हुक्का पीने के फायदे और नुकसान | हुक्का पीने के बारे में मन में उठने वाले सवाल का जवाब

आज के समय में हुक्का पीना एक बड़ा फैशन सा बन गया है जिसे देखो वह आजकल हुक्का पीता है यहां तक की भारत में 79% हुक्का पीने वालों की उम्र 12 से 17 साल होती है आजकल नई युवा पीढ़ी हुक्के की तरफ ज्यादा आकर्षित दिखती है और लोगों में हुक्के को लेकर काफी गलतफहमियां और भ्रम भी हैं।

बहुत सारे लोग ऐसा समझते हैं कि हुक्का पीना सेहत के लिए फायदेमंद होता है और कुछ लोग तो ऐसा भी मानते हैं कि हुक्के का पानी हुक्के के धुऐ से हानिकारक तत्वों को फिल्टर कर देता है।

तो इसीलिए आज इस आर्टिकल में हम हुक्के के बारे में चर्चा करेंगे और विस्तार पूर्वक जानेंगे कि हुक्का क्या है, हुक्का पीने के दुष्प्रभाव क्या हैं, हुक्का पीने के फायदे क्या हैं हुक्का कितने प्रकार का होता हैं, हुक्के का प्राइस क्या है और हुक्का पीने से कौन-कौन सी बीमारियां होती हैं इसके साथ साथ हम लोगों द्वारा पूछे गए कुछ प्रश्नों के उत्तर भी देंगे और गलतफहमियों को दूर करेंगे। 

हुक्का क्या है -What is hookah in Hindi

हुक्का पीने के फायदे और नुकसान

हुक्का पूरी दुनिया में इस्तेमाल किया जाता है इसे अलग-अलग नामों से जाना जाता है जैसे चिल्लम, लूआवा, shisha, हबल-बबल और वॉटर पाइप्स। बूढ़े लोगों से लेकर 14 से 15 साल के बच्चे भी आजकल हुक्का पीते हैं आजकल के समय में बच्चों और नौजवानों में इसका काफी प्रचलन है।

ज्यादातर लोग ऐसा मानते हैं कि हुक्का सेहत के लिए हानिकारक नहीं होता। आपने कई होटलों और बार में देखा होगा कि धूम्रपान करने के लिए अलग जगह होती है जबकि हुक्का आपको आपके टेबल पर ही लाकर दिया जाता है। इसलिए लोगों को लगता है कि हुक्का सिगरेट से कम घातक होता है।

आजकल भारत में अलग-अलग प्रकार के हुक्के उपलब्ध हैं कुछ बहुत ज्यादा लुभावने होते हैं तो कुछ मिट्टी के बने होते हैं कुछ कोयले से चलते हैं तो कुछ बिजली से चलते हैं आजकल नई पीढ़ी में हुक्के का प्रचलन काफी ज्यादा है।

यह भी पढ़ें:- मोन्टेक एलसी टैबलेट (Montek LC Tablet): उपयोग, साइड इफ़ेक्ट इत्यादि

हुक्का पीने के दुष्प्रभाव क्या हैं – What are the side effects of smoking hookah in Hindi

हुक्का पीने के काफी सारे दुष्प्रभाव हैं आमतौर पर लोग ऐसा मानते हैं कि हुक्का पीना सेहत के लिए अच्छा होता है परंतु ऐसा नहीं है इसके कारण व्यक्ति को कैंसर जैसी घातक बीमारी तक हो सकती है। हुक्का पीने से होने वाले कुछ प्रमुख दुष्प्रभावों की सूची निम्नलिखित है।

लत लग जाना

जैसा कि हम जानते हैं हुक्के में तंबाकू का प्रयोग किया जाता है और हर उस चीज में जिसमें तंबाकू का प्रयोग किया जाता है उसकी लत लगना स्वाभाविक है।

हुक्के में निकोटिन नाम का केमिकल पाया जाता है जिसकी वजह से हमें हुक्का पीने की लत लगती है और जब एक बार हुक्का पीने की लत लग जाती है तब उसे छोड़ना काफी मुश्किल हो सकता है। हुक्के में भी उतना ही निकोटिन होता है जितना सिगरेट में होता है।

सर में दर्द होना

हुक्के के धुंए में कार्बन मोनोऑक्साइड नाम की एक गैस होती है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी खतरनाक होती है इसके कारण व्यक्ति को सिर दर्द की समस्या होती है और मितली(उल्टी करने का मन होना) हो सकती है।

जब कोई व्यक्ति हुक्का पीता है तब वह अपनी श्वास नली पर ज्यादा दबाव डालता है। जब व्यक्ति हुक्का पीता है तब तो उसे कोई समस्या नहीं आती लेकिन हुक्का पीने के बाद व्यक्ति को सर में तेज दर्द हो सकता है। शुरुआत में तो हुक्का पीने में बड़ा मजा आता है बाद में यह व्यक्ति के लिए सजा बन जाता है।

शरीर में पानी की कमी होना

आमतौर पर ज्यादातर लोगों को हुक्का पीने से डिहाइड्रेशन नहीं होता है परंतु वो लोग जो हुक़्क़ा पीने के बाद ढेर सारा पानी नहीं पीते हैं उनमें यह समस्या पाई जाती है अगर कोई व्यक्ति हुक्का पीने के बाद ढेर सारा पानी पिए तो उसे कभी भी डिहाइड्रेशन की समस्या नहीं होगी।

दिल संबंधी रोग होना

हुक्के में उपस्थित धुंए में काफी विषैले पदार्थ होते हैं और यह पदार्थ धमनियों में ब्लॉकेज या अवरोध उत्पन्न करते हैं जिसके कारण लोगों को दिल से जुड़ी बीमारियां जैसे हार्टअटैक आदि होती हैं वो लोग जिन्हें पहले से ही हृदय संबंधी रोग हैं उन्हें हुक्का पीने से बचना चाहिए और किसी भी नशीले पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए।

मुंह दांत और मसूड़ों से संबंधित समस्याएं होना

हुक्के में निकोटिन नाम का एक केमिकल होता है जिसके कारण व्यक्ति को दांत और गले से जुड़ी समस्याएं होने लगती हैं और जब काफी सारे लोग एक साथ बैठकर एक ही पाइप से हुक्का पीते हैं तो यह समस्याएं एक से दूसरे में फैलने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है इस दौरान वायरस और विषाणु के फैलने का भी खतरा रहता है।

इन्फेक्शन होना

जब दो या दो से अधिक लोग एक साथ बैठकर हुक्का पीते हैं तब व्यक्ति को इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है क्योंकि जिस हुक्के के पाइप से एक व्यक्ति कश लेता है उसी पाइप से दूसरा व्यक्ति भी कश लेता है जिस पाइप से हुक्का पीते हैं अगर उस पाइप को अच्छी तरीके से और नियमित रूप से साफ नहीं किया जाए तो व्यक्ति को इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है।

हुक्के की वजह से व्यक्ति को निम्नलिखित इंफेक्शन हो सकते हैं जैसे

  • पेट में इंफेक्शन होना
  • फेफड़ों में इन्फेक्शन होना

कैंसर होना

हुक्के का इस्तेमाल करते समय लोग जिस कोयले का इस्तेमाल करते हैं उसमें काफी सारी चीजें होती हैं जो काफी खतरनाक होती हैं जिनकी वजह से व्यक्ति को कैंसर तक हो सकता है हुक्के में जहरीले तत्व होते हैं जो कैंसर को पैदा करते हैं हुक्के के कारण होने वाले अलग-अलग प्रकार के कैंसर की लिस्ट

  • फेफड़ों का कैंसर
  • मुंह का कैंसर
  • पेट का कैंसर
  • भोजन नली का कैंसर
  • ब्लैडर कैंसर

शिशु का कम वजन

उन शिशुओं का वजन काफी कम होता है जिनकी माताऐ गर्भावस्था में हुक्का या नशीले पदार्थों का सेवन करती थीं क्योंकि हुक्के में काफी मात्रा में केमिकल और खतरनाक पदार्थ होते हैं जो मां और शिशु दोनों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं।

समय से पहले बूढ़ा दिखना

शोध में पता चला है कि जो लोग नियमित रूप से हुक्का पीते हैं वे लोग सामान्य लोगों के मुकाबले अधिक उम्र के दिखाई देते हैं मतलब कि जो लोग ज्यादा हुक्का पीते हैं वह अपनी उम्र से ज्यादा बूढ़े दिखाई देते हैं।

यह भी पढ़ें:- मासिक धर्म (periods): लक्षण, इलाज, और अन्य जानकारी

हुक्का पीने के लाभ क्या है – What are the advantages of hookah in Hindi

हुक्का पीने के कोई लाभ नहीं होते क्योंकि कोई भी नशीली चीज हुक्का, सिगरेट, बीड़ी, पान और तमाखू। चीजों का सेवन करने से व्यक्ति को किसी भी प्रकार का लाभ नहीं होता बल्कि व्यक्ति के स्वास्थ्य पर इसका बुरा प्रभाव पड़ता है हम यह बिल्कुल नहीं कहते कि हुक्का स्वास्थ्य के लिए सही होता है इसलिए किसी भी व्यक्ति को हुक्का नहीं पीना चाहिए और ना ही किसी अन्य नशीले पदार्थ का सेवन करना चाहिए। हुक्के जुड़ी कुछ रोचक बातें

  • हुक्का फ्लेवर के साथ आता है जिस कारण से वह मुंह को रिफ्रेशिंग फील कर आता है।
  • आजकल बाजार में बिना तमाकू वाले हुक्के भी मिलते हैं जिनका उपयोग करना सिगरेट पीने के मुकाबले काफी हद तक ठीक रहता है।
  • अभी तक इस बात का ठोस प्रमाण नहीं है पर लोग मानते हैं कि सिगरेट की तुलना में हुक्का पीने वाले लोगों को मुंह से जुड़ी समस्याएं कम होती हैं।
  • हुक्का पीने वाले लोगों की तुलना में सिगरेट पीने वाले लोगों के मुंह में से काफी तेज बदबू आती है।
  • अगर कोई व्यक्ति बराबर समय के लिए हुक्का और सिगरेट को पिए तो सिगरेट ज्यादा नुकसान दे होगी।

हुक्के के प्रकार – Types of Hookah in Hindi

आजकल बाजार में अलग-अलग प्रकार के हुक्के उपलब्ध हैं कुछ धातु से बने होते हैं तो कुछ मिट्टी के बने होते हैं और कुछ काफी आकर्षक लगते हैं तो कुछ हल्के-फुल्के भी होते हैं।
आजकल तो मार्केट में हुक्के का काफी प्रचलन है। नौजवान लोग आजकल हुक्का ज्यादा पीते हैं क्योंकि यह दिखने में काफी आकर्षक लगता है और लोगों को ऐसा लगता है कि अगर वह हुक्का पिएंगे तो वो काफी कूल दिखेंगे।
आजकल तो मार्केट में इलेक्ट्रिक हुक्के भी आ गए हैं कुछ हुक्को में एक पाइप होता है और कुछ में 3 से 4 पाइप भी होते हैं ताकि जब लोग एक साथ हुक्का पिऐ तो उन्हें कोई परेशानी ना हो।
 

हुक्के से जुड़े रोचक तथ्य – Interesting facts about Hookah in Hindi

  • हुक्के के धुंए में निकोटिन भरपूर मात्रा में होता है
  • ज्यादातर लोगों को ऐसा लगता है कि हुक्के के अंदर जो पानी होता है वह धुंए में से हानिकारक पदार्थ को फिल्टर कर देता है लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है।
  • लोगों को ऐसा लगता है कि सिगरेट का धुआं ज्यादा तेज गर्म होता है हुक्के का धुआं कम तेज गर्म होता है इसलिए हुक्के का धुआं कम खतरनाक होता है लेकिन ऐसा कुछ नहीं है हुक्के का धुआं सिगरेट से ज्यादा खतरनाक होता है क्योंकि हुक्के के धुंए का घनत्व ज्यादा होता है।
  • सिगरेट पीना और और हुक्का पीना दोनों में से कौन खतरनाक है दोनों ही हमारे स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है नियमित रूप से इन दोनों का ही सेवन करना हमारे स्वास्थ्य के लिए जानलेवा भी हो सकता है।
  • एक रिसर्च के अनुसार 79 प्रतिशत हुक्का पीने वाले लोगों की उम्र 12 से 19 वर्ष की होती है।
  • सिगरेट पीने वाले लोगों की तुलना में हुक्का पीने वाले लोग अपने शरीर में 100 गुना ज्यादा दुआ अवशोषित करते हैं क्योंकि सिगरेट तो सिर्फ 2 से 3 मिनट में ही खत्म हो जाती है जबकि हुक्के का एक सत्र 30 से 40 मिनट तक होता है।
  • हुक्का पीने की खोज 18 वीं शताब्दी में हुई थी
  • ज्यादातर लोग हुक्का स्मार्ट दिखने के लिए पीते है और जब उन्हें इसकी लत लग जाती है तब व्यक्ति चाह कर भी हुक्का पीना नहीं छोड़ पाता है।
  • हुक्का पीने से करोना होने की संभावना बढ़ती है।

यह भी पढ़ें:- आंख फड़कना क्या है | आँख फड़कना किस बात का संकेत देता है?

हुक्का पीना कैसे छोड़े – How to quit smoking hookah in Hindi

ज्यादातर लोग हुक्का इसलिए पीते हैं कि उन्हें हुक्का पीने से काफी अच्छा लगता है दिमाग शांत होता है और बेचैनी भी कम होती है परंतु वह लोग यह नहीं जानते कि इस बेचैनी का कारण भी हुक्का पीना ही है क्योंकि किसी भी नशीले पदार्थ में निकोटिन होता है जो हमें इसकी लत लगा देता है।

जब हमें नशीला पदार्थ नहीं मिलता तब हमें बेचैनी होने लगती है हमारा दिमाग काम करना बंद सा कर देता है सिर दर्द होने लगता है और ऐसे ही काफी सारे अन्य लक्षण भी महसूस होते हैं। और जब हम किसी नशीले पदार्थ का सेवन कर लेते हैं तब हमें काफी आराम महसूस होता है और रिलैक्स फील होता है परंतु यह सिर्फ कुछ क्षणों के लिए ही होता है उसके बाद नशा करने की तीव्र इच्छा दोबारा से होने लगती है और हमें निम्नलिखित लक्षण दोबारा होने लगते हैं।

जो लोग शुरुआती दिनों में हुक्का पीते हैं वह हुक्का सिर्फ शौक के लिए पीते हैं पर कुछ समय के बाद उन लोगों को हुक्का पीने की लत लग जाती है जिस कारण से वह ना चाह कर भी हुक्का पीने के आदी हो जाते हैं और उनके मन में नशा करने की तेज भावना उठने लगती है।

इसके अलावा धूम्रपान करने के ढेर सारे दुष्प्रभाव भी हैं जैसे कि जब हम नशा करते हैं तो हमारी धड़कन तेज हो जाती है जिसकी वजह से हमें स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं आ सकती हैं।धूम्रपान करने से लोग समय से पहले ही ज्यादा उम्र के दिखने लगते हैं। हुक्का या किसी भी नशीले पदार्थ का नियमित सेवन करने से हार्ट अटैक आने की संभावना भी बढ़ती है और किसी भी नशीले पदार्थ का सेवन करने में हम जितना पैसा खर्च करते हैं अगर उस पैसे का सदुपयोग किया जाए तो वह हमारे काफी काम भी आ सकता है।

हम कुछ बातों का ध्यान रखकर हुक्का पीना और अन्य कई नशीले पदार्थों का इस्तेमाल करना छोड़ सकते हैं।

अगर हम निम्नलिखित पांच बातों का ध्यान रखें तो हम जल्दी ही किसी भी प्रकार के नशे को छोड़ने में कामयाब हो सकते हैं विशेषकर हुक्का

हुक्का छोड़ने के लिए मन को तैयार करें।

हुक्का या किसी भी प्रकार के नशे को छोड़ने के लिए हमें अपने मन को मजबूत करना पड़ता है एक तारीख सुनिश्चित करें और अपने मन को बोले कि मैं इस तारीख तक हुक्का पीना छोड़ दूंगा और कोशिश करें कि उस तारीख तक आप हुक्का ना पिए।

ऐसे ही बार-बार करते रहें और आप देखेंगे कि एक समय के बाद आपको हुक्का पीने की कोई भी तलब नहीं लगेगी या फिर अगर आप ऐसा नहीं कर पाते हैं तो कोई बात नहीं लेकिन पीछे नहीं हटना है दोबारा से प्रयास करना है।

औरों से मदद लेना।

आपको अगर हुक्का छोड़ने में बहुत समस्या आ रही है तो आप अपने घर वालों अपने यार दोस्तों या किसी डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं और काउंसलिंग करवा सकते हैं।

जहां तक हो सके अपने आसपास उन चीजों को पहचानने की कोशिश करें जिन्हें देखकर आपको हुक्का पीने या नशा करने का मन करता है और उन चीजों से दूर रहें।

अगर आपका कोई दोस्त आपसे जबरदस्ती हुक्का पीने के लिए कहता है तो उसे साफ मना कर दे और बोले कि भाई खुद पी लो मुझे नहीं चाहिए क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि दोस्त जबरदस्ती ऐसे नशीले पदार्थों का सेवन करवा देते हैं और फिर व्यक्ति को अपनी पूरी जिंदगी ऐसे नशीले पदार्थों के इर्द-गिर्द ही काटनी पड़ती हैं।

अन्य चीजों का प्रयोग करें।

अगर आप हुक्का या कोई भी नशीला पदार्थ एकदम से छोड़ देते हैं तो आपको काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है इससे बचने के लिए आप नशीले पदार्थों के सेवन की जगह कुछ और चीजों का सेवन करें जैसे अब चाहे तो टॉफी और लॉलीपॉप अपने साथ रख सकते हैं और निकोटीन वाली चिंगम का प्रयोग भी कर सकते हैं।

जब भी हमारा मन हुक्का पीने का करता है तो हमें हुक्का पीने की जगह किसी और चीज को खाना चाहिए या पीना चाहिए इससे हुक्का पीने की तलब कम होती है ऐसा करके आप धीरे-धीरे अपनी तलब पर नियंत्रण पा सकेंगे।

धूम्रपान वाले क्षेत्रों से दूर रहें।

हमेशा धूम्रपान वाले क्षेत्रों से दूर रहें ऐसी जगह ना जाए जहां पर लोग धूम्रपान कर रहे हो या फिर अगर आप के आस पास भी कोई व्यक्ति धूम्रपान कर रहा हो तो आप उसे मना कर सकते हैं या फिर खुद वहां से हटकर दूर जा सकते हैं।

नए-नए क्रियाकलाप करें जब भी आपको धूम्रपान करने का मन करे तब अपने शरीर को अपने दिमाग को किसी अन्य चीज में लगा कर रखें कोई ऐसी नई एक्टिविटी सीखे कोई जिसे करने में आपको मजा आऐ जैसे अब ड्राइंग बना सकते हैं।

आप कोई खेल खेल सकते हैं कोई भी ऐसी एक्टिविटी कर सकते हैं जिससे आपका ध्यान उसकी तरफ ना जाए आप जिम जॉइन कर सकते हैं एक्सरसाइज कर सकते हैं पार्क में जा सकते हैं इन सभी छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर आप हुक्का पीने की आदत को छोड़ सकते हैं।

क्या हुक्का पीना सिगरेट पीने से ज्यादा खतरनाक होता है – Which is more dangerous hookah or cigarette in Hindi

हां, हुक्का पीना सिगरेट पीने से ज्यादा खतरनाक होता है क्योंकि सिगरेट तो सिर्फ 2 से 3 मिनट में खत्म हो जाती है जबकि हुक्के का एक सत्र 30 से 40 मिनट तक चलता है इसके अलावा जब लोग हुक्का पीते हैं तो गहरे गहरे कश लेते हैं जिसकी वजह से बहुत सारा धुआं उनके फेफड़ों के अंदर जाता है जो सिगरेट पीने के मुकाबले काफी अधिक होता है

हुक्के का धुआं सिगरेट के मुकाबले काफी अधिक घनत्व वाला होता है इसलिए यह सिगरेट के मुकाबले काफी ज्यादा खतरनाक होता है कुछ लोगों का ऐसा मानना है कि हुक्के का  पानी धुंए से जहरीले कणों को फिल्टर कर देता है पर ऐसा बिल्कुल नहीं है पानी किसी भी हानिकारक पदार्थ को फिल्टर नहीं करता है सिर्फ यह धुंए को हल्का सा ठंडा कर देता है।

अगर कोई व्यक्ति लगभग बराबर समय के लिए हुक्का और सिगरेट पिए तो सिगरेट पीना ज्यादा खतरनाक होगा परंतु जब लोग हुक्का पीते हैं तो 30 से 40 मिनट तक हुक्का पीते ही रहते हैं जो सिगरेट के मुकाबले काफी अधिक है और काफी ज्यादा खतरनाक है।

हुक्के के हिस्से – Components of hookah in Hindi

हुक्के के मुख्य रूप से 4 हिस्से होते हैं

  • हुक्के में सबसे ऊपर वास होता है जो एक बर्तन के आकार का होता है जिसमें पानी भरा होता है।
  • उसके ऊपर गैस किट होता है जिससे वास में आया हुआ धुआं वापस ऊपर नहीं जाता है।
  • सबसे ऊपर चिलम होती है जिसमें तमाकू और फ्लेवर भरा जाता है और उसके ऊपर कोयला रखा जाता है
  • चिलम से नीचे वास तक एक नली लगी होती है

हुक्का काम कैसे करता है – How does a hookah works in Hindi

वास के थोड़ा ऊपर फाइल लगा होता है जब भी कोई पाइप द्वारा हुक्के का कश लेता है तो नीचे वास में हवा का दबाव कम हो जाता है जिससे नली में भी दबाव कम हो जाता जिस कारण फ्लेवर और तंबाकू से मिला हुआ धुआं नीचे की ओर आता है और पानी के द्वारा होता हुआ वास में भर जाता है और जब कोई व्यक्ति कश लेता है तो वास के द्वारा पाइप से होता हुआ उसके मुंह में धुआं चला जाता है।

यह भी पढ़ें:- Cloves (Laung) in Hindi | लौंग के फायदे, नुकसान, इत्यादि

हुक्के का इतिहास – History of Hookah in Hindi

हुक्का आज से नहीं बल्कि काफी पुराने समय से इस्तेमाल में लाया जा रहा है पहले यह सिर्फ राजा महाराजाओं के लिए शौक की चीज हुआ करती थी इसकी खोज बादशाह अकबर के हकीम हकीम अब्दुल फतह जी ने की थी। उनका ऐसा मानना था कि जब हुक्के का धुआं पानी से होकर निकलता है तब उसमें मौजूद सभी हानिकारक पदार्थ पानी द्वारा फिल्टर हो जाते हैं।

और जैसे जैसे समय बीतता गया वैसे वैसे हुक्के की ख्याति बढ़ती गई और लोग हुक्के के बारे में जानने लगे और आज भी बहुत सारे लोग हुक्के का उपयोग करते हैं।

निष्कर्ष

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा हमने इस आर्टिकल में बताया है कि हुक्का क्या है, हुक्का पीने के दुष्प्रभाव क्या हैं, हुक्का पीने के फायदे क्या हैं हुक्का कितने प्रकार का होता हैं, हुक्के का प्राइस क्या है और हुक्का पीने से कौन-कौन सी बीमारियां होती हैं इसके साथ साथ हम लोगों द्वारा पूछे गए कुछ प्रश्नों के उत्तर भी देंगे और गलतफहमियों को दूर करेंगे। 

हुक्के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी है इसके अलावा हमने कुछ टिप्स भी दिए हैं जो आपको हुक्का छोड़ने में मदद करेंगे अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं हम आपके सवालों के उत्तर देने का प्रयास जरूर करेंगे।

प्रश्न और उत्तर

क्या कभी-कभी हुक्का पीना ठीक है?

नहीं, हमें जितना हो सके नशीली चीजों और नशीले पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि नशीले पदार्थ हमारे शरीर को कमजोर करते हैं और हमारे शरीर में अलग-अलग प्रकार की बीमारियां उत्पन्न करते हैं।

हां, अगर कोई व्यक्ति कभी-कभी हुक्का पीता है तो संभावना है कि उसे नियमित रूप से हुक्का पीने वालों लोगों की तुलना में बीमारियां जल्दी ना हो, पर उसे भी बीमारी होने का उतना ही खतरा है जितना एक नियमित हुक्का पीने वाले को होता है।

हुक्का हमारे शरीर में कितने समय के लिए रहता है?

हुक्का हमारे शरीर में काफी लंबे समय तक रह सकता है और यह हमारे स्वास्थ्य को काफी हद तक खराब भी कर सकता है इसलिए हमें इस से बच कर रहना चाहिए।

हुक्के का प्राइस क्या है?

हुक्का अलग-अलग प्रकार से आता है और सभी हुक्को का प्राइस अलग-अलग होता है यह निर्भर करता है कि आप किस प्रकार का हुक्का उपयोग में लाते हैं कितनी मात्रा में उपयोग में करते हैं और उसमें कौन-कौन सा फ्लेवर आदि का उपयोग करते हैं।

क्या हुक्का पीना यौन प्रदर्शन को प्रभावित करता है?

हां, हुक्का पीना यौन प्रदर्शन को प्रभावित करता है क्योंकि उसने कई प्रकार के केमिकल होते हैं जो हमारे शरीर को कमजोर कर देते हैं और अगर एक बार हमारा शरीर कमजोर हो जाता है तो हमें यौन प्रदर्शन ही नहीं बल्कि अन्य प्रकार के काम करने में भी तकलीफ होगी।

सिगरेट पीना और और हुक्का पीना दोनों में से कौन खतरनाक है?

दोनों ही हमारे स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है नियमित रूप से इन दोनों का ही सेवन करना हमारे स्वास्थ्य के लिए जानलेवा भी हो सकता है।

References

 Hookahs. (2021, April 22). Centers for Disease Control and Prevention https://www.cdc.gov/tobacco/data_statistics/fact_sheets/tobacco_industry/hookahs/index.htm

Facts about hookah. (2020, February 19). https://www.lung.org/quit-smoking/smoking-facts/health-effects/facts-about-hookah

J. (n.d.). The effects of hookah/waterpipe smoking on general health and the cardiovascular system. PubMed Central (PMC). https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6745078

Topic not found. (n.d.). ScienceDirect.com | Science, health and medical journals, full text articles and books. https://www.sciencedirect.com/topics/nursing-and-health-professions/hookah

In first-of-its-kind study, researchers highlight hookah health hazards: Smokers exposed to toxic chemicals, ultrafine particles and carbon monoxide. (2021, 8). ScienceDaily. https://www.sciencedaily.com/releases/2019/08/190812144932.htm

Leave a Comment

%d bloggers like this: