Himalaya Liv 52 Syrup uses in Hindi | हिमालया लिव 52 सीरप की जानकारी, फायदे, दुष्प्रभाव इत्यादि

आजकल का खानपान तथा बढ़ते हुए पॉल्यूशन के चलते बीमारियां काफी बढ़ गई हैं छोटे-छोटे बच्चों को भी गंभीर गंभीर बीमारियां होने लगी हैं ज्यादातर बीमारियां लिवर तथा उससे जुड़ी होती हैं। फैटी लीवर एक बहुत ही कॉमन सी बीमारी है जो बहुत सारे लोगों को आसानी से हो जाती है और आज के समय में लिवर से जुड़ी बीमारियां होना एक बहुत ही सामान्य सी बात बन गई है।

लिवर से जुड़ी किसी भी प्रकार की बीमारी होने पर Liv 52 Syrup नाम के सिरप का उपयोग करने के लिए डॉक्टर जरूर कहता है क्योंकि लिवर से जुड़ी बीमारियों के इलाज के लिए Liv 52 Syrup को बहुत ही कारगर दवाई माना गया है इस दवाई के बहुत ही कम दुष्प्रभाव हैं क्योंकि यह दवाई संपूर्ण रूप से आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से बनी हुई होती है तथा इसमें किसी भी प्रकार के केमिकल का उपयोग नहीं किया जाता।

इस दवाई के अनेकों लाभ हैं और कुछ लोग तो इसे कई बीमारियों में रामबाण इलाज बताते हैं इस सिर्फ का निर्माण हिमालया फार्मास्यूटिकल द्वारा किया गया है और यह कंपनी पिछले 90 सालों से दवाइयां बना रही है इसलिए इस दवाई पर संपूर्ण रूप से भरोसा किया जा सकता है।

इस आर्टिकल में हम Himalaya Liv 52 Syrup के बारे में बात करेंगे और Himalaya Liv 52 Syrup के बारे में सभी जानकारी प्रदान करेंगे जैसे कि Himalaya Liv 52 Syrup के फायदे, नुकसान इत्यादि (Himalaya Liv 52 Syrup uses in hindi)

Table of Contents

Liv 52 Syrup क्या है – What is Liv-52 Syrup in Hindi

Himalaya Liv 52 Syrup uses in Hindi | हिमालया लिव 52 सीरप की जानकारी, फायदे, दुष्प्रभाव इत्यादि

Himalaya Liv 52 Syrup एक आयुर्वेदिक सिरप है इस सिरप का निर्माण हिमालयन कंपनी द्वारा किया गया है यह कंपनी काफी प्रचलित है Liv 52 Syrup अलग-अलग प्रकार के रोगों के इलाज के लिए उपयोग में लाया जाता है जैसे भूख में कमी होना, लिवर संबंधी रोग होना, हेपेटाइटिस होना, एनीमिया की शिकायत होना, इसके अलावा बहुत सारे लोग इसे फैटी लीवर से निजात पाने के लिए भी इस्तेमाल करते हैं आदि, इसका निर्माण अलग-अलग प्रकार की जड़ी बूटियों द्वारा किया जाता है।

क्योंकि Liv 52 Syrup के निर्माण में किसी भी प्रकार के केमिकल का इस्तेमाल नहीं किया जाता और इसका निर्माण सिर्फ जड़ी बूटियों द्वारा ही होता है इसलिए इस दवाई के दुष्प्रभाव ना के बराबर होते हैं।

इस सिरप का इस्तेमाल सिर्फ डॉक्टर की सलाह अनुसार ही करना चाहिए बिना डॉक्टर की सलाह इस दवाई का प्रयोग करने पर आपको हल्के-फुल्के दुष्प्रभाव हो सकते हैं साथ ही आपके पैसे भी व्यर्थ हो सकते हैं।

Liv 52 Syrup का उपयोग तथा फायदे – Liv 52 Syrup uses in Hindi

Liv 52 Syrup एक आयुर्वेदिक सिरप है और इसके बहुत सारे लाभ हैं आयुर्वेदिक होने की वजह से इसके बहुत कम दुष्प्रभाव है ना के बराबर। Liv 52 Syrup का इस्तेमाल कई प्रकार की बीमारियों के इलाज और रोकथाम के लिए किया जाता है आइए हम Liv 52 Syrup के उपयोग तथा लाभ के बारे में पढ़ते हैं।

  • लिवर संबंधी किसी भी प्रकार की समस्या होने पर विशेषकर फैटी लीवर होने पर डॉक्टर आपको Liv 52 Syrup का उपयोग करने की सलाह देते हैं।
  • अक्सर देखा जाता है कि जब महिलाएं प्रेग्नेंट हो जाती हैं तब उन्हें भूख कम लगने लगती है तथा कई अन्य कारणों से भी लोगों को भूख नहीं लगती इस सिरप का उपयोग भूख को बढ़ाने के लिए भी किया जाता है।
  • Liv 52 Syrup एक आयुर्वेदिक सिरप है इसलिए इसका इस्तेमाल करने पर भूख बढ़ जाती है और शरीर हष्ट पुष्ट हो जाता है।
  • Liv 52 Syrup का इस्तेमाल करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है और कब्ज एसिडिटी जैसी समस्याएं नहीं होती हैं। तथा यह हैंगओवर से लड़ने में भी मदद करता है।
  • शरीर में उत्पन्न होने वाले विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में मदद करता है जंक फूड आदि खाने से हमारे शरीर में विषाक्त पदार्थ उत्पन्न हो जाते हैं उन्हें खत्म करने में मदद करता है।
  • इसका इस्तेमाल पीलिया के इलाज में भी किया जाता है तथा पीलिया के इलाज के लिए इसे कारगर दवाई माना जाता है।
  • किसी भी बीमारी से रिकवरी करने में मदद करता है।
  • आमतौर पर Liv 52 Syrup को भूख बढ़ाने के लिए कब्ज से निजात पाने के लिए एनीमिया की शिकायत के लिए पीलिया के लिए वजन बढ़ाने के लिए हार्मोन असंतुलन होने पर तथा कई अन्य कारणों से उपयोग में लाया जाता है।

यह भी पढ़ें:- फेरिमॉन एक्सटी टैबलेट / Ferimon Xt Tablet in Hindi | Ferimon XT Tablet in Hindi की जानकारी, लाभ, फायदे, उपयोग

Liv 52 Syrup में इस्तेमाल होने वाली चीजें – Ingredients of Liv-52 syrup in Hindi

Liv 52 Syrup एक आयुर्वेदिक सिरप है तथा इसमें अलग-अलग प्रकार की जड़ी बूटियों का उपयोग किया जाता है इसे सिरप के अनेकों लाभ हैं तथा बहुत कम दुष्प्रभाव है।

  • कैपारिस स्पिनोसा – 34 मिलीग्राम
  • कैसिया ऑक्सिडेंटलिस – 8 मिलीग्राम
  • एचीलिया मिलेफोलियम – 8 मिलीग्राम
  • सिचोरियम इंटीबस – 34 मिलीग्राम
  • सोलनम नाइग्रम – 16 मिलीग्राम
  • टर्मिनलिया अर्जुन – 16 मिलीग्राम
  • इमली गैलिका – 8 मिलीग्राम / 5 एमएल।

यह भी पढ़ें:- Mifegest Kit (माइफ्जेस्ट किट) in Hindi – माइफ्जेस्ट किट की जानकारी, फायदे, लाभ सम्पादन |

Liv 52 Syrup के दुष्प्रभाव – Side effects of Liv-52 syrup in Hindi

Liv 52 Syrup के निर्माण में अलग-अलग प्रकार की जड़ी बूटियों का इस्तेमाल किया जाता है इसलिए इसका उपयोग करने पर दुष्प्रभाव बहुत कम होते हैं परंतु इसका उपयोग करने पर आपको निम्नलिखित या किसी भी अन्य प्रकार के दुष्प्रभाव हो तो आप तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

आइए जानते हैं कि Liv 52 Syrup इस्तेमाल करने पर कौन-कौन से दुष्प्रभाव हो सकते हैं?

Liv 52 Syrup सिर्फ इस्तेमाल करने पर हमें निम्नलिखित दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

  • बेहोशी तथा चक्कर आना
  • एलर्जी या फिर प्रतिक्रिया होना
  • मलद्वार से रक्तस्राव होना
  • शरीर का वजन बढ़ना

Liv 52 Syrup का इस्तेमाल करने पर आपको निम्नलिखित लक्षण हो सकती हैं अगर आपको निम्नलिखित या किसी भी अन्य प्रकार के लक्षण हो रहे हैं या फिर आपको किसी भी प्रकार की समस्या आ रही है तो आपको तुरंत डॉक्टर से जांच करानी चाहिए हो सकता है कि आपको किसी अन्य प्रकार की समस्या हो। 

अगर आपको इस सिरप का इस्तेमाल करने पर किसी भी प्रकार की एलर्जी हो रही हो तो आप इसके लिए डॉक्टर से सलाह लेकर एलर्जी की दवा खा सकते हैैं।

Liv 52 Syrup का मूल्य – Price of Liv-52 syrup in Hindi

Liv 52 Syrup का मूल्य

  • Liv 52 Syrup – 100ml – 80 rupees से 100 rupees तक
  • Liv 52 Syrup – 200ml – 100 rupees से 150 rupees तक

Liv 52 Syrup की खुराक – Dosage of Liv-52 syrup in Hindi

Liv 52 Syrup का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह से ही करना चाहिए बिना डॉक्टर की सलाह Liv 52 Syrup का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए तथा इस सिरप की खुराक सामान्य तौर पर खाना खाने के बाद एक चम्मच सिरप होती है परंतु आप अपने डॉक्टर की सलाह से ही इस सिरप का इस्तेमाल करें तथा इसकी खुराक लें।

Liv 52 Syrup का इस्तेमाल करने से पहले कुछ विशेष बातों के बारे में जान लेना चाहिए तथा कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए इससे हम इस दवाई के द्वारा होने वाले दुष्प्रभावों से बच सकते हैं। कुछ स्वास्थ्य संबंधी ऐसी स्थितियां होती हैं जिनमें Liv 52 Syrup दवाई का इस्तेमाल करना घातक सिद्ध हो सकता है। निम्नलिखित परिस्थितियां होने पर Liv 52 Syrup का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए या तो डॉक्टर की सलाह से ही करना चाहिए।

  • शराब का सेवन करने पर
  • स्तनपान कराने के लिए
  • गर्भावस्था 

यह भी पढ़ें:- पथरी की दवा पतंजलि – Pathri Ki Dawa Patanjali

Liv 52 Syrup की अन्य दवाइयों के साथ प्रतिक्रिया – Interaction of Liv 52 syrup with other medicines in Hindi

Liv 52 Syrup वैसे तो एक आयुर्वेदिक सिरप है यह अलग-अलग प्रकार की जड़ी बूटियों से मिलकर बनाया गया है इसमें किसी भी प्रकार के केमिकल आदि तत्वों का इस्तेमाल नहीं किया गया है इसका इस्तेमाल करने पर बहुत सारे लाभ होते हैं और दुष्प्रभाव ना के बराबर होते हैं।

Liv 52 Syrup कुछ दवाइयों के साथ रिएक्शन कर सकती है इसलिए अगर आप भी Liv 52 Syrup का इस्तेमाल कर रहे हैं तो नीचे दी गई लिस्ट को एक बार अच्छी तरीके से पढ़ लें। इन सभी दवाइयों का और Liv 52 Syrup का उपयोग एक साथ करने पर दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

  • उच्चरक्तचापरोधी दवाएं
  • क्लोरप्रोपामाइड
  • ग्लिमेपाइराइड
  • ग्लिपीजाइड
  • ग्ल्यबुरैड़े
  • इंसुलिन
  • पियोग्लिटाजोन
  • रोसिग्लिटाज़ोन

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में Himalaya Liv 52 Syrup के बारे में बताया है और Himalaya Liv 52 Syrup के बारे में सभी जानकारी प्रदान किया है जैसे कि Himalaya Liv 52 Syrup के फायदे, नुकसान इत्यादि (Himalaya Liv 52 Syrup uses in hindi)

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा अगर आपके कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके सवालों का जवाब देने का प्रयास जरूर करेंगे

Liv 52 Syrup का निर्माण कौन सी कंपनी करती है?

Liv 52 Syrup का निर्माण हिमालय कंपनी करती हैं और यह पिछले 90 सालों से दवाई के क्षेत्र में है।

Liv 52 Syrup किस बीमारी के इलाज में काम आता है?

 Liv 52 Syrup मुख्य रूप से लिवर संबंधी बीमारियों के इलाज में काम आता है तथा इसे लिवर संबंधी बीमारियों के लिए रामबाण इलाज भी माना गया है।

Liv 52 Syrup दवाई किस रूप में उपलब्ध है?

Liv 52 Syrup तथा टेबलेट दोनों रूप में उपलब्ध है आप अपनी मर्जी के अनुसार दोनों का इस्तेमाल कर सकते हैं दोनों में सामान्य मात्रा में औषधियां होती हैं।

Liv 52 Syrup का क्या कोई साइड इफेक्ट है?

Liv 52 Syrup पूर्ण रूप से आयुर्वेदिक है तथा इसके बहुत कम दुष्प्रभाव है जैसे एलर्जी होना, खाज खुजली होना और यह दुष्प्रभाव भी आपको तब होंगे जब आप अत्याधिक दवाई का सेवन कर लें या फिर आपको पहले से ही किसी चीज से एलर्जी हो।

क्या स्तनपान कराने वाली महिलाएं Liv 52 Syrup का इस्तेमाल कर सकती हैं?

स्तनपान कराने वाली महिलाएं कुछ मामलों में लिवर 52 सिरप का इस्तेमाल कर सकती हैं और कुछ मामलों में इसका उपयोग नहीं कर सकती है इसलिए कुछ भी निर्णय लेने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें Liv 52 Syrup का इस्तेमाल करना या ना करना पूर्ण रूप से आपके स्वास्थ्य पर निर्भर करता है।

Liv 52 Syrup पेट के लिए कितना सुरक्षित है?

Liv 52 Syrup पेट के लिए अति उत्तम है आप बेझिझक होकर इसका उपयोग कर सकते हैं।

क्या छोटे बच्चे Liv 52 Syrup का सेवन कर सकते हैं?

हां, छोटे बच्चे Liv 52 Syrup का सेवन कर सकते हैं परंतु डॉक्टर की सलाह से ही तथा निर्धारित मात्रा में ही इसका सेवन किया जाना चाहिए।

हिमालय Liv 52 Syrup और हिमालय Liv 52 Syrup डी एस के बीच में क्या अंतर है?

वैसे देखा जाए तो दोनों में कोई भी अंतर नहीं है तथा दोनों ही लिवर संबंधी बीमारियों को ठीक करने में उपयोगी होते हैं परंतु अगर हम अंतर की बात करें तो हिमालया Liv 52 Syrup की तुलना में हिमालया Liv 52 Syrup डी एस डबल पावर का होता है। तथा इसका रंग भी अलग होता है।

Liv 52 Syrup किस पदार्थ से बना है?

Liv 52 Syrup पूर्ण रूप से आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से बना है इसमें किसी भी प्रकार के केमिकल तथा प्रिजर्वेटिव का इस्तेमाल नहीं किया गया है।

क्या Liv 52 Syrup का उपयोग खाली पेट करना चाहिए?

Liv 52 Syrup का इस्तेमाल खाली पेट नहीं करना चाहिए केवल खाना खाने के 15 से 20 मिनट बाद करना चाहिए।

Liv 52 Syrup का इस्तेमाल दिन में कितनी बार करना चाहिए

आमतौर पर दिन में दो चम्मच सुबह शाम इसका सेवन किया जाता है परंतु डॉक्टर की सलाह और निर्देशानुसार ही इसका सेवन करना चाहिए।

क्या Liv 52 Syrup का इस्तेमाल करने से इसकी आदत पड़ सकती है?

नहीं, Liv 52 Syrup का इस्तेमाल करने से इसकी आदत नहीं पड़ती क्योंकि इसमें किसी भी प्रकार का कोई ऐसा केमिकल तथा नशीली चीज नहीं है जिसकी आदत पड़ सके।

संदर्भ – Reference

1- हिमालय ड्रग कंपनी (https://himalayawellness.in/products/liv-52?lang=hi )