तंत्रिका कोशिका (neurons) | न्यूरॉन्स के संरचना और कार्य, प्रकार, संरचना इत्यादि

हमारा इंसानी शरीर अलग-अलग चीजों से मिलकर बना है और उसमें छोटे-बड़े कई अंग हैं। इन सभी अंगों को हमारा दिमाग नियंत्रण में रखता है परंतु क्या आपने कभी सोचा है कि हमारा यह छोटा सा दिमाग हमारे बड़े बड़े अंगों को किस प्रकार नियंत्रण में रखता है या अगर कोई सिग्नल हमें अपने दिमाग से हाथ तक पहुंचाना होता है तो वह कैसे पहुंचता है आज हम इसी विषय के बारे में बात करेंगे कि यह कार्य कैसे होता है। 

सिग्नल पहुंचाने का काम एक प्रकार की कोशिकाओं का होता है जिसे तंत्रिका कोशिका कहते हैं आज इस आर्टिकल में हम तंत्रिका कोशिका (neurons) के बारे में पढ़ने जा रहे हैं कि तंत्रिका कोशिका क्या है, तंत्रिका कोशिका (neurons) के प्रकार क्या हैं और तंत्रिका कोशिका (neurons) किस प्रकार कार्य करती है।

Table of Contents

तंत्रिका कोशिका या न्यूरॉन क्या है? – What is a Neuron in Hindi

तंत्रिका कोशिका (neurons) | न्यूरॉन्स के संरचना और कार्य, प्रकार, संरचना इत्यादि

इंसानी दिमाग अलग-अलग प्रकार के अंगों से मिलकर बना है जैसे दिल, हाथ, मुंह, नाक, कान इत्यादि इत्यादि परंतु क्या आपने कभी सोचा है कि जब भी हम सोचते हैं कुछ कार्य करने के लिए या किसी चीज को उठाने के लिए तब हमारा हाथ अपने आप ही उस चीज की तरफ बढ़ने लगता है हमने जो सोचा कि हमें उस वस्तु को उठाना है वह सिग्नल हमारे दिमाग से हमारे हाथ तक कैसे पहुंचा?

यह सिग्नल हमारे हाथ से हमारे दिमाग तक न्यूरॉन्स या तंत्रिका कोशिकाओं की मदद से पहुंचा। हमारे संपूर्ण शरीर में अलग-अलग प्रकार की कोशिकाएं होती हैं जिनका कार्य अलग-अलग होता है इनमें से एक कोशिका है जिसका नाम तंत्रिका कोशिका है जिसका कार्य है हमारे शरीर में सूचनाओं का आदान प्रदान करना मतलब दिमाग को सिग्नल देना कि हमने किसी चीज को छुआ है या यह सिग्नल दिमाग से हाथ तक ले जाना कि हमने किसी चीज को छुआ है।

यह भी पढ़ें:- Mitochondria in Hindi | माइटोकॉन्ड्रिया की खोज, संरचना तथा कार्य

तंत्रिका कोशिका के प्रकार – Types of Neuron in Hindi

तंत्रिका कोशिका कई प्रकार की होती हैं

किसी चीज के स्पर्श, छूने, ध्वनि या प्रकाश के होने पर ये तंत्रिका कोशिकाएं प्रतिक्रिया करती हैं।

मोटर तंत्रिका मस्तिष्क और मेरुरज्जु से संकेत लेकर दिमाग तक पहुंचाते हैं और दिमाग से संकेत लेकर मेरुरज्जु तक पहुंचाते हैं।

इसके अलावा तंत्रिका कोशिका को संरचना के आधार पर भी व्यवस्थित किया गया है इसमें है

एकध्रुवी :- सिर्फ एक ही ध्रुव होता है।

द्विध्रुवीय :- दो ध्रुव होते हैं।

बहूध्रुवीय :- दो से अधिक ध्रुव होते हैं।

तंत्रिका कोशिका के अंग – Parts of Neuron in Hindi

तंत्रिका कोशिका में मुख्य रूप से 5 अंग होते हैं

  • केंद्रक
  • कोशिका काया
  • द्रुमिका
  • तंत्रिका अक्ष 
  • तंत्रिका का अंतिम सिरा

केंद्रक / Nucleus

केंद्रक तंत्रिका कोशिका का दिमाग होता है यह कोशिका में होने वाले सभी कार्यों पर नियंत्रण रखता है तथा इसके ही निर्देशानुसार सभी कार्य होते हैं और सभी प्रकार के संदेशों का आदान प्रदान इसकी मदद से ही होता है।

कोशिका काया / Cell Body

कोशिका काया तंत्रिका कोशिका को एक आकार प्रदान करती है इसके अंदर एक द्रव्य नुमा पदार्थ होता है जो केंद्रक को चारों ओर से घेर लेता है और यह केंद्र को सुरक्षा देने का काम भी करता है इसमें भी भिन्न-भिन्न तरह के छोटे-छोटे तत्व पाए जाते हैं और यह कोशिका को ऊर्जा भी प्रदान करता है।

द्रुमिका / Dendrite

द्रुमिका Dendrite तंत्रिका कोशिका के सिर पर बनी हुई होती है और इसका कार्य होता है एक तंत्रिका कोशिका को दूसरी तंत्रिका कोशिका से जोड़ना।

तंत्रिकाक्ष / Axon

तंत्रिकाक्ष तंत्रिका कोशिका के मध्य में एक धागे की तरह जुड़ा हुआ होता है यह कोशिका के दोनों हिस्सों को आपस में जोड़े रखता है तथा एक हिस्से से दूसरे हिस्से में सूचना पहुंचाने का कार्य भी करता है।

तंत्रिका का अंतिम सिरा / Axon Terminal

तंत्रिका का अंतिम सिरा एक हैंडल के आकार का होता है जो एक तंत्रिका को दूसरे तंत्रिका से जोड़ने में मदद करता है।

तंत्रिका कोशिका संबंधी बीमारियों के नाम – Neuron related disease in Hindi

किसी भी व्यक्ति को तंत्रिका कोशिकाओं संबंधी बीमारियां हो सकती हैं उनमें से कुछ की सूची नीचे दी गई है, मोटर तंत्रिका कोशिका से संबंधित कुछ बीमारियों की सूची निम्नलिखित है।

  • Amyotrophic Lateral Sclerosis (ALS) – एमियोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस (ALS)
  • Primary Lateral Sclerosis (PLS) – प्राथमिक पार्श्व काठिन्य (पीएलएस)
  • Progressive Bulbar Palsy (PBP) – प्रोग्रेसिव बुलबार पाल्सी (PBP)
  • Pseudobulbar Palsy – स्यूडोबुलबार पाल्सी
  • Progressive Muscular Atrophy – प्रोग्रेसिव मस्कुलर एट्रोफी
  • Spinal Muscular Atrophy – रीढ़ की हड्डी में पेशीय अपकर्ष
  • Kennedy’s Disease – कैनेडी की बीमारी

यह भी पढ़ें:- शरीर के अंगों के नाम | Human Body Parts Names in Hindi

नस और तंत्रिका कोशिका में अंतर – Difference Between Nerve And Neuron in Hindi

हमारे शरीर में नसें एक पाइप लाइन की तरह काम करती हैं जिनमें खून प्रवाहित होता है हमारे शरीर के लगभग हर अंग में नसें होती हैं और इन नसों में खून प्रवाहित होता है।

तंत्रिका कोशिका एक कोशिका है जो एक प्रकार से पोस्टमैन की तरह काम करती है मतलब दिमाग से संदेश लेकर शरीर के अंगों तक पहुंचाना और अंगों से संदेश लेकर दिमाग तक पहुंचाना यह इस कोशिका का प्रमुख कार्य होता है।

तंत्रिका कोशिका के कार्य – Function of Neuron in Hindi

तंत्रिका कोशिका के निम्नलिखित कार्य होते हैं तंत्रिका कोशिका का सबसे प्रमुख कार्य संपूर्ण शरीर में सूचनाओं का आदान प्रदान करना होता है।

तंत्रिका कोशिका का सर्वप्रथम कार्य मस्तिष्क से सूचना लेकर शरीर के विभिन्न अंगों तक पहुंचाना और अंगों से सूचना लेकर मस्तिष्क तक पहुंचाना है।

इसके साथ-साथ ही तंत्रिका कोशिका के अन्य कार्य अवचेतन मस्तिष्क से जुड़े होते हैं अवचेतन मस्तिष्क हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण कार्य करता है यह जीवन की काफी सारी यादों को हमारे दिमाग में सुरक्षित रखने का काम करता है। 

तंत्रिका कोशिका के बारे में तथ्य – Facts about Neuron in Hindi

हमारे शरीर में हजारों ही नहीं बल्कि लाखों-करोड़ों तंत्रिका कोशिकाएं होती हैं तथा इनसे जुड़े काफी रोचक तथ्य हैं।

  • तंत्रिका कोशिकाएं मुख्य रूप से तीन भागों से मिलकर बनी होती हैं।
  • यह एक पेड़ के आकार की होती है
  • हर तरह के सिग्नल के लिए अलग-अलग तरह की तंत्रिका कोशिका होती है।
  • जब हम नींद में होते हैं तब भी हमारी तंत्रिका कोशिकाएं कार्य करते हैं।

निष्कर्ष

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा हमने इस आर्टिकल में तंत्रिका कोशिका (neuron) के बारे में पढ़ने जा रहे हैं कि तंत्रिका कोशिका क्या है, तंत्रिका कोशिका (neuron) के प्रकार क्या हैं और तंत्रिका कोशिका (neuron) किस प्रकार कार्य करती है

मोटर न्यूरॉन रोग के लिए पारंपरिक आयुर्वेद क्या सलाह देता है?

आयुर्वेद द्वारा मोटर न्यूरॉन रोग का इलाज संभव है तथा आयुर्वेद में इसका इलाज मौखिक गोलियों और परिधीय उपचार द्वारा किया जाता है।

किस कोशिका को शरीर पर सबसे लंबा फाइबर कहा जाता है?

न्यूरॉन या तंत्रिका कोशिका को शरीर पर सबसे लंबा फाइबर कहा जाता है।

क्या संगीत द्वारा तंत्रिका कोशिका संबंधी रोगों को ठीक किया जा सकता है?

हां, संगीत द्वारा तंत्रिका कोशिका संबंधी रोगों को ठीक किया जा सकता है, संगीत सुनने से कंसंट्रेशन पावर बढ़ती है मन खुश हो जाता है इंटेलिजेंस पड़ती है और यह अन्य तरह की दिमाग संबंधी बीमारियों में भी काफी कारगर सिद्ध होते हैं।

शरीर की सबसे लंबी तंत्रिका कोशिका कौन सी है?

शरीर की सबसे लंबी तंत्रिका कोशिका जांच में होती है

शरीर की सबसे छोटी तंत्रिका कोशिका कौन सी है?

सबसे छोटी तंत्रिका कोशिका हमारे दिमाग में होती है।