Cloves (Laung) in Hindi | लौंग के फायदे, नुकसान, इत्यादि

लौंग (Cloves) यह एक ऐसा नाम है जो आपने कभी ना कभी जरूर सुना होगा भारत में लगभग हर जगह लौंग का प्रयोग किसी ना किसी रूप में किया जाता है कहीं इसका उपयोग स्वादिष्ट व्यंजन बनाने के लिए किया जाता है तो कहीं इसका उपयोग औषधि बनाने के लिए किया जाता है यह इतनी गुणकारी है कि आयुर्वेद में भी इसका इस्तेमाल औषधि बनाने के लिए किया जाता है।

भारत के कुछ उष्णकटिबंधीय क्षेत्र जैसे तमिलनाडु और केरल आदि जगहों पर लौंग की खेती की जाती है लौंग के पेड़ ऐसे वातावरण में उठते हैं जहां पर गर्मी होने पर तापमान 30 से 35 डिग्री सेल्सियस के बीच में होता हो और ठंड होने पर तापमान 20 से 25 डिग्री सेल्सियस के बीच में होता हो।

आजकल तो चाहे आयुर्वेदिक हो या सामान्य सभी चीजों में लौंग का उपयोग किया जा रहा है जैसे टूथपेस्ट बनाने के लिए, साबुन बनाने के लिए, सिगरेट बनाने के लिए, कॉस्मेटिक्स बनाने के लिए और परफ्यूम बनाने के लिए।

लौंग इतनी गुणकारी है इसीलिए आज इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि लौंग क्या है, लौंग खाने के फायदे क्या हैं, अत्यधिक लौंग खाने के नुकसान क्या हैं, अलग-अलग भाषा लौंग को किस नाम से जाना जाता है। इसके साथ ही हमने लौंगों द्वारा पूछे गए कुछ प्रश्नों के जवाब दे दिए हैं जो शायद आप के लिए लाभकारी सिद्ध हो।


Table of Contents

लौंग क्या है – What is clove in Hindi

लौंग एक प्रकार का छोटा फल होता है जिसे अलग-अलग कार्य के लिए इस्तेमाल किया जाता है ज्यादातर लौंग को मसाले के रूप में इस्तेमाल किया जाता है जिससे विभिन्न विभिन्न प्रकार के स्वादिष्ट पकवान बनाए जाते हैं। लौंग का इस्तेमाल जड़ी बूटी की तरह हजारों वर्षों से भारत में किया जा रहा है। लौंग का पेड़ होता है जो भारत के उष्णकटिबंधीय इलाकों और पूरे एशिया और साउथ अमेरिका में उगाया जाता है।

इसका इस्तेमाल दवाइयां बनाने के लिए भी किया जाता है और लौंग का सबसे प्रचलित औषधीय उपयोग है कि जब किसी व्यक्ति के दांत में दर्द होता है तब वहां पर लौंग को रखने से या लौंग के तेल को रुई के ऊपर लगाकर प्रयोग करने से दांत का दर्द ठीक हो जाता है क्योंकि लौंग के अंदर कुछ ऐसे गुणकारी तत्व होते हैं जो दांत की नसों में जाकर रिएक्ट करते हैं और उन्हें शांत करते हैं।

लौंग का काफी लंबे समय से भारत में उपयोग किया जा रहा है और भारत के ज्यादातर लौंगों की चाय में सुबह-सुबह लौंग भी होती है। लौंगे गुणकारी औषधि है इसका उपयोग कई प्रकार से किया जाता है और यह हमारे शरीर को भिन्न भिन्न प्रकार से लाभ पहुंचाती है।

इसके कई लाभ हैं जैसे लौंग सर्दी, खांसी से बचाती है, डायबिटीज को नियंत्रण में रखती है, पाचन तंत्र को मजबूत करती है और वजन घटाने में मदद करती है यहां तक की कैंसर के लिए भी लौंग लाभदायक है, सिर दर्द और दांत दर्द में भी इसका उपयोग किया जाता है और टेस्टोस्टरॉन के स्तर को भी बढ़ाती है।

इसके साथ लौंग के हल्के फुल्के दुष्प्रभाव भी हैं जैसे यह खून को पतला कर देती है, इसकी प्रकृति गरम होती है इसलिए यह हमारे शरीर को नुकसान भी कर सकती है, यह स्वाद में तीखी होती है और इसका सेवन करने से शरीर में ग्लूकोस का स्तर कम हो जाता है।

यह भी पढ़ें:- मोन्टेक एलसी टैबलेट (Montek LC Tablet): उपयोग, साइड इफ़ेक्ट इत्यादि


लौंग खाने के फायदे क्या हैं – What are the benefits of cloves in Hindi


 

लौंग एक प्रकार का मसाला है और इसे अलग-अलग प्रकार के उपयोग के लिए इस्तेमाल किया जाता है लौंग के अनगिनत लाभ हैं इसलिए भारत में ही नहीं पूरी दुनिया में लौंग का इस्तेमाल बढ़ता जा रहा है। लौंग खाने के निम्नलिखित लाभ हैं।

लौंग खाने से ओरल स्वास्थ्य ठीक रहता है – Cloves helps to improve oral health

लौंग में पोषक तत्व होते हैं जो हमारे ओरल स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं, दांतो को मजबूत करते हैं, मुंह में बदबू को कम करते हैं, दांत दर्द को ठीक करते हैं और मुंह में किसी भी प्रकार के इंफेक्शन के खतरे को भी कम करते हैं।

दांत में दर्द होने पर रुई में लौंग का तेल लगाकर दांत पर रखने से या फिर दर्द वाले दांत के ऊपर लौंग रखने से भी आराम मिलता है।

सर्दी और खांसी में आराम मिलता है – Cloves helps to reduce cough and cold

सर्दी और खांसी होने पर लौंग का सेवन करने से काफी राहत मिलती है खांसी होने पर गला भी खराब हो जाता है लौंग का सेवन करने से गला भी ठीक हो जाता है। लौंग की तासीर गर्म होती है इसलिए इसका सेवन करने से सर्दी भी कम लगती है।

डायबिटीज को कम करने में मदद करता है – Cloves helps to treat Diabetes

नियमित रूप से लौंग का सेवन करने से शरीर में शुगर का लेवल नियंत्रण में रहता है और जो लौंग शुगर जैसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त है उन्हें तो लौंग का सेवन जरूर करना चाहिए आप चाहे तो सुबह या शाम को सोते समय एक या दो लौंग का सेवन कर सकते हैं नियमित रूप से ऐसा करने पर आपको अवश्य लाभ होगा।

पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है – Cloves helps to improve digestion system

लौंग में कुछ ऐसे गुणकारी तत्व होते हैं जो हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाते हैं जब हमारा पाचन तंत्र मजबूत होता है तब हमें कब्ज की समस्या भी नहीं होती है।

वजन कम करने में सहायता करता है – Cloves helps to reduce weight

लौंग में काफी मात्रा में फाइबर और पोषक तत्व होते हैं जैसे मैग्नीशियम, सोडियम, फास्फोरस। जिसकी वजह से यह वजन कम करने में मदद करते हैं अगर किसी व्यक्ति का वजन ज्यादा है तो उसे नियमित रूप से प्रतिदिन दो लौंग का सेवन करना चाहिए या फिर सुबह खाली पेट लौंग का पानी पीना चाहिए।

कैंसर में लाभदायक- Cloves helps to treat cancer symptoms

शोध में पता चला है कि लौंग में कुछ ऐसे गुणकारी तत्व होते हैं जो कैंसर में होने वाले लक्षणों को कम करते हैं और कैंसर के इलाज में मदद करते हैं कैंसर से ग्रस्त मरीजों को लौंग का सेवन जरूर करना चाहिए।

तनाव को कम करता है – Cloves helps to reduce tension

लौंग में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो शरीर से तनाव को कम करते हैं और हमें अच्छा महसूस कराने में मदद करते हैं। शोध में पता चला है कि नियमित रूप से लौंग का सेवन करने वाले लौंगों को अन्य लौंगों के मुकाबले तनाव कम होता है। तनाव से बचने के लिए नियमित रूप से लौंग का सेवन करें या लौंग के पानी का इस्तेमाल करें।

लिवर के लिए लाभदायक है – Cloves improves health of liver

जिन लौंगों को लिवर से जुड़ी समस्या होती है उन्हें प्रतिदिन लौंग का सेवन करना चाहिए क्योंकि लौंग में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो लिवर से जुड़ी समस्याओं को ठीक करते हैं और व्यक्ति और लीवर को स्वस्थ रखते हैं। अगर किसी व्यक्ति को लिवर से जुड़ी समस्याएं होती है तो उसे प्रतिदिन एक लौंग का सेवन करना चाहिए या फिर दो चम्मच लौंग के पानी का सेवन करना चाहिए।

स्पर्म की गुणवत्ता को बढ़ाता है – Cloves improves quality of sperm

लौंग में ऐसे गुणकारी तत्व होते हैं जो व्यक्ति के स्पर्म काउंट को बढ़ाने में मदद करते हैं शरीर को तनाव मुक्त कर शरीर में ताजगी लाते हैं और सेक्सुअल लाइफ को भी बेहतर बनाते हैं इसलिए जिन लौंगों को सेक्सुअल लाइफ में समस्याएं आती हैं उन्हें नियमित रूप से 2 लौंग प्रतिदिन खानी चाहिए। आप चाहे तो सुबह सुबह खाली पेट दो लौंगों का सेवन हल्के गुनगुने पानी के साथ कर सकते हैं।

सिर दर्द और दांत दर्द में आराम मिलता है – Cloves help to reduce headache and toothache

लौंग का इस्तेमाल करने से सिर दर्द और दांत दर्द में आराम मिलता है सिर दर्द होने पर लौंग का लेप बनाकर सिर पर लगाना चाहिए और दांत दर्द होने पर रुई में लौंग का तेल लगाकर दांत पर लगाना चाहिए।

हड्डियों को मजबूत करता है – Cloves is good for strong bones

लौंग में कुछ ऐसी एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज होती है जिसकी वजह से यह हमारे शरीर को मजबूत बनाता है और इसमें आयरन, मैग्नीशियम और सोडियम जैसे पोषक तत्व होते हैं जो शरीर की हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं

इम्यूनिटी को बढ़ाता है – Cloves helps to boost immunity

लौंग का इस्तेमाल करने से हमारे शरीर का पाचन तंत्र मजबूत हो जाता है जिस वजह से हमें जल्दी बीमारियां नहीं होती, कब्ज की समस्या भी नहीं रहती, और हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ जाती है।

शीघ्रपतन से मुक्ति – Cloves help to treat premature ejaculation

लौंग में कुछ ऐसे गुणकारी तत्व होते हैं जिसकी वजह से यह सेक्सुअल लाइफ को बेहतर बनाता है शरीर में ताजगी लाता है और शीघ्रपतन जैसी समस्याओं के निवारण करता है। जिन लौंगों को शीघ्रपतन की समस्या होती है उन्हें प्रतिदिन हल्के गुनगुने पानी के साथ सुबह सुबह खाली पेट लौंग का सेवन करना चाहिए


लौंग से होने वाले नुकसान क्या है – Side effects of cloves in Hindi


इसमें कोई शक वाली बात नहीं है कि लौंग एक बहुत ही गुणकारी औषधि है परंतु इसकी प्रकृति गरम होती है इसी वजह से यह हमारे शरीर को नुकसान भी पहुंचा सकती है इसलिए लौंग का सेवन करते समय सावधानियां बरतनी चाहिए। ज्यादा लौंग खाने से व्यक्ति को नुकसान भी हो सकता है जैसे अधिक मात्रा में लौंग खाने से हमारे शरीर का शुगर लेवल कम हो जाता है जिसके कारण व्यक्ति को थकान महसूस होना, दिल घबराना, हाथ पैर कांपना, अधिक पसीना आना, नींद ना आना और चिड़चिड़ापन होना जैसे लक्षण हो सकते हैं।

लौंग का सेवन करने से होने वाले नुकसान निम्नलिखित हैं:-

खून का पतला हो जाना

लौंग अधिक मात्रा में सेवन करने से यह हमारे खून को पतला कर देता है खून पतला होने से सबसे ज्यादा नुकसान उन लौंगों का होता है जिन्हें हीमोफीलिया नाम की बीमारी होती है इस बीमारी में हल्का फुल्का कटने से भी काफी खून बह जाता है।

मुंह में जलन होना

कई बार ऐसा देखा गया है कि लौंगों को लौंग खाने के बाद मुंह में जलन होती है इसलिए जिन लौंगों को लौंग खाने के बाद मुंह में जलन होती है या तो वह लौंग लौंग के पानी का सेवन करें या फिर कम लौंग खाएं।

शरीर में ग्लूकोस के स्तर को कम कर देता है

जिन लौंगों की डायबिटीज बढ़ जाती है उन्हें लौंग का सेवन करना चाहिए परंतु जिन लौंगों की डायबिटीज कम होती है उन्हें लौंग का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए क्योंकि लौंग का सेवन करने से शुगर का स्तर कम हो जाता है ऐसा होने पर चक्कर आना बुझाना और दिल घबराना जैसे लक्षण हो सकते हैं

टेस्टोस्टरॉन के स्तर को कम कर देता है

शोध में पता चला है कि अधिक मात्रा में लौंग का सेवन करने से शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की कमी हो जाती है इससे बचने के लिए संतुलित मात्रा में ही लौंग का सेवन करें अगर आप ज्यादा लौंग का सेवन करेंगे तो आपको समस्याएं आ सकती हैं।

एलर्जी होना

कुछ लौंगों को लौंग से एलर्जी होती है या फिर लौंग का सेवन करने के बाद एलर्जी हो जाती है तो उन लौंगों को लौंग का सेवन करने से बचना चाहिए और अगर आपको गंभीर एलर्जी हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

आंखों में जलन होना

कई बार ऐसा देखा गया है कि कुछ लौंगों को लौंग का सेवन करने के बाद आंखों में जलन महसूस होती है अगर आपके साथ भी ऐसा होता है तो लौंग का सेवन बंद कर दे और डॉक्टर से सलाह ले।

लौंग गर्भावस्था में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए

गर्भवती महिलाएं या फिर बच्चे को दूध पिलाती हुई महिलाएं इस बात का विशेष ध्यान रखें कि जब बच्चे को दूध पिलाऐ उससे 1 घंटे पहले तक लौंग का सेवन ना करें क्योंकि ऐसा करने से लौंग का असर बच्चे के शरीर में भी जा सकता है।

लौंग का सेवन करने से कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं उनकी सूची हमने ऊपर दे दी है अगर आपको भी इनमें से कोई लक्षण महसूस हो रहे हैं तो सबसे पहले आप लौंग का सेवन करना बंद कर दें और उसके बाद भी आप को गंभीर दुष्प्रभाव हो रहे हैं तो डॉक्टर से तुरंत सलाह ले।


लौंग के प्रकार क्या है – Types of cloves in Hindi


लौंग पूरे भारत में इस्तेमाल की जाती है और यह भारत के उष्णकटिबंधीय इलाके जैसे तमिलनाडु, केरल जैसे राज्य में उगाई जाती है जलवायु के कारण यह अलग-अलग भी हो सकती है, अलग-अलग जगहों पर लौंग को अलग-अलग नामों से जाना जाता है लौंग एक प्रकार का मसाला है जिसे मुख्य रूप से खाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

  • पिनांग लौंग (Penang cloves)
  • मेडागास्कर लौंग (Madagascar cloves)
  • पोसी पोसी लौंग (Posi Posi cloves)
  • सफेद लौंग (White cloves)
  • अफो लौंग (Afo cloves)
  • सिपुति लौंग (Siputi cloves)
  • ज़ांज़ीबार लौंग (Zanzibar cloves)
  • अंबॉयन लौंग (Amboyan cloves)
  • कोटोक लौंग (Kotok cloves)

यह सभी भारत में इस्तेमाल की जाने वाली प्रमुख प्रकार की लौंगो की किस्में है जो ज्यादातर लौंग भारत में इस्तेमाल करते हैं इसके अलावा अन्य देशों में भी ज्यादातर इन्हीं किस्मों का इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़ें:- चाय पीने के नुकसान | चाय पीने के फायदे


लौंग के पौष्टिक तत्व – Nutritional Value of Clove in Hindi


पोषक तत्व                         मात्रा प्रति 100 ग्राम
 
पानी                                                 9।87 g
फाइबर                                          33।9  g
शुगर                                                2।38 g
ग्लूकोज                                         1।14 g
फ्रुक्टोज                                         1।07 g
कैल्शियम                                         632 mg
आयरन                                         11।83 mg
एनर्जी                                         274 kcal
प्रोटीन                                        5।97 g
कुल फैट                                        13 g
कार्बोहाइड्रेट                                     65।5 g
जिंक                                                2।32 mg
सेलेनियम                                          7।2 µg
कॉपर                                          0।368 mg
मैंगनीज                                        60।1 mg
मैग्नीशियम                                         259 mg
फास्फोरस                                        104 mg
पोटेशियम                                         1020 mg
सोडियम                                        277 mg
विटामिन-सी                                       0।2 mg
थियामिन                                         0।158 mg
राइबोफ्लेविन                                0।22 mg
विटामिन-बी                                       0।391 mg
फोलेट                                        25 µg
कोलीन                                        37।4 mg
बीटेन                                        1।4 mg
नियासिन                                          1।56 mg
विटामिन ए                                8 RAE
कैरोटीन-बीटा                                   45 µg
विटामिन ई (अल्फा-टोकोफेरॉल)          8।82 mg
फैटी एसिड, टोटल पॉलीसैचुरेटेड        3।606 g
विटामिन के (फाइलोक्विनोन)          142 µg
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड          3।952 g
फैटी एसिड, टोटल मोनोअनसैचुरेटेड  1।393 g

अनेक भाषाओं में लौंग के नाम – Name of Cloves in Different Languages in Hindi


लौंग एक ऐसी चीज है जो लगभग पूरे भारत में हर जगह पाई जाती है भारत में ही नहीं विश्व के कई हिस्सों में लौंग का इस्तेमाल किया जाता है अलग-अलग स्थानों और भाषाओं के आधार पर इसके कई नाम है और इसे अलग अलग भाषा में अलग अलग नाम से जाना जाता है यहां लौंग के सभी संभव नाम की एक लिस्ट दी है। लौंग का वैज्ञानिक नाम Syzygium aromaticum है।

  • Hindi (laung in Hindi) – लौंग, लौंग, लवंग
  • English (Lavanga in english) – क्लोवस (Cloves), जंजिबर रैड हेड (Zanzibar red head), क्लोव ट्री (Clove tree), Clove (क्लोव)
  • Sanskrit – लवङ्ग, देवकुसुम, श्रीप्रसून, श्रीसंज्ञ, श्रीप्रसूनक, वारिज
  • Urdu – लौंग (Laung), लवंग (Lavang)
  • Telugu – करवप्पु (Karvappu), लवंगमु (Lavangamu)
  • Tamil (Cloves in tamil) : किरांबु (Kirambu), किराम्पु (Kirampu)
  • Bengali – लवंग (Lavang)
  • Nepali – लवांग (Lwang)
  • Kannada – लवंग (Lavanga), रूंग (Rung)
  • Gujarati – लवींग (Laving)
  • Marathi – लवंग (Lavang)
  • Persian – मेखत (Mekhat), मेखक (Mekhak)
  • Malayalam – लौंग (Laung), ग्रामपु (Grampu), करयाम्पु (Karayampu)
  • Arabic – करनफल (Qaranphal), करनफूल (Qaranphul)

यह भी पढ़ें:- मासिक धर्म (periods): लक्षण, इलाज, और अन्य जानकारी


लौंग का कितना सेवन करना चाहिए- How Much to Consume Cloves in Hindi


हमें नियमित रूप से ज्यादा से ज्यादा दो लौंग के दाने 1 दिन में खाने चाहिए ऐसा करने से यह हमारे स्वास्थ्य के लिए अति उत्तम साबित होगी और इससे हमारे स्वास्थ्य को कई प्रकार के लाभ होंगे परंतु अगर बिना किसी बीमारी के या बिना किसी डॉक्टरी सलाह के दो से अधिक लौंग का सेवन प्रतिदिन करते हैं तो यह हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है।


लौंग कहां उगाई जाती है – Where is Cloves Found or Grown in Hindi


लौंग मलक्का दीप नाम के स्थान पर पैदा हुई थी लेकिन यह भारत के दक्षिणी क्षेत्रों जैसे केरल तमिलनाडु आदि स्थानों पर उगाई जाती है और भारत में ज्यादातर लौंग का आयात सिंगापुर से किया जाता है इसके अलावा भारत में भी लौंग की काफी अच्छी खेती की जाती है और लौंग की खेती में काफी अच्छा मुनाफा भी होता है। लौंग के पौधों को उगाने के लिए उष्णकटिबंधीय क्षेत्र चाहिए होता है और लौंग ऐसे स्थानों पर उगती है जहां का तापमान लगभग 30 से 35 डिग्री सेल्सियस के बीच में रहता है।


 लौंग का सेवन कैसे करना चाहिए – How to eat cloves in Hindi


आमतौर पर पूरी दुनिया में ज्यादातर लोग, लौंग का सेवन खाद्य सामग्री के साथ ही करते हैं जैसे चाय या सब्जी में डाल कर क्योंकि यह एक मसाला है इसलिए ज्यादातर खाद्य सामग्रियों में ही इसका प्रयोग किया जाता है। इसका उपयोग भिन्न भिन्न प्रकार की स्वादिष्ट व्यंजनों को बनाने के लिए किया जाता है।

  • लौंग को कुछ लौंग दांतों के बीच रखकर चबा चबा कर खाते हैं
  • लौंग को 10 से 15 मिनट तक पानी में डालकर खूब उबालकर पानी को ठंडा कर कर के पिया जा सकता है
  • सब्जी या किसी अन्य खाद्य सामग्री में इसका प्रयोग कर कर इसका सेवन किया जा सकता है
  • लौंग को चबा चबा कर खाने से ओरल हेल्थ अच्छी रहती है और लौंग का पानी पीने से हमारा पाचन तंत्र ठीक रहता है

लोंग का अधिक सेवन करने पर क्या होगा – Cloves overdose in Hindi


लौंग प्राकृतिक रूप से गर्म होती है जिसकी वजह से अगर कोई व्यक्ति लौंग का अधिक सेवन कर ले तो व्यक्ति को हल्की-फुल्की परेशानियां हो सकती हैं लेकिन अगर कोई व्यक्ति जरूरत से ज्यादा मात्रा में लौंग का सेवन कर ले तो व्यक्ति को निम्नलिखित परेशानियां हो सकती हैं

पेट से जुड़ी कुछ समस्याएं हो सकती हैं

  • पेट में दर्द होना
  • डायरिया होना
  • किडनी फेल हो जाना(विशेष रूप से छोटे बच्चों में)
  • उल्टी होना

आंख नाक कान और मुंह से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं

  • मुंह में जलन होना
  • कान में जलन होना
  • नाक में जलन होना
  • नाक से खून आना

दिल से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं

  • अचानक से धड़कन तेज हो जाना
  • बेहोशी आना

सास और फेफड़ों से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं

  • निगलने में तकलीफ होना
  • जोर जोर से सांस लेना
  • खाँसने पर मुंह से खून आना
अगर कोई व्यक्ति गलती से या किसी और कारण से अत्यधिक मात्रा में लौंग का सेवन कर लेता है तो उसे निम्नलिखित सभी लक्षण हो सकते हैं इनमें से कुछ लक्षण मामूली हैं जबकि कुछ लक्षण गंभीर है गंभीर लक्षण होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं अन्यथा आपको इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

 

लौंग के उपयोगी भाग – Beneficial Part of Cloves in Hindi


लौंग के पौधे का उपयोगी भाग लौंग के फूल की कलियां होती हैं जब यह कलियां सूख जाती है तब यह लौंग बन जाती हैं।

लौंग इस्तेमाल करते समय सावधानियां – Precautions when using Clove in Hindi


लौंग इस्तेमाल करते समय हमें कुछ सावधानियों का ध्यान रखना चाहिए क्योंकि लौंग की तासीर गर्म होती है इसलिए हमें इसका अधिक सेवन करने से बचना चाहिए।
  • बहुत अधिक मात्रा में लौंग का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • कोई भी चीज चाहे कितनी भी अच्छी हो उसका अत्यधिक मात्रा में सेवन करना हानिकारक हो सकता है।
  • लौंग पोषक तत्वों से भरपूर होती है परंतु यह हल्की सी तीखी भी होती है। और खाद्य सामग्री में इसका अधिक उपयोग करने से खाद्य सामग्री अधिक तीखी हो सकती है।
  • लौंग का अधिक मात्रा में सेवन करने से पेट में जलन भी हो सकती है।
  • कुछ लौंग मुंह की बाश हटाने के लिए ज्यादातर समय लौंग चबाते रहते हैं हमें ऐसा नहीं करना चाहिए।

रोज लौंग खाने से क्या होता है – What happens if we eat cloves daily?


नियमित रूप से लौंग खाने के कुछ अति उत्तम लाभ होते हैं जैसे नियमित रूप से लौंग का सेवन करने से मोटापा कम होता है, रोजाना एक लौंग का सेवन करने से हमारा ओरल स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है लौंग का सेवन करने से शरीर में शुगर की मात्रा कम होती है जिसकी वजह से यह मधुमेह से ग्रस्त लौंगों के लिए अति उत्तम विकल्प है।
 
जिन लौंगों को सामान्यता कब्ज की शिकायत रहती है या पाचन से जुड़ी समस्याएं आती रहती हैं उन लौंगों को नियमित रूप से एक लौंग का सेवन जरूर करना चाहिए क्योंकि लौंग का सेवन करने से पाचन और कब्ज से जुड़ी समस्याएं नहीं होती।
 
अगर किसी व्यक्ति के दांत में तेज दर्द हो रहा हो तो उस व्यक्ति को अपने दर्द वाले दांत पर थोड़ी देर लौंग को रखना चाहिए 2 मिनट में दर्द छूमंतर हो जाएगा और यह लौंग का सबसे प्रसिद्ध और प्रचलित लाभ है।

रात में लौंग खाने से क्या फायदा होता है – What are the benefits of eating cloves at night in hindi


नियमित रूप से रात में लौंग का सेवन करने से मुख्य रूप से 2 फायदे होते हैं जिनमें से पहला है इससे पाचन तंत्र मजबूत होता है जिसके कारण कब्ज, एसिडिटी, डायरिया, अपच जैसी समस्याओं से निजात मिलती है। और दूसरा है हमारा ओरल स्वास्थ्य स्वस्थ रहता है नियमित रूप से लौंग खाने से व्यक्ति को मुंह से दुर्गंध आना दांतों में कीड़े लगना मुंह में इन्फेक्शन होना जैसे लक्षण नहीं होते हैं।


लौंग कब खाये – When to eat cloves in hindi


शोध में पता चला है कि सुबह लौंग खाने की तुलना में जो लौंग रात में लौंग खाकर सोते हैं उनमें लौंग खाने की वजह से अधिक लाभ देखे गए हैं अगर कोई व्यक्ति रात में सिर्फ दो लौंग खा कर सोता है तो उसे रात में अच्छी नींद आती है उसका दिमागी विकास तेजी से होता है और पाचन तंत्र मजबूत रहता है इसके साथ साथ ही व्यक्ति भी आसानी से बीमार नहीं पड़ता क्योंकि नियमित रूप से लौंग का सेवन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है।


लौंग का पानी पीने से क्या होता है – What does cloves water do to the body in hindi


लौंग एक आयुर्वेदिक औषधि है और इसका उपयोग अलग-अलग प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है यहां तक कि आजकल हर प्रोडक्ट में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है चाहे वह साबुन हो या फिर दंत मंजन।

लौंग का पानी पीने के कई फायदे होते हैं जिनमें से प्रमुख है कि यह वजन घटाने में मदद करता है, ओरल स्वास्थ्य को स्वस्थ रखता है, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है, और डायबिटीज को भी कम करता है लौंग के पानी में प्रोटीन विटामिन जैसे पोषक तत्व होते हैं जो भिन्न-भिन्न प्रकार की बीमारियों के इलाज में उपयोगी सिद्ध होते हैं।


क्या लौंग खाने से गर्भ गिर सकता है – Can eating cloves cause pregnancy in hindi


गर्भावस्था के समय लौंग खाना महिलाओं की सेहत के लिए काफी अच्छा होता है लौंग में पोषक तत्व होते हैं जैसे मैग्नीशियम, सोडियम, फास्फोरस आयरन जो नवजात शिशु के दिमागी विकास के लिए काफी अच्छे माने जाते हैं और लौंग में फाइबर भी होता है जिससे पाचन तंत्र भी ठीक रहता है और कब्ज की समस्या नहीं होती।

गर्भावस्था के समय यह महिलाओं की इम्युनिटी बढ़ाने में भी मदद करता है। लौंग महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छी होती है परंतु अगर इसका बहुत अधिक सेवन किया जाए तो यह गर्भवती महिला के लिए हानिकारक भी सिद्ध हो सकती है इसलिए गर्भावस्था के समय किसी डॉक्टर या किसी जानकार व्यक्ति की सलाह से ही लौंग खाने की मात्रा तय करें।


ज्यादा लौंग खाने से क्या नुकसान होता है – What happens if you eat too much cloves?


ज्यादा लौंग खाने से व्यक्ति को नुकसान भी हो सकता है जैसे अधिक मात्रा में लाऊं खाने से हमारे शरीर का शुगर लेवल कम हो जाता है जिसके कारण व्यक्ति को थकान महसूस होना, दिल घबराना, हाथ पैर कांपना, अधिक पसीना आना, नींद ना आना और चिड़चिड़ापन होना जैसे लक्षण हो सकते हैं।

क्योंकि लौंग की तासीर गर्म होती है इसलिए गर्मी में इसे अधिक खाना हानिकारक सिद्ध हो सकता है अगर आप इसका अधिक सेवन करते हैं तो आपको नाक में से खून आ सकता है आपको तेज दर्द हो सकता है और शरीर में जगह जगह फोड़े फुंसी हो सकते हैं। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं को लौंग का बहुत अधिक सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए इससे गर्भ पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

ज्यादा मात्रा में लौंग का सेवन करने से व्यक्ति का खून पतला हो जाता है और हिमोफीलिया बीमारी से ग्रस्त मरीजों को तो इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए क्योंकि जब व्यक्ति का खून पतला हो जाता है तब हल्का-फुल्का कट लगने से ही काफी सारा खून बहने लगता है।


क्या कपूर व लौंग जेब में रख कर वायरल से बच सकते हैं?


ज्यादातर वायरल के लक्षण होते हैं खांसी और जुकाम जब किसी व्यक्ति को खांसी और जुकाम होता है तब उसके गले में खराश हो जाती हैं कपूर और लौंग का मिश्रण बनाकर उसको अपने शरीर के पास रखने से या उसे सूंघने से तीव्र गंध निकलती है जो गले को राहत देती है और जुकाम की वजह से भरी हुई नाक को भी साफ करती हैं।
 
लौंग और कपूर का मिश्रण एक इनहेलर की तरह काम करता है जिसे सूंघने से नाक क्लियर हो जाती है उसी प्रकार कपूर और लौंग के मिश्रण को सूंघने से नाक क्लियर होती है और गले में भी आराम मिलता है।
 
परंतु ऐसा नहीं है कि अगर कोई व्यक्ति अपनी जेब में कपूर और लौंग का मिश्रण रखें तो वह कोरोना जैसी महामारी से बच जाएगा, सिर्फ अंधविश्वास है।

निष्कर्ष


मैं आशा करता हूं आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा हमने इस आर्टिकल में लौंग से जुड़ी बातों के बारे में बताया है हमने इस आर्टिकल में बताया है कि लौंग क्या है, लौंग खाने के फायदे क्या हैं, अत्यधिक लौंग खाने के नुकसान क्या हैं, अलग-अलग भाषा लौंग को किस नाम से जाना जाता है। इसके साथ ही हमने लौंगों द्वारा पूछे गए कुछ प्रश्नों के जवाब दे दिए हैं जो शायद आप के लिए लाभकारी सिद्ध हो।

संदर्भ (Reference)

MetropulosN, M. (n.d.). Cloves: Health benefits and uses. Medical and health information. https://www.medicalnewstoday.com/articles/320768

Clove (Syzygium aromaticum): A precious spice. (n.d.). PubMed Central (PMC). https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3819475/

The health benefits of cloves. (n.d.). Verywell Health. https://www.verywellhealth.com/the-health-benefits-of-cloves-89050

(PDF) Clove: A review of a precious species with multiple uses. (2017, January 1). ResearchGate. https://www.researchgate.net/publication/337821557_Clove_A_review_of_a_precious_species_with_multiple_uses

Leave a Comment

%d bloggers like this: