डेंगू बुखार: कारण, लक्षण, उपचार इत्यादि | Dengue symptoms in hindi

डेंगू बुखार: कारण, लक्षण, उपचार इत्यादि | Dengue symptoms in hindi

डेंगू क्या है

बरसात का मौसम शुरू होते ही मौसम में बदलाव की वजह से अलग-अलग प्रकार की बीमारियां जन्म ले लेती हैं जैसे सर्दी, खांसी, जुकाम आदि और इसी प्रकार की बारिश के मौसम में होने वाली एक आम बीमारी है जिसका नाम है डेंगू।
डेंगू एक प्रकार की बीमारी है जिसका मुख्य लक्षण है बुखार आना डेंगू में आमतौर पर व्यक्ति को गंभीर बुखार आता है और इसके साथ-साथ कई अन्य लक्षण भी होते हैं।
डेंगू बुखार मुख्य रूप से मच्छर के काटने से होता है और यह एक वायरस है जो मच्छर के काटने से फैलता है जब किसी संक्रमित व्यक्ति को कोई मच्छर काटता है और फिर वही मच्छर किसी अन्य व्यक्ति को काटता है तो पहले व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में यह संक्रमण पहुंच जाता है।
डेंगू को हड्डी तोड़ बुखार के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसमें हड्डी मांसपेशियों और जोड़ों में बहुत दर्द होता है।
इसलिए इस आर्टिकल में आज हम बात करेंगे कि डेंगू क्या है, डेंगू से बचाव क्या है, डेंगू का इलाज क्या है, डेंगू के कारण क्या हैं और डेंगू में होने वाले लक्षण इन सभी विषयों के बारे में आज हम विस्तार में जानकारी लेंगे।

Table of contents

डेंगू क्या है - What is Dengue in Hindi

डेंगू एक प्रकार की बीमारी है जिसका मुख्य लक्षण है तेज बुखार आना, इसे आमतौर पर हड्डी तोड़ बुखार के नाम से भी जाना जाता है। यह बीमारी डेंगू के मच्छरों के काटने की वजह से होता है।

इसमें व्यक्ति को ठंड लगकर बुखार चढ़ता है जो आमतौर पर कुछ अन्य लक्षण पैदा करता है जैसे सिर दर्द, बुखार, थकावट, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द और सूजन आदि इसके अलावा त्वचा पर कुछ दाने होना भी इसका एक लक्षण है।

यह रोग तब फैलता है जब संक्रमित मच्छर किसी व्यक्ति को काटता है यह लोग ज्यादातर उष्णकटिबंधीय या गर्म स्थान वाले क्षेत्रों में पाया जाता है।

WHO यानी विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिसर्च के अनुसार लगभग हर साल 5,00,000 से ज्यादा लोग डेंगू के कारण अस्पताल में भर्ती होते हैं।

यह भी पढ़ें:- अवसाद (Depression): लक्षण, कारण, ट्रीटमेंट इत्यादि

डेंगू के लक्षण - Symptoms of Dengue in Hindi

डेंगू के लक्षण

डेंगू वायरस से संक्रमित ज्यादातर लोगों को लगभग इसके कोई भी लक्षण महसूस नहीं होते। सामान्यतः बुखार या फिर बहुत हल्के लक्षण महसूस होते हैं संक्रमित लोगों में सिर्फ लगभग 5% लोगों को ही गंभीर लक्षण महसूस होते हैं।

आमतौर पर डेंगू वायरस से पीड़ित मरीजों में डेंगू के लक्षण 3 से 14 दिनों के अंदर ही दिखाई देते हैं। सरल भाषा में कहूं तो अगर कोई व्यक्ति ऐसी जगह से आता है जहां पर ज्यादातर लोगों को डेंगू है और उसे व्यक्ति को 14 दिन के बाद बुखार आता है तो यह जरूरी नहीं है कि उसे डेंगू है।

डेंगू में होने वाले सामान्य लक्षण हैं जैसे

  • सिर दर्द 
  • मांसपेशियों हड्डियों और जोड़ों में दर्द होना
  • जी मचलाना 
  • उल्टी होना 
  • आंखों में दर्द होना 
  • लाल चकत्ते पड़ना आदि।

डेंगू के कारण - Causes of Dengue in Hindi

डेंगू वायरस विषाणु द्वारा होता है और इसके मुख्य रूप से चार प्रकार होते हैं टाइप 1, 2, 3, 4 आम भाषा में ऐसे हड्डी तोड़ बुखार के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसके कारण शरीर के जोड़ों और हड्डियों में बहुत दर्द होता है और यह एडीस नाम के मच्छर के काटने से होता है।

यह भी पढ़ें:- मासिक धर्म (periods): लक्षण, इलाज, और अन्य जानकारी

डेंगू कैसे फैलता है - How Dengue spreads in Hindi

मलेरिया की ही तरह डेंगू भी मच्छर के काटने से ही फैलता है इन मच्छरों को एडीज मच्छर कहते हैं यह मच्छर दिन में और रात में दोनों समय काटते हैं भारत में यह रोग विशेष रूप से बरसात के मौसम में होता है।

लगभग जुलाई से अक्टूबर के महीने में यह सबसे अधिक होता है डेंगू तब होता है जब कोई एडीज मच्छर किसी संक्रमित व्यक्ति को काटता है और फिर वही मच्छर किसी और व्यक्ति को काटता है तो पहले व्यक्ति से यह वायरस दूसरे व्यक्ति में पहुंच जाता है जिसके कारण दूसरे व्यक्ति को डेंगू हो जाता है और कुछ दिनों के बाद ही उसे डेंगू बुखार के लक्षण होने लगते हैं।

डेंगू बुखार के प्रकार - Types of Dengue in Hindi

डेंगू बुखार मुख्य रूप से तीन प्रकार का होता है 

क्लासिक या साधारण डेंगू बुखार

यह डेंगू बुखार की प्राथमिक स्टेज है इसमें जो लक्षण होते हैं वे निम्न हैं

  • ठंड लगना और अचानक तेज बुखार चढ़ना
  • मांसपेशियों सिर और जोड़ों में दर्द होना
  • आंखों के पिछले भाग में दर्द महसूस होना
  • मुंह का स्वाद खराब होना 
  • अत्याधिक कमजोरी लगना 
  • जी मचलाना

डेंगू हेमोरेजिक बुखार

इस प्रकार के बुखार को रक्तस्राव बुखार भी कहते हैं इस प्रकार के बुखार में साधारण बुखार में होने वाले लक्षणों के साथ-साथ कुछ अन्य प्रकार के लक्षण भी होते हैं

जैसे

  • नाक मसूड़ों से खून निकलना 
  • शौच या उल्टी में खून आना 
  • त्वचा पर गहरे नीले रंग के छोटे-छोटे बड़े-बड़े चकत्ते पड़ जाना 
  • रक्तस्राव

डेंगू शॉक सिंड्रोम DSS

इस प्रकार के डेंगू बुखार में लक्षणों के साथ-साथ व्यक्तियों की अवस्था भी महसूस करता है

  • तेज बुखार के साथ-साथ उसकी त्वचा भी ठंडी हो जाती है
  • कमजोर महसूस होती है
  •  रक्तचाप कम हो जाता है 

यह भी पढ़ें:- कंडोम (Condom) क्या है और कंडोम इस्तेमाल कैसे करते हैं इत्यादि

डेंगू का उपचार - Treatment of Dengue in Hindi

यदि रोगी को साधारण या क्लासिक डेंगू बुखार है तो इसका उपचार घर पर ही अच्छी देखभाल के द्वारा ही किया जा सकता है क्योंकि यह स्वयं ठीक होने वाला रोग है इसलिए केवल लक्षण उपचार ही करनी चाहिए उदाहरण जैसे

किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह से पेरासिटामोल की गोलियां का सेवन करके अपने बुखार को कम कीजिए।

डेंगू के रोग में मरीज को करीबी डिस्प्रिन या एस्प्रिन नहीं खानी चाहिए।

यदि मरीज को 102 फेरे नाइट से ज्यादा बुखार है तो ठंडे पानी की पट्टियां करनी चाहिए।

सामान्य रूप से भोजन देना जारी रखना चाहिए बुखार की स्थिति में शरीर को अच्छे भोजन की आवश्यकता होती है

रोगी को परेशान ना करें आराम करने दें।

टीएचएफ या डीएसएस प्रकार के बुखार होने पर रोगी को निकटतम अस्पताल में ले जाएं और वहां उसे भर्ती करें क्योंकि इस प्रकार के रोगी का इलाज घर पर संभव नहीं होता है।

डेंगू से बचाव‌ - Prevention from Dengue in Hindi

डेंगू रोग का मुख्य कारण है मच्छर का काटना तो इसकी रोकथाम का सबसे बड़ा पहलू है कि 

एडमिन मच्छरों के प्रजनन को रोकने की कुछ उपाय

अपने घर के आसपास साफ सफाई रखनी चाहिए पानी को एकत्रित ना होने देना चाहिए गड्ढे को मिट्टी से भर दे रुकी हुई नालियां और रुके हुए पानी को साफ कर दें रूम कूलर ओ तथा फूल दानों को सप्ताह में एक बार जरूर साफ करें और उन्हें सुखाकर ही ताजे पानी से भरे खाली टूटी फूटी टायर ट्यूब बोतल आदि को उचित विसर्जन करें घर के आसपास सफाई रखें।

पानी की टंकियों बरतन तथा ने बर्तनों को अच्छे से ढक कर रखना चाहिए ताकि मच्छर उसमें प्रवेश ना करें और प्रजनन ना कर पाए

सप्ताह में एक बार अपने कूलर को अच्छे से साफ करना चाहिए अगर साफ ना कर पाए तो सर पेट्रोल या कोई अन्य तेल डाल दें

पानी के स्रोत में आपको छोटी-छोटी किस्म की मछलियां भी डाल सकते हैं यह मछलियां पानी में पनप रहे मच्छर आऊंगा उनके लोगों खा जाती हैं इन मछलियों को स्थानीय प्रशासनिक कार्यालयों से प्राप्त किया जा सकता है।

मच्छरों से बचने के लिए मच्छरदानी लगाकर ही सोया करें

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने बताया है कि डेंगू क्या है, डेंगू के प्रकार , डेंगू के लक्षण डेंगू के कारण और इसके अलावा कई अन्य जानकारियां जो डेंगू से जुड़ी हैं।

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं या आपके कोई सवाल या जवाब है तो वह भी आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं हम आपके सवालों का या सुझावों का जवाब देने का जरूर प्रयास करेंगे।

प्रश्न उत्तर

डेंगू का सबसे प्रमुख लक्षण क्या है?

डेंगू का सबसे प्रमुख लक्षण है कि ठंड लगकर बुखार चढ़ना और गंभीर बुखार चढ़ना लगभग 102°F तक।

डेंगू कैसे फैलता है?

डेंगू मच्छरों द्वारा फैलता है जब कोई मच्छर किसी संक्रमित व्यक्ति को काटता है और जब वही मच्छर किसी दूसरे व्यक्ति को काटता है तो संक्रमित व्यक्ति से यह संक्रमण दूसरे व्यक्ति को फैल जाता है।

डेंगू के लक्षण कितने समय में दिखाई देते हैं?

डेंगू के लक्षण लगभग 4 से 14 दिनों के बीच में दिखाई देने लगते हैं अगर इसके बाद लक्षण दिखाई देते हैं तो संभवत वह डेंगू नहीं है।