चाय पीने के नुकसान | चाय पीने के फायदे

भारत में ज्यादातर लोग सुबह उठकर चाय पीते हैं लेकिन वे लोग यह बात नहीं जानते कि अधिक चाय पीना उनके स्वास्थ्य के लिए कितना हानिकारक हो सकता है विशेषकर जब हम सुबह सुबह खाली पेट चाय पीते हैं तब तो चाय पीना जहर पीने के बराबर होता है।

हालांकि चाय पीने के काफी सारे नुकसान है परंतु इसके कुछ लाभ भी हैं हम बिल्कुल यह नहीं कह रहे हैं कि चाय पीना बुरी बात नहीं है लेकिन बहुत अधिक मात्रा में चाय का सेवन करना हमारी सेहत के लिए काफी खतरनाक सिद्ध हो सकता है।

इसलिए आज इस लेख के माध्यम से हम जानेंगे कि अधिक चाय पीने के दुष्प्रभाव क्या हैं, चाय पीने के लाभ क्या हैं, हमें चाय कब पीनी चाहिए, और कितनी मात्रा में पीनी चाहिए और इससे जुड़े कई ऐसे प्रश्नों के उत्तर जो शायद आपके मन में भी उठ रहे हो।

चाय पीने के नुकसान – Side effects of tea in Hindi

चाय पीने के नुकसान | चाय पीने के फायदे

 

लौह अवशोषित ना कर पाना

चाय में Tannins (टैनिननाम का एक योगिक होता है जो हमारे शरीर की लौह अवशोषित करने की क्षमता को बहुत कम कर देता है जिसकी वजह से शरीर में लौह की कमी हो जाती है और इस वजह से कई बीमारियां हो सकती हैं और शरीर में रक्त की कमी भी हो जाती है शरीर कमजोर भी हो सकता है।

चिंता, तनाव और बेचैनी होना

चाय की पत्तियों में प्राकृतिक रूप से कैफीन होता है और कैफीन का नियमित सेवन करने से चिंता तनाव और बेचैनी बढ़ती है और चाय कैफीन का एक ऐसा स्रोत है जिसमें कैफिन अधिक मात्रा में होती है।

काली और हरी चाय की तुलना में दूध वाली सफेद चाय में कैफीन अधिक मात्रा में होता है और चाय को हम जितना ज्यादा भिगोते हैं उतना ही ज्यादा इसमें कैफीन की मात्रा बढ़ती है।

शोध द्वारा पता चला है कि प्रतिदिन सिर्फ 200 मिलीग्राम से कम कैफीन का सेवन करने से चिंता तनाव और बेचैनी जैसी समस्या नहीं होती परंतु फिर भी कुछ लोग कैफीन से परहेज करते हैं हमें कैफ़ीन से परहेज करने की कोई जरूरत नहीं है बस हमें उसके अधिक सेवन करने से बचना है।

यदि किसी दिन आप चाय का सेवन नहीं करते हैं और आप यह पाते हैं कि आपके व्यवहार में चिड़चिड़ापन आ गया है आपको घबराहट महसूस हो रही है तो यह एक लक्षण है कि आप कैफीन अधिक सेवन करते हैं और आपको इसे कम करना चाहिए।

नींद खराब होना

जैसा कि हम जानते हैं कि चाय में प्राकृतिक रूप से कैफ़ीन काफी अधिक मात्रा में होता है इसलिए इसका अत्याधिक सेवन करने से यह हमारी नींद में बाधाएं उत्पन्न कर सकता है।

हमारे शरीर में मेलाटोनिन नाम का एक हार्मोन होता है जो हमारे दिमाग को यह संकेत देता है कि सोने का समय हो गया है लेकिन कुछ शोध बताते हैं कि कैफ़ीन मेलाटोनिन हार्मोन के उत्पादन में बाधाएं उत्पन्न करता है जिसके फलस्वरूप हमारी नींद खराब होती है।

दांतों को पीला कर देता है

शोध बताते हैं कि जो लोग अत्यधिक चाय का सेवन करते हैं समय के साथ उन लोगों के दांत साधारण लोगों की तुलना में जल्दी पीले पड़ जाते हैं और कमजोर होकर टूट जाते हैं। कारण है चाय में मौजूद एसिड।

शरीर में पानी की कमी को बढ़ाता है

शोध के अनुसार पता चला है कि नियमित रूप से चाय का सेवन करने से शरीर में पानी की कमी हो सकती है। इसका मुख्य कारण है कि जिस चाय हम सेवन करते हैं उसमें कैफीन होता है।

चाय का अधिक सेवन करना मतलब कैफीन का अधिक सेवन करना कैफीन का अधिक सेवन करने से यह हमारे शरीर की पोषक तत्वों और पानी को अवशोषित करने की क्षमता को कम कर देता है जिसके कारण हमें अलग-अलग प्रकार की बीमारियां होने लगती हैं किसी भी हालत में हमें 1 दिन में तीन कप चाय से अधिक नहीं पीना चाहिए।

लत लग सकती है

चाय पीने का जो सबसे घटिया दुष्प्रभाव यह है कि चाय पीने से हमें इसकी लत लग जाती है। और अगर हम कभी चाय नहीं पीते हैं तो हमारा मन नहीं लगता है और कभी-कभी तो सर में भी दर्द होने लगता है।

चाय में कैफीन होता है जिसका नियमित रूप से सेवन करने से हमें इसकी लत लग जाती है और उसको छोड़ना काफी मुश्किल होता है कुछ लोगों को जब सुबह की चाय नहीं मिलती है तब उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है जैसे कि सर दर्द उल्टी काम पर ध्यान ना दे पाना थकान आदि।

गर्भावस्था के दौरान समस्याएं

अत्यधिक मात्रा में चाय का सेवन मां और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक हो सकता है इसलिए हमेशा गर्भवती महिलाओं को चाय का सेवन करने से बचना चाहिए। चाय में कैफीन होता है जो प्रेगनेंसी के दौरान जटिलताओं को बढ़ा सकता है अगर आपको चाय पीनी ही है तो आप कैफीन मुक्त चाय का प्रयोग कर सकते हैं।

सिर दर्द होना/माइग्रेन

चाय का सेवन ना करने से हमारे सिर में दर्द होने लगता है इसके पीछे कारण है नियमित रूप से चाय पीने से हमारे शरीर की आयरन को अवशोषित करने की क्षमता कम हो जाती है जिसकी वजह से हमारे शरीर में रक्त की कमी हो जाती है और रक्त की कमी होने से हमें सर दर्द होने लगता है।

लेकिन जैसे ही आप चाय पीते हैं यह कुछ समय के लिए हमारे सर दर्द को ठीक कर देता है अगले दिन अगर आप फिर से चाय नहीं पीते हैं तो आपको फिर से यही समस्या हो सकती हैं। और धीरे-धीरे करके जब यह सर दर्द बढ़ता रहता है तब इससे ही लंबे समय में माइग्रेन की समस्या भी हो जाती है।

एसिडिटी और सीने में जलन हो सकती है

नियमित रूप से चाय का सेवन करने से हमारे शरीर में एसिडिटी बढ़ती है एसिडिटी के कारण हमारा ब्लड भी एसिडिक हो जाता है और हमें पेट में दर्द होने लगता है, छाती में भी दर्द होने लगता है, छाती में जलन होने लगती है और यह सब चाय पीने के कारण ही होता है।

गठिया हो सकता है

अत्यधिक चाय पीने से हमारे शरीर में एसिड बनता है जिसके कारण हमारा ब्लड भी एसिडिक हो जाता है और हमारे ब्लड में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है और यह यूरिक एसिड जोड़ों में जाकर इकट्ठा होने लगता है और इस कारण से जोड़ घीसने लगते हैं और बॉडी में दर्द होने लगता है।

बाल झड़ने लगते हैं

नियमित रूप से अधिक मात्रा में चाय का सेवन करने से हमारा ब्लड एसिडिक हो जाते हैं और एसिडिक ब्लड के कारण बालों की जड़ें क्षतिग्रस्त हो जाती हैं जिसके कारण बाल कमजोर होकर टूटने लगते हैं।

पथरी

ज्यादा मात्रा में चाय पीने से हमारा जो खून है वह काफी गंदा हो जाता है और गंदे खून को साफ करने का काम हमारी किडनी का होता है और किडनी इस गंदे खून को साफ करते करते खुद गंदी हो जाती है और यह गंदगी हमारी किडनी में इकट्ठी होती रहती है और धीरे-धीरे यह पथरी का रूप ले लेती है।

यह भी पढ़ें:- खाना खाने के बाद उल्टी होने के कारण और उपाय | Vomiting After Meal In Hindi

चाय पीने के फायदे – Benfits of tea in Hindi

लोगों की गलत धारणा है कि चाय पीने के नुकसान होते हैं थोड़ी चाय पीने के नुकसान नहीं होते बल्कि अत्यधिक मात्रा में चाय पीने के नुकसान होते हैं। चाय पीने के सिर्फ नुकसान ही नहीं होते बल्कि इसके कुछ फायदे भी होते हैं
  • चाय में कैफीन और tannins  होता है जो शरीर को चुस्ती फुर्ती प्रदान करता है।
  • अगर आपको आलस आ रहा हो तब भी अगर आप एक कप चाय पीते हैं तो आपके शरीर में चुस्ती फुर्ती भर जाती है।
  • और चाय में मौजूद अमीनो एसिड शरीर और दिमाग को अलर्ट रखने में मदद करता है।
  • चाय पीने से बुढ़ापा जल्दी नहीं आता और हड्डियां भी कमजोर नहीं होती।
  • चाय में मौजूद एसिड हड्डियों को मजबूत करता है और दांतों में कीड़े लगने से रोकता है।
  • दिन भर में एक कप चाय पीने से आपके पूरे दिन की थकान मिट जाती है।
  • डायबिटीज से ग्रस्त लोग अगर कम चीनी और दूध वाली चाय का प्रयोग करें तो यह उनकी सेहत को भी मजबूत बनाने में मदद करती है।
  • अगर आप मधुमेह से ग्रस्त हैं और मीठी चाय का प्रयोग करते हैं तो यह आपके पाचन तंत्र को कमजोर बना सकती है और दांतो पर भी इसका बुरा प्रभाव होता है तो मधुमेह से ग्रस्त व्यक्तियों को कम चीनी वाली चाय या फिर शुगर फ्री चाय का यूज करना चाहिए।
 

चाय को इन चीजों के साथ नहीं पीना चाहिए – Interaction of tea with other food in Hindi

अक्सर लोगों की आदत यह होती है कि वह चाय के साथ कुछ ना कुछ नाश्ता जरूर करते हैं नमकीन बिस्कुट पकोड़े वगैरा-वगैरा इन सभी चीजों में से कुछ चीजें ऐसी हैं जिनका चाय के साथ सेवन करने से पेट में प्रतिक्रिया हो सकती है और पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।

चाय और बेसन

अक्सर हम देखते हैं कि लोग चाय के साथ बेसन के बने पकोड़े या उस से बनी अलग-अलग चीजों का प्रयोग करते हैं परंतु आपको यह जानना जरूरी है की चाय और बेसन से बनी चीजों का सेवन करने से यह हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है और हमें एसिडिटी और गैस से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं।

चाय और ठंडी चीजें

चाय के साथ हमें कभी भी ठंडी चीजों का प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि चाय की तासीर गर्म होती है और जब भी चाय का सेवन हम किसी ठंडी चीज के साथ करते हैं तो यह प्रतिक्रिया कर सकती है और हमें पेड़ से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं जैसे गैस एसिडिटी सीने में दर्द आदि।

चाय और सलाद

चाय का सेवन हमें कभी भी सलाद के साथ नहीं करना चाहिए क्योंकि सलाद की प्रकृति ठंडी होती है जबकि चाय गरम होती है और अगर हम इन दोनों पदार्थ का सेवन एक साथ करेंगे तो इससे हमें पेड़ से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं जैसे अपच और एसिडिटी।

चाय और दही

चाय के साथ में कभी भी दही से बनी चीजों का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए क्योंकि चाय में दूध होता है और दही भी दूध से ही बना हुआ है इसलिए यह दोनों आपस में रिएक्शन कर सकते हैं जिसके कारण अपच और गैस बनने जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

बच्चों में अधिक चाय पीने के नुकसान क्या होते हैं – Is tea safe for child in Hindi

 

  • चाय पीने से बच्चे का विकास, व्यवहार और नींद प्रभावित हो सकती है। और यह उनकी पढ़ाई खेलकूद और जीवन शैली को प्रभावित कर सकती है।
  • कैफीन युक्त पेय पदार्थ पीने से बच्चों में मोटापा बढ़ सकता है। इसका नियमित रूप से सेवन करने से बच्चों को इसकी आदत लग सकती है।
  • चाय पीने से बच्चों में दांतों में सड़न, हृदय रोग और टाइप-2 मधुमेह जैसी गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं और यह बच्चे के विकास और जीवनशैली को बिल्कुल बदल सकती हैं।
  • बच्चों को चाय या कॉफी पिलाने से टाइप 1 डायबिटीज का का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है।
 

चाय में पड़ने वाले सामान – Ingredents in chai in Hindi

  • चीनी
  • पानी
  • दूध
  • चाय पत्ती

यह चार चीजें प्रमुख हैं दूध वाली चाय बनाने के लिए

अगर आप बिना दूध वाली चाय पीना चाहते हैं तो उसके लिए आप इस सूची में से दूध को हटा दें और बाकी सूची इसी तरीके से रहने दे।

इसके अलावा इसमें आप स्वाद के लिए कई और चीजें डाल सकते हैं जैसे

  • चुटकी भर नमक
  • लॉन्ग
  • इलायची
 

निष्कर्ष

भारत में ज्यादातर लोग सुबह सुबह उठकर चाय जरूर पीते हैं शायद वो लोग यह नहीं जानते कि अधिक चाय पीना उनकी सेहत के लिए काफी हानिकारक हो सकता है। इसलिए इस आर्टिकल में आज हमने बताया है कि अधिक चाय पीने के नुकसान क्या है, चाय पीने के लाभ क्या हैं बच्चों में चाय पीने के नुकसान क्या होते हैं हमें चाय कब पीना चाहिए कितनी मात्रा में पीनी चाहिए और ऐसे ही कुछ लोगों द्वारा प्रश्नों के उत्तर भी हमने इस आर्टिकल में देने की कोशिश की है।
 
 
प्रश्न और उत्तर
 

सुबह-सुबह चाय पीने के नुकसान क्या क्या है?

सुबह-सुबह चाय पीने का नुकसान तब सबसे ज्यादा होता है जब हम सुबह सुबह चाय को खाली पेट पीते हैं खाली पेट सुबह सुबह चाय पीने से चाय हमारे शरीर में एसिड की मात्रा को बढ़ा देती है क्योंकि सुबह-सुबह हमारा सारा खाना पच गया होता है और पेट में काफी सारा एसिड पहले से ही मौजूद होता है और चाय की भी प्रकृति एसिडिक ही होती है जिसके कारण हमें एसिडिटी हो सकती है हमारे पाचन तंत्र में समस्याएं हो सकती हैं और पित्त से जुड़े हुए रोग हो सकते हैं।

चाय कब पीना चाहिए?

आप चाय को कभी भी पी सकते हैं यह आपकी मर्जी पर निर्भर करता है परंतु चाय आप कब पी रहे हैं इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है लेकिन आज चाय किस मात्रा में पी रहे हैं और आप क्या चाय को खाली पेट पी रहे हैं इस बात से फर्क पड़ता है अगर आप सुबह सुबह खाली पेट चाय का सेवन करते हैं तो इससे आपको समस्या हो सकती है इसलिए चाहे सुबह हो या शाम चाय का सेवन खाली पेट नहीं करना चाहिए।

दिन में कितनी बार चाय पीनी चाहिए?

अत्यधिक मात्रा में चाय पीने से कई प्रकार की बीमारियां होती हैं परंतु रोज एक कप चाय पीने से किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं होती इसलिए आप दिन में कभी भी एक छोटा कप चाय पी सकते हैं आपको कोई परेशानी नहीं होगी इसके अलावा अगर आप काली चाय पीते हैं तो वह आप दिन में दो बार भी पी सकते हैं।

चाय पीने से गैस बनता है क्या?

हां चाय को खाली पेट पीने से गैस बनता है इसलिए कभी भी चाय को खाली पेट नहीं पीना चाहिए चाय के साथ कुछ ना कुछ नाश्ता कर लेना चाहिए सिर्फ गैस बनना ही खाली पेट चाय पीने का नुकसान नहीं है इसके अलावा खाली पेट चाय पीने के कई और नुकसान है खाली पेट चाय पीने से हमारा रक्त अम्लीय हो जाता है हमें पथरी की शिकायत हो सकती है और पेट से जुड़े हुए रोग हो सकते हैं।

गर्म पानी पीने के कितनी देर बाद चाय पीना चाहिए?

गर्म पानी पीने के 10 से 15 मिनट बाद आप चाय पी सकते हैं परंतु ध्यान रहे चाय आप खाली पेट नाभि हैं चाय के साथ हल्का फुल्का कुछ नाश्ता कर ले।चाय पीने से क्या बीमारी होता है चाय पीने से कोई बीमारी नहीं होती है बहुत अधिक मात्रा में चाय पीने से बीमारी होती है जैसे दिन में दो-दो तीन-तीन कप चाय पी लेना जो लोग अधिक मात्रा में चाय पीते हैं उन्हें मोटापा तनाव अनिद्रा डायबिटीज कैंसर पथरी आदि से जुड़ी समस्याएं होते हैं।

Leave a Comment