Shighrapatan Rokne ki Dawa | शीघ्रपतन को रोकने के लिए दवा

जिस प्रकार खाना खाना हमारे शरीर की एक मूलभूत आवश्यकता है उसी प्रकार सेक्स करना भी हमारे शरीर की एक आवश्यकता है। जिस प्रकार लोगों को सर दर्द होता है लोग बीमार पड़ते हैं उसी प्रकार कुछ लोग ढंग से सेक्स नहीं कर पाते और उन्हें सेक्स संबंधी बीमारियां हो जाती हैं। 

सेक्स संबंधी बीमारियां होना कोई गुनाह नहीं है परंतु फिर भी लोग सेक्स संबंधी बीमारी होने पर डॉक्टर के पास नहीं जाते। सेक्स संबंधी बीमारियों में सबसे आम बीमारी जो पुरुषों में होती है वह है शीघ्रपतन।

भारत में जितने भी मामले सेक्स संबंधी बीमारियों के बारे में होते हैं उनमें लगभग 80% मामले शीघ्रपतन और शीघ्रपतन से जुड़ी बीमारियों के बारे में होते हैं।

शीघ्रपतन मतलब जब व्यक्ति सेक्स करता है तब वह बहुत जल्दी डिस्चार्ज हो जाता है या व्यक्ति के लिंग में से स्पर्म बहुत जल्दी निकल जाता है, ऐसा होने पर व्यक्ति जल्दी थक जाता है और व्यक्ति सेक्स भी इंजॉय नहीं कर पाता है।

इस आर्टिकल में हम पढ़ेंगे शीघ्रपतन का इलाज कैसे किया जाता है और शीघ्रपतन के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सभी दवाइयों के बारे में भी विस्तार पूर्वक चर्चा करेंगे।

शीघ्रपतन की दवाई – Medicine for premature ejaculation in Hindi

Shighrapatan Rokne ki Dawa | शीघ्रपतन को रोकने के लिए दवा

शीघ्रपतन के इलाज के लिए अलग-अलग प्रकार की दवाइयों का इस्तेमाल किया जाता है कुछ दवाइयां कारगर होती हैं कुछ नहीं। परंतु आमतौर पर शीघ्रपतन के लिए निम्नलिखित दवाइयों का प्रयोग किया जाता है।

एंटीडिप्रेसेंट / Antidepressant

एंटीडिप्रेसेंट एक दवाई है जिसका उपयोग अलग-अलग प्रकार की तनाव संबंधी बीमारियों के इलाज में किया जाता है। इस दवाई का एक दुष्प्रभाव यह है कि इसका उपयोग करने से व्यक्ति जल्दी डिस्चार्ज नहीं होता।

अमेरिका में हुई एक रिसर्च के अनुसार जब 100 लोगों को एंटीडिप्रेसेंट दवाइयां खाने को दि गयी तो उनमें से 80% से ज्यादा लोग अपने सेक्स जीवन को अच्छी तरीके से इंजॉय कर पाए और उन्हें शीघ्रपतन की समस्या नहीं हुई।

कुछ एंटीडिप्रेसेंट दवाइयों की लिस्ट 

  • लेक्साप्रो
  • सेराट्रलाइन (ज़ोलॉफ्ट)
  • पेरॉक्सेटिन (पक्सिल)
  • फ्लूक्साइटीन (प्रोज़ैक, सराफेम)

घटक 

सेरोटोनिन, डोपामाइन, और नॉरपेनेफ्रिन


एनाल्जेसिक / Analgesic

एनाल्जेसिक दवाइयों का मुख्य इस्तेमाल आमतौर पर तेज दर्द के इलाज के लिए किया जाता है। इस दवाई के भी बहुत सारे साइड इफेक्ट्स होते हैं जिनमें से एक साइड इफेक्ट है कि जब कोई व्यक्ति इस दवाई का सेवन करता है तो व्यक्ति जल्दी डिस्चार्ज नहीं होता है। 

इन दवाइयों का इस्तेमाल अलग-अलग प्रकार की बीमारियों के लिए किया जाता है परंतु जब कोई व्यक्ति इन दवाइयों का इस्तेमाल करता है तो वह व्यक्ति जल्दी डिस्चार्ज नहीं होता ऐसा होने से व्यक्ति ज्यादा लंबे समय तक सेक्स कर पाता है और सेक्स को इंजॉय कर पाता है।

कुछ एनाल्जेसिक दवाइयों की लिस्ट

  • डिक्लोफेनाक (वोल्टेरेन)
  • डिफ्लुनिसल (डोलोबिड)
  • एटोडोलैक (लोडाइन)
  • फेनोप्रोफेन (नाल्फोन)
  • इबुप्रोफेन (मोट्रिन)
  • इंडोमिथैसिन (इंडोसिन, इंडो-लेमन)
  • केटोरोलैक (टोराडोल)

घटक

एस्पिरिन या इबुप्रोफेन, कैफीन, कोडीन या ऑक्सीकोडोन, पैरासिटामोल (एसिटामिनोफेन), फेनासेटिन


यह भी पढ़ें:- पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन बढ़ाने के घरेलू उपाय क्या हैं | How to Increase Testosterone in Hindi

फॉस्फोडिएस्टरेज़ -5 अवरोधक / Phosphodiesterase-5 inhibitors

फॉस्फोडिएस्टरेज़ -5 अवरोधक दवाइयां जैसे सिल्डेनाफिल (वियाग्रा), तडालाफिल (सियालिस, एडसर्का) या वॉर्डनफिल (लेवित्रा, स्टैक्सिन) का प्रयोग इरेक्टाइल डिस्फंक्शन जैसी बीमारी के लिए किया जाता है जिसमें पुरुष ढंग से संभोग नहीं कर पाता परंतु अगर इस दवाई का प्रयोग एंटीडिप्रेसेंट मेडिसिन (एस एस आर आई) के साथ किया जाए तो इरेक्टाइल डिस्फंक्शन और शीघ्रपतन जैसी बीमारियों के इलाज के लिए यह काफी कारगर साबित होती हैं।

कुछ फॉस्फोडिएस्टरेज़ -5 अवरोधक दवाइयों की लिस्ट

  • सिल्डेनाफिल (वियाग्रा)
  • तडालाफिल (सियालिस, एडसर्का)
  • वॉर्डनफिल (लेवित्रा, स्टैक्सिन)

घटक

सिल्डेनाफिल, वॉर्डनफिल, तडालाफिल, और अवानाफिल


Modafinil (Provigil)

यह दवाई काफी अच्छी और कारगर दवाई है इस दवाई का सेवन करने से अलग-अलग प्रकार की नींद संबंधी बीमारियां दूर होती है इसके साथ-साथ जब कोई व्यक्ति इस दवाई का प्रयोग करता है तो उसे इरेक्टाइल डिस्फंक्शन और शीघ्रपतन जैसी बीमारियों से भी निजात मिलती है। 

घटक

Croscarmellose सोडियम, लैक्टोज मोनोहाइड्रेट, मैग्नीशियम स्टीयरेट, माइक्रोक्रिस्टलाइन सेलुलोज, पोविडोन और प्रीगेलैटिनाइज्ड स्टार्च


सिलोडोसिन (रैपाफ्लो) / Psilocybin (rapaflo)

इस दवाई का उपयोग प्रोस्टेट ग्लैंड के उपचार में किया जाता है परंतु जब कोई व्यक्ति इस दवाई का प्रयोग करता है तो उसे शीघ्रपतन में राहत मिलती है। व्यक्ति ज्यादा देर और लंबे समय तक सेक्स कर पाता है और अपनी सेक्स लाइफ को भी इंजॉय कर पाता है। 

घटक

डी-मैननिटोल, मैग्नीशियम स्टीयरेट, प्रीगेलैटिनाइज्ड स्टार्च, और सोडियम लॉरिल सल्फेट


ट्रामाडोल / Tramadol

ट्रामाडोल दवाई एक स्ट्रोंग नारकोटिक दवाई है इस दवाई का मुख्य उपयोग दर्द को कम करने के लिए किया जाता है लेकिन कभी-कभी इस दवाई का उपयोग शीघ्रपतन के इलाज के लिए भी किया जाता है‌।

क्योंकि इसका उपयोग करने पर शीघ्रपतन की समस्या समाप्त हो जाती है और व्यक्ति अपने सेक्स को इंजॉय कर पाता है और व्यक्ति सेक्स ज्यादा लंबे समय तक कर पाता है कुछ शोध बताती हैं कि दवाई का नियमित सेवन करने पर पुरुषों में intra-vaginal ejaculatory latency time (IELT) बढ़ जाता है।

घटक 

ट्रामाडोल, हाइड्रोक्लोराइड, एसिटामिनोफ़ेन

यह भी पढ़ें:- Virya badhane ki tablet | वीर्य को गाढ़ा और शक्राणु बढाने वाली दवा


निष्कर्ष

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा हमने इस आर्टिकल में शीघ्रपतन बीमारी के उपचार में इस्तेमाल की जाने वाली दवाइयों के बारे में विस्तार पूर्वक बताया है।

अगर आपके कोई सवाल या जवाब है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके सवालों का जवाब देने का प्रयास जरूर करेंगे।