ़ाता है‌

नियमित रूप से Arjunarishta Syrup का उपयोग करने से हमारा पाचन तंत्र मजबूत होता है इम्यून शक्ति बढ़ जाती है जिसकी वजह से यौन शक्ति भी बढ़ जाती है और जब हमारा पाचन तंत्र और इम्यून सिस्टम सही रहता है तो प्रजनन की क्षमता भी बढ़ जाती है।

ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखता है

इसमें उपलब्ध औषधियां हमारे स्वास्थ्य को स्वस्थ रखती हैं और हमें किसी प्रकार की कोई बीमारी नहीं होने देती, नियमित रूप से Arjunarishta Syrup का उपयोग करने से हमारा ब्लड प्रेशर नियंत्रण में रहता है और हमें किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होती।

कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रण में रखता है

नियमित रूप से Arjunarishta Syrup का उपयोग करने से हमें कोलेस्ट्रॉल की समस्या नहीं होती हमारा ब्लड प्रेशर नियंत्रण में रहता है जिसकी वजह से हमारी धमनियों में कोलेस्ट्रॉल जम ही नहीं पाता।

यह भी पढ़ें: Azithromycin in Hindi | एज़िथ्रोमायसिन की जानकारी, फायदे, उपयोग, दुष्प्रभाव इत्यादि

Arjunarishta Syrup के दुष्प्रभाव – Side effects of Arjunarishta Syrup in Hindi

Arjunarishta Syrup का निर्माण आयुर्वेदिक औषधियों द्वारा किया जाता है इसका उपयोग अलग-अलग प्रकार के रोगों के इलाज के लिए किया जाता है इस दवाई के अनेकों लाभ हैं और कुछ हल्के-फुल्के दुष्प्रभाव भी हैं।क्योंकि यह एक आयुर्वेदिक औषधि है इसलिए इसके कोई भी गंभीर दुष्प्रभाव नहीं है हां परंतु कुछ मामलों में इसके हल्के-फुल्के दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे

  • सर दर्द होना
  • पिंपल निकलना
  • कब्ज होना
  • उल्टी का मन होना
  • एलर्जीक रिएक्शन
  • उल्टी आना

Arjunarishta Syrup की खुराक – Dosage of Arjunarishta Syrup in Hindi

Arjunarishta Syrup की खुराक आप अपने डॉक्टर के अनुसार ही लें।

  • आमतौर पर Arjunarishta Syrup को दिन में दो बार एक एक ढक्कन सेवन किया जाता है।
  • इसे लगभग हर उम्र का व्यक्ति ले सकता है।
  • सामान्य व्यक्ति भी अगर इसका सेवन करे तो वह आसानी से बीमार नहीं पड़ेगा और उसका पाचन तंत्र मजबूत हो जाएगा।

Arjunarishta Syrup का मूल्य – Price of Arjunarishta Syrup in Hindi

Arjunarishta Syrup को अलग-अलग कंपनियों द्वारा निर्मित किया गया है हर कंपनी का अलग मूल्य है।

  • Dhootapapeshwar Arjunarishta (450ml) – MPR 166
  • Baidyanath Ayurved Arjunarishta (450ml) – MRP 140
  • arjunamrita arjunarishta special 450ml shree baidyanath ayurved bhavan – MRP 230
  • Dabur Parthadyarishta (Arjunarishta) Syrup 450 ml – MRP 162

Arjunarishta Syrup की सावधानियां – Precautions of Arjunarishta Syrup in Hindi

Arjunarishta Syrup आयुर्वेदिक सिरप है इसका उपयोग किसी भी उम्र का व्यक्ति कर सकता है परंतु हां हमें इसका उपयोग करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जैसे

  • गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इस दवाई का सेवन नहीं करना चाहिए। या डॉक्टर की सलाह से ही इसका सेवन करना चाहिए।
  • बहुत छोटे बच्चों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
  • इस दवाई का उपयोग करने के बाद गाड़ी ना चलाएं क्योंकि इस दवाई का उपयोग करने के बाद हल्की-फुल्की नींद आती है।
  • किडनी तथा लिवर संबंधी विकारों वाले व्यक्ति इस दवाई का सेवन कर सकते हैं परंतु इसका उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें लें।

Arjunarishta Syrup के घटक – Ingredients of Arjunarishta Syrup in Hindi

Arjunarishta Syrup का निर्माण अलग-अलग प्रकार की जड़ी बूटियों द्वारा किया जाता है Arjunarishta Syrup में उपलब्ध हर जड़ी बूटी का अलग-अलग कार्य होता है जिनकी सूची निम्नलिखित है।

अर्जुन की छाल

अर्जुन का पेड़ शहरों में बहुत कम होता है अक्सर अर्जुन के पेड़ गांव जैसे इलाकों में ज्यादा देखने को मिलते हैं इस पेड़ की छाल के साथ-साथ इस पेड़ के फूल और फल का भी उपयोग औषधि बनाने के लिए किया जाता है।

अर्जुन की छाल का उपयोग डायबिटीज, श्वसन तंत्र संबंधी बीमारियों, हृदय संबंधी बीमारियों और अन्य प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

धातकी 

धातकी एक आयुर्वेदिक औषधि है इसका उपयोग अलग-अलग प्रकार की इम्यून सिस्टम संबंधी रोगों के लिए किया जाता है जैसे डायरिया, सर दर्द, डायबिटीज, हाई बीपी, लो बीपी आदि।

महुआ का फूल

महुआ का फूल एक anti-inflammatory तत्व की तरह काम करता है यह दर्द से राहत दिलाने और खाज खुजली के लिए उपयोग में लाया जाता है इसके साथ साथ यह श्वसन तंत्र संबंधी बीमारियों के लिए भी उपयोग में लाया जाता है।

सूखे अंगूर 

सूखे हुए अंगूरों हमारे शरीर में एक एंटीऑक्सीडेंट की तरह कार्य करते हैं इसके अलावा अगर हम इसे शरीर के किसी चोट पर लगाए तो वह काफी जल्दी हो जाता है।

इसके साथ साथ ही सूखे हुए अंगूर कब्ज, हाइपरटेंशन, डायबिटीज, एनीमिया, बुखार, पेट में एसिडिटी और अन्य प्रकार की बीमारियों के लिए उपयोग किए जाते हैं।

गुड

गुड हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदाई होती है इसका उपयोग अलग-अलग प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है जैसे यह हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करती हैं, जॉइंट पेन से राहत दिलाती है, एनीमिया के इलाज में भी गुड़ का उपयोग किया जाता है।

Arjunarishta Syrup कैसे कार्य करता है – How Does Arjunarishta Syrup works in Hindi

Arjunarishta Syrup आयुर्वेदिक सिरप है तथा इसमें अलग-अलग प्रकार की जड़ी बूटियों का इस्तेमाल किया जाता है ऊपर दिए गए पैराग्राफ में हमने हर जड़ी बूटी का कार्य बताया है यह सभी जड़ी बूटियां मिलकर हमारे शरीर में उपलब्ध सभी रोगों को ठीक कर देती हैं और हमारे स्वास्थ्य को अच्छा करती हैं इसके साथ साथ ही हमारे पाचन तंत्र और इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाती है जिससे हमें किसी भी प्रकार के रोग आसानी से नहीं होते और हमारा शरीर भी स्वस्थ रहता है।

निष्कर्ष

हमने इस आर्टिकल में बताया है कि Arjunarishta Syrup क्या है Arjunarishta Syrup का उपयोग क्या है, Arjunarishta Syrup के दुष्प्रभाव क्या हैं, Arjunarishta Syrup कैसे कार्य करता है Arjunarishta Syrup का मूल्य क्या है Arjunarishta Syrup की खुराक क्या है Arjunarishta Syrup किन-किन जड़ी बूटियों से मिलकर बना होता है

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा अगर आपके कोई सुझाव या सवाल हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं हम आपके सवालों का जवाब देने का प्रयास जरूर करेंगे।

क्या Baidyanath Arjunarishta को गुनगुना पानी के साथ ले सकते है?

हां, बैद्यनाथ Arjunarishta Syrup को गुनगुने पानी के साथ सेवन करने पर यह आपके पाचन तंत्र के लिए अति उत्तम होगा।

क्या Baidyanath Arjunarishta का उपयोग करने से आदत तो नहीं लग जाती है?

नहीं, बैद्यनाथ Arjunarishta Syrup में कोई भी ऐसा तत्व नहीं है जिसकी वजह से आपको इसकी लत लग सके परंतु हां इसका उपयोग करने के बाद थोड़ी बहुत नींद आने की संभावना रहती है।

क्या Baidyanath Arjunarishta शरीर को सुस्त तो नहीं कर देती है?

नहीं, बैद्यनाथ Arjunarishta Syrup का उपयोग करने से आपका शरीर स्वस्थ नहीं होगा परंतु बैद्यनाथ Arjunarishta Syrup का उपयोग करने से आपको हल्की-फुल्की नींद आएगी और जब आप उठेंगे तो आप एकदम तरोताजा और तंदुरुस्त महसूस करेंगे।

क्या Baidyanath Arjunarishta का उपयोग शराब का सेवन करने वालों के लिए सही है?

हां, वैद्यनाथ Arjunarishta Syrup का सेवन शराब पीने वाला व्यक्ति कर सकता है परंतु अगर कोई व्यक्ति Arjunarishta Syrup को शराब के साथ सेवन करता है तो उसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

क्या Baidyanath Arjunarishta का उपयोग गर्भवती महिला के लिए ठीक है?

हां, Arjunarishta Syrup का उपयोग गर्भवती महिलाएं कर सकती हैं परंतु महिलाओं को अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही Arjunarishta Syrup का उपयोग करना चाहिए अपनी मर्जी से इस सिरप का उपयोग नहीं करना चाहिए।

क्या Baidyanath Arjunarishta का उपयोग स्तनपान करने वाली महिलाओं के लिए ठीक है?

Arjunarishta Syrup का उपयोग स्तनपान कराने वाली महिलाएं कर सकती हैं परंतु ऐसा करने से उनके छोटे बच्चे पर इसका दुष्प्रभाव हो सकता है उसे दस्त हो सकते हैं।

Baidyanath Arjunarishta का पेट पर क्या असर होता है?

Arjunarishta Syrup हमारे पेट के लिए अति उत्तम है यह पेट से जुड़ी बीमारियों जैसे गैस, एसिडिटी, कब्ज और अपच जैसी बीमारियों के लिए अति उत्तम है इसके साथ-साथ यह हमारे पाचन तंत्र को तो मजबूत करता ही है और हमारी इम्यून शक्ति को बढ़ा देता है।

क्या Arjunarishta Syrup को खाली पेट लिया जा सकता है?

हां, Arjunarishta Syrup को खाली पेट दिया जा सकता है।

क्या Arjunarishta Syrup एल्कोहोल के साथ सुरक्षित है?

नहीं, Arjunarishta Syrup का सेवन एल्कोहल के साथ सुरक्षित नहीं है।

Arjunarishta Syrup का सेवन कब तक किया जाना उचित है?

Arjunarishta Syrup का उपयोग लगभग 3 महीने तक किया जाना चाहिए।

Arjunarishta Syrup को कैसे संग्रहित किया जाना चाहिए?

Arjunarishta Syrup को संग्रहित करने के लिए किसी भी विशेष माहौल की जरूरत नहीं होती है। Arjunarishta Syrup की शीशी को सामान्य कमरे के ताप पर कहीं भी रखा जा सकता है।

Arjunarishta Syrup की दो लगातार खुराकों के बीच कितना समय अंतराल होना आवश्यक है?

Arjunarishta Syrup की दो लगातार खुराकों के बीच लगभग 4 से 6 घंटों का अंतराल होना चाहिए।

क्या Arjunarishta Syrup भारत में लीगल है?

Arjunarishta Syrup भारत में लीगल है।

क्या Arjunarishta Syrup मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करता है?

नहीं Arjunarishta Syrup मासिक धर्म को प्रभावित नहीं करता।

Arjunarishta Syrup से पेट की चर्बी कम होती है या नहीं?

हां Arjunarishta Syrup का नियमित सेवन करने से हमारा पाचन तंत्र मजबूत होता है और जब पाचन तंत्र मजबूत हो जाता है तो पेट की चर्बी भी कम होने लगती है।

क्या Arjunarishta Syrup को मधुमेह रोगी ले सकते है?

मधुमेह से ग्रस्त रोगी के लिए Arjunarishta Syrup काफी लाभदायक होता है।