Flax seeds in Hindi: लाभ, दुष्प्रभाव, कैसे खाएं इत्यादि

अलसी का बीज (Flax seeds) एक ऐसी दुर्लभ औषधि है, जो बहुत लाभदायक हैं और यह काफी लंबे समय से बीमारियों के इलाज के लिए उपयोग में लाऐ जा रहे हैैं। अलसी के बीजों का उपयोग छोटी-मोटी बीमारी से लेकर बड़ी-बड़ी बीमारी के इलाज में किया जाता है। अलसी के बीज का सेवन काफी गुणकारी है इसलिए इस पर काफी रिसर्च भी हुई है।
तो इस आर्टिकल में हम बताएंगे कि अलसी क्या है?, अलसी को खाने के फायदे क्या है?, अलसी को खाने का सही तरीका क्या है?, आप अलसी के बीजों को कैसे खा सकते हैं?, अलसी के बीजों को खाने के नुकसान साथ ही अलसी के बीजों के बारे में संपूर्ण जानकारी। 

Table of Contents

अलसी के बीज क्या हैं – What is flaxseeds in hindi

अलसी के बीज में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व होते हैं जैसे स्वस्थ वसा, एंटीऑक्सीडेंट्स और फाइबर। अलसी के बीजों का नियमित रूप से सेवन करने के अनगिनत फायदे हैं यह एक आयुर्वेदिक औषधि है इसके पौधे की खेती की जाती है। 

अलसी के बीज पाउडर के रूप में, तेल के रूप में, गोलियों के रूप में और कैप्सूल के रूप में उपलब्ध होते हैं।
अलसी के बीज के दुर्लभ फायदों के कारण इस पर कई शोध की जा चुकी हैं और शोधों के अनुसार अलसी के बीज का उपयोग अलग-अलग प्रकार की बीमारियों में लाभदायक होता है।
डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, लो ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर, हार्ट अटैक और कई अन्य गंभीर बीमारियां अलसी के बीज के नियमित सेवन करने से ठीक हो सकती हैं।

अलसी के बीजों के अलग-अलग नाम – Different names of flax seeds in Hindi

अलसी के बीज भारत के हर क्षेत्र में उपलब्ध होते हैं भारत में अलग अलग राज्य और अलग अलग भाषाऐ होने के कारण अलसी के बीज को अलग-अलग नामों से पुकारा जाता है।

  • अंग्रेजी में इसे फ्लैक्सीड (flaxseed) कहते हैं 
  • हिंदी उर्दू और पंजाबी में अलसी कहते हैं 
  • कन्नड़ में ऐसे Agase कहते हैं 
  • तमिल में ऐसे Ali Vidai कहते हैं 
  • मराठी में ऐसे जावास Jawas या अलसी कहते हैं 

पर मुख्यतः ज्यादातर लोग इसे अलसी या अलसी के बीज कहकर ही पुकारते हैं।

अलसी के बीज के फायदे – Benefits of flax seeds in Hindi

अलसी के बीज के फायदे

अलसी के बीज का उपयोग करने के अनगिनत फायदे है।

– अलसी और अनिद्रा

अलसी के बीजों का सेवन करने का एक फायदा यह है कि इससे अनिद्रा की समस्या दूर होती है क्योंकि अलसी के बीजों में ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है जो अनिद्रा को कम करने में मदद करता है और डिप्रेशन, तनाव और स्ट्रेस को होने से रोकता है जिसके कारण अनिद्रा की समस्या होती है।
 
अलसी के बीज का सेवन करने से शरीर को मैग्नीशियम मिलता है और मैग्नीशियम मस्तिष्क की नसों और मांसपेशियों को शांत करता है जिससे अच्छी नींद आने में मदद मिलती है। और मैग्नीशियम रात में होने वाले डरावने सपने के कारण होने वाली समस्याओं से भी बचाव करता है जिससे नींद आने में समस्या आती है। 

– अलसी के बीज और आंखें

अलसी के तेल में भरपूर मात्रा में फैटी एसिड्स होते हैं जो भिन्न-भिन्न प्रकार की आंखों से जुड़ी समस्याओं के इलाज के लिए उपयोगी हैं अलसी के तेल पर कई शोध हुए हैं जो यह साबित करते हैं कि अलसी के तेल का उपयोग करने से आंखों में दर्द कम होता है आंखों की रोशनी बढ़ती है। साथ ही आंखों में लाल पन और जलन भी कम होती है परंतु कई मामलों में ऐसा देखा गया है कि अलसी के तेल का अधिक उपयोग करने से आंखों में सूखापन बढ़ सकता है। अगर आपको भी आंखों से जुड़ी कोई समस्या हो रही है तो आपको एक बार डॉक्टर की सलाह लेकर अलसी के तेल का उपयोग जरूर करना चाहिए यह काफी फायदेमंद है। 

– अलसी के बीज और दर्द

अलसी के बीज के तेल में भरपूर मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड्स होते हैं जो शरीर में होने वाले इन्फ्लेमेशन और दर्द को कम करने में मदद करते हैं साथ ही ओमेगा 3 फैटी एसिड के साथ-साथ अलसी के बीज के तेल में अल्फा एनोलिक एसिड भी होते हैं जो विभिन्न प्रकार की बीमारियों के इलाज में मदद करते हैं जैसे अर्थराइटिस आदि।
इसलिए हमें डॉक्टर की सलाह लेकर अलसी के तेल का उपयोग करना चाहिए ताकि हमारे शरीर के दर्द दूर हो सके विशेषकर उन लोगों को इसका लाभ मिले सके जिनको अर्थराइटिस है या घुटनों में दर्द रहता है। ओमेगा 3 फैटी एसिड हमारे शरीर में होने वाले दर्द को कम करता है और साथ ही भिन्न-भिन्न प्रकार की अन्य बीमारियों से भी हमें बचाता है।

अलसी के बीज और कैंसर

अलसी के बीज में कुछ एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज होती हैं जो कैंसर के रिस्क को कम करने में मदद करती हैं। एक रिसर्च के अनुसार अलसी के बीज का सेवन करने से ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा कम हो जाता है एक स्टडी के अनुसार 6000 महिलाओं में से 18% महिलाओं को जिन्होंने अलसी के बीज का सेवन किया था उनके स्वास्थ्य में सुधार देखा गया। 

अलसी के बीज और अस्थमा

अलसी के बीज गुणकारी होते हैं अलसी के बीज में कुछ ऐसे गुण भी होते हैं जिसके कारण इसका उपयोग अस्थमा जैसी बीमारी के इलाज में किया जाता है। परंतु जिन लोगों को अस्थमा होता है उन्हें बिना डॉक्टर की सलाह के अलसी के बीजों का सेवन नहीं करना चाहिए यह नुकसानदेह हो सकता है क्योंकि अलसी के बीजों के सेवन करने के कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं।

अलसी के बीज और अपच

आजकल अपच की समस्या बहुत ज्यादा कॉमन हो गई है, जिसके कारण पेट से जुड़ी कई समस्याएं हो सकती हैं जैसे पेट दर्द और एसिडिटी अलसी के बीज खाने से अपच की समस्या नहीं होती। क्योंकि अलसी में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है जो हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है और इम्यूनिटी को बढ़ाता है फाइबर खाने को पचाने में मदद करता है जिससे अपच की समस्या नहीं होती है और एक अच्छी लाइफ स्टाइल के लिए हमें रोज कम से कम 25 ग्राम फाइबर का सेवन जरूर करना चाहिए। 

अलसी के बीज और कोलेस्ट्रॉल

अलसी के बीजों में भरपूर मात्रा में फाइबर होते हैं जिसके कारण यह है कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है और हृदय को स्वस्थ रखने में मदद करता है। 
एक शोध में हाई कोलेस्ट्रॉल वाले मरीजों को लगातार दो महीने तक प्रतिदिन 30 ग्राम अलसी के बीज खाने को दिए गए और देखा गया कि कुल केलोस्ट्रोल 17% तक कम हो गया और बैड कोलेस्ट्रॉल एलडीएल 19% तक कम हो गया। 

अलसी के बीज और ब्लड प्रेशर

यह बात प्रमाणित है कि अलसी के बीज ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करते हैं और blood pressure को नियंत्रण में रखते हैं लेकिन अलसी के बीज लेते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अगर व्यक्ति पहले से ही ब्लड प्रेशर की दवाइयां खा रहा हो तो उसे अलसी के बीज लेने के लिए डॉक्टर की सलाह देनी चाहिए बिना डॉक्टर की सलाह के अलसी के बीज लेना हानिकारक भी हो सकता है।

अलसी के बीज और प्रोटीन

अलसी के बीजों में भरपूर मात्रा में प्रोटीन होता है और यह शाकाहारी प्रोटीन के बहुत अच्छे स्रोत हैं और यह सभी प्रोटीन से शरीर का इम्यून सिस्टम बहुत अच्छा रहता है ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है यहां तक की ट्यूमर से भी बचाव किया जाता है एंटीफंगल प्रॉपर्टीज होती हैं। इसलिए अलसी के बीजों का प्रयोग कसरत करने वाले व्यक्ति और बॉडी बिल्डर्स भी करते हैं। 

अलसी के बीज और मोटापा

अलसी के बीज में भरपूर मात्रा में प्रोटीन वसा और फाइबर होते हैं जो हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं और हमारे पाचन तंत्र को कठोर बनाते हैं और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है जिससे व्यक्ति को मोटापा घटाने में मदद मिलती है इसलिए नियमित रूप से अलसी के बीजों का सेवन करने से मोटापे को घटाने में मदद मिलती है लेकिन हमें डॉक्टर की सलाह के बिना अलसी के बीजों का नियमित रूप से सेवन नहीं करना चाहिए यह हानिकारक भी हो सकता है। 

खांसी जुखाम और अलसी के बीज

खांसी जुखाम होने अलसी के बीजों को भगवान जी कर मिश्री के साथ मिलाकर सेवन करने से खांसी जुकाम जैसी बीमारियां खत्म हो जाते हैं कभी-कभी खांसी जुकाम होने पर साधारणतया भी अलसी के पाउडर का सेवन किया जा सकता है अलसी में कुछ ऐसे गुण होते हैं जिसके कारण यह खांसी जुकाम जैसी बीमारियों को कम कर देता है। 

अलसी के बीजों के दुष्प्रभाव – Side effects of flax seeds in Hindi

अलसी के बीजों के दुष्प्रभाव

कई बार लोग बिना सोचे समझे बिना डॉक्टर की सलाह के अलसी के बीजों का नियमित रूप से सेवन करने लगते हैं इसके कई गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं अलसी के बीजों का सेवन करने के कुछ दुष्प्रभाव निम्नलिखित हैं। 

उल्टियां होना

कई मामलों में ऐसा देखा गया है कि अलसी के बीच का साथ सेवन करने से उल्टी हो सकती है इसलिए अलसी के बीज डॉक्टर की सलाह से ही हमें अलसी के बीज का सेवन करना चाहिए अलसी का बीज कई मामलों में फायदा करता है लेकिन कई मामलों में जीवन चलाने जैसी समस्याएं हो सकती हैं। 

Low blood pressure

कई बार ऐसा देखा गया है कि अधिक मात्रा में अलसी के बीजों का सेवन करने से हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों का ब्लड प्रेशर बहुत अधिक लो हो जाता है क्योंकि हाई ब्लड प्रेशर का मरीज बिना डॉक्टर की सलाह के अलसी के बीजों का जीवन ज्यादा कर देता है जिसकी वजह से उसका ब्लड प्रेशर और ज्यादा कम हो जाता है वैसा विशेषकर उन लोगों के साथ होता है जो हाई ब्लड प्रेशर की दवा भी खा रहे होते हैं और फिर अलसी के बीजों का सेवन भी कर लेते हैं। 

गर्भावस्था

गर्भावस्था के दौरान हमें अलसी के बीजों का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि अलसी के बीजों की प्रवृत्ति गर्म होती है और यह गर्भावस्था में हानिकारक हो सकती है कुछ मामलों में तो इसका सेवन करना गर्भपात का कारण भी बन चुका है इसलिए गर्भावस्था में अलसी के बीजों का सेवन करने से बचना चाहिए और अगर हमें अलसी के बीजों का सेवन करना भी है तो हमें डॉक्टर से सलाह लेकर ही एक निश्चित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए। 

एलर्जी

ऐसा देखा गया है कि कुछ कुछ लोगों को अलसी के बीज नुकसान देते हैं जैसे कुछ लोगों को हाथ और पैर पर एलर्जी हो जाती है जैसे लाल दाग पड़ जाना खुजली मचना आदि इसलिए अगर आप अलसी के बीजों का सेवन कर रहे हो और आपको एलर्जी हो रही हो तो तुरंत अलसी के बीजों का सेवन करना बंद कर दीजिए।

Loose motion

कई बार मामलों में ऐसा देखा गया है कि व्यक्ति अलसी के बीजों का ज्यादा शेयर कर लेता है जिसके कारण व्यक्ति को लूज मोशन की समस्या हो सकती है इससे बचने के लिए व्यक्ति को डॉक्टर से सलाह देनी चाहिए और डॉक्टर की सलाह के बिना अलसी के बीजों का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए। 

दवाइयों के साथ प्रतिक्रिया

अगर आप किसी भी प्रकार की आने दवाइयां खा रहे हैं किसी भी इलाज के चलते तो आपको अलसी के बीजों का सेवन करते समय ध्यान देना चाहिए क्योंकि कई बार ऐसा देखा गया है कि उसी के बीच अन्य दवाइयों के साथ प्रतिक्रिया कर सकते हैं और स्थिति ज्यादा खराब हो सकती है। 

अलसी के बीजों का उपयोग कैसे करें – How to use flax seeds in Hindi

अलसी के बीजों का उपयोग अलग-अलग प्रकार से अलग-अलग बीमारियों में किया जाता है मुख्य रूप से उसी 5 तरीके से उपलब्ध होती है
  • अलसी के बीज
  • अलसी के बीज का पाउडर
  • उसी के बीजों का तेल
  • अलसी के बीजों की गोलियां
  • अलसी के बीजों के कैप्सूल
उपरोक्त सभी तरीके से आप अलसी के बीजों का इस्तेमाल कर सकते है जो लोग अलसी के बीजों का सेवन डायरेक्ट कर सकते हैं वह अलसी के बीजों का सेवन डायरेक्ट करें जो लोग हंसी के बीजों का सेवन पाउडर के रूप में करना चाहते हैं वे लोग अलसी के बीजों का सेवन पाउडर के रूप में कर सकते हैं चाहे तो पाउडर को दूध में डालकर पी सकते हैं और चाहे तो उसने शहद भी मिला सकते हैं
 
या फिर खांसी या झुकाऊं अस्थमा के लिए सिर्फ अलसी के बीजों के पाउडर को मिश्री के साथ फोन कर गर्म पानी के साथ खा सकते हैं। 
 
अलसी के बीजों का सेवन करने की तैयारी भी तरीके हैं अलसी के बीजों के पाउडर को अपने आहार मैं जरूर शामिल करें अलसी के बीज का फायदेमंद होते हैं और उसी के बीजों का सही तरीके से बंद करना काफी फायदेमंद होता है अगर आप गलत तरीके से किसी की भी जागो सेवन कर सकते हैं तो आपको कई प्रकार की नुकसान भी हो सकते हैं जैसे लूज मोशन होना पेट खराब होना उल्टी आना घर पर हो ना या फिर इंफेक्शन हो जाना यह सभी समस्याएं हो सकती हैं। 
 
जो लोग डायरेक्ट अलसी के बीजों का सेवन नहीं करना चाहते वह लोग अलसी के बीजों का सेवन या तो कैप्सूल के रूप में कर सकते हैं यहां पर गोलियों के रूप में भी कर सकते हैं वैसे भी बाजार में उपलब्ध है परंतु अलसी के बीज की दवाइयां थोड़ी अधिक नहीं है आती है और जबकि अलसी जय बीज साधारण रूप से उनकी दवाइयों के तुलना में कम महंगे आते हैं। 
 
 

अलसी के बीज कहां से प्राप्त होते हैं – Where do we get flaxseeds in Hindi

अलसी एक पौधा है जिसके बीज भिन्न भिन्न प्रकार की बीमारियों के इलाज में के लिए उपयोग में लाए जाते हैं और यह बहुत लाभदायक होते हैं इन पर कई रिसर्च भी हो रही हैं और यह बात तय है कि अलसी के बीज लाभदायक हैं अलसी का उपयोग बड़ी-बड़ी बीमारियों से लेकर छोटी-मोटी बीमारियों का इलाज के लिए किया जाता है अलसी एक पौधा है और इसकी खेती होती है वैसे तो अलसी की खेती लगभग लगभग भारत के ज्यादातर क्षेत्रों में की जाती है परंतु भारत के उत्तरी क्षेत्रों में अलसी की खेती ज्यादा की जाती है और भारत के उत्तरी क्षेत्र ही अलसी की खेती के सबसे बड़े स्रोत हैं। 
 
पूरी दुनिया में अलसी का उत्पाद सबसे ज्यादा कजाकिस्तान में होता है उसके बाद रसिया और चाइना में होता है। 
  • कजाखस्तान: – 933,533
  • कनाडा: – 688,784
  • रूस: – 557,888
  • चीन: – 365,511

अलसी के बीज हमारे शरीर के लिए क्यों आवश्यक है – Why flaxseeds necessary for us in Hindi

वैसे तो अलसी के बीजों का अलग प्रकार से उपयोग किया जाता है कुछ प्रकार निम्नलिखित है
  • अलसी के बीज ओमेगा 3 फैटी एसिड्स के भरपूर स्रोत हैं। 
  • अलसी के बीजों का सेवन करने से दिमाग तेज और फुर्तीला रहता है और यह mood को भी अच्छा करता है।
  • तुलसी के बीजों में भरपूर मात्रा में फाइबर होते हैं जो हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करते हैं। 
  • अलसी के बीज एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होते हैं। 
  • अलसी के बीजों का नियमित सेवन करने से हमारा हृदय स्वस्थ रहता है।
  • अलसी के बीज ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखने में मदद करते हैं। 
  • अलसी के बीजों का नियमित सेवन करने से घुटनों में दर्द नहीं होता है और सभी जॉइंट्स में दर्द नहीं होता है। 
  • अलसी के बीच में फोटो मात्रा में फाइबर होता है जिससे हमारा पाचन तंत्र मजबूत होता है और कब से जैसी समस्याएं नहीं होती हैं। 
  • अलसी के बीज का सेवन करने से बाल लंबे घने और काले हो जाते हैं। 
  • अगर आपको पसंद कम करना है तो अलसी के बीज का नियमित सेवन करने से अब वजन कम कर सकते हैं। 
  • यह एक एंटी एजिंग एजेंट की तरह काम करता है मतलब कि इसका नियमित सेवन करने से आप कम उम्र के देखेंगे।
  • शरीर में होने वाली हार्मोनल समस्याओं और रजोनिवृत्ति मैं होने वाली समस्याओं नियंत्रण रखता है और उन्हें कम करता है
  • यह हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और हमें विभिन्न प्रकार की बीमारियों से बचाता है। 
  • अलसी के बीजों का नियमित सेवन करने सेहाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या नहीं होती है और शरीर में से एलडीएल कोलेस्ट्रॉल कम होता है।

अलसी के पौधे का कौन सा भाग सबसे ज्यादा उपयोगी होता है – Which part of flaxseed’s plant is more beneficial in Hindi

अलसी के पौधे का सबसे महत्वपूर्ण भाग आग है क्योंकि इसमें सभी पोषक तत्व होते हैं प्रोटीन विटामिन मिनरल्स शादी इसलिए अजी के पौधे में से सिर्फ अलसी के बीज का ही सबसे ज्यादा उपयोग होता है अलसी के बीज का उपयोग होता है डायरेक्ट भी कर सकते हैं या फिर अलसी के तेल का उपयोग कर सकते हैं या फिर ऐसी की बोलियां या अलसी के बीजों के कैप्सूल का उपयोग कर सकते हैं अलसी के बीजों का उपयोग मुख्य रूप से अलग-अलग प्रकार की बीमारियों के लिए किया जाता है और बीमारियों के अनुसार ही इसे अन्य दवाइयों के साथ या सादा खुराक में लिया जाता है। 

निष्कर्ष

इस आर्टिकल के माध्यम से मैंने यह बताया है अलसी क्या है?, अलसी को खाने के फायदे क्या है?, अलसी को खाने का सही तरीका क्या है?, आप अलसी के बीजों को कैसे खा सकते हैं?, अलसी के बीजों को खाने के नुकसान साथ ही अलसी के बीजों के बारे में संपूर्ण जानकारी। मैं आशा करता हूं कि आपको मेरा यह आर्टिकल पसंद आया होगा अगर आपको इससे जुड़ी कोई सुझाव या सवाल है तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं धन्यवाद।
 

प्रश्न और उत्तर

अलसी के बीज खाने के फायदे क्या हैं?

अलसी के बीजों को खाने के अनेक फायदे हैं अलसी के बीज हर छोटी मोटी बीमारी से लेकर कैंसर जैसी बड़ी बीमारी के इलाज में भी लाभदायक है अलसी के बीजों का सेवन करने से वजन घटाने में मदद मिलती है अलसी के बीज फाइबर का बहुत अच्छा स्रोत है जिसकी वजह से यह हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करता है ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखता है और डायबिटीज को भी कंट्रोल में रखता है। 

अलसी के बीज खाने के नुकसान क्या है?

अलसी के बीज खाने के नुकसान ज्यादा नहीं है पर कुछ नुकसान है जैसे कि खुजली हो जाना इंफेक्शन हो जाना आदि लाल दाग पड़ जाना या फिर पेट दर्द होना उल्टी होना या दस्त लग जाना ऐसे छोटे-मोटे नुकसान होते हैं अगर कोई व्यक्ति बिना डॉक्टर की सलाह के और अधिक मात्रा में अलसी के बीजों का सेवन करे। 

अलसी के बीज को इंग्लिश में क्या कहा जाता है?

अलसी के बीजों को इंग्लिश में फ्लेक्स सीड्स (flax seeds) कहा जाता है।

अलसी का प्रयोग करने से क्या बाल सुंदर हो जाते हैं?

अलसी के बीजों का प्रयोग करने से बाल मजबूत सुंदर और घने हो जाते हैं क्योंकि अलसी के बीजों में कुछ ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो हमारे बालों को लंबा घना और मजबूत बनाते हैं। 

क्या अलसी के बीजों का सेवन करना उचित है?

हां अलसी के बीजों का सेवन करना उचित है परंतु एक हद तक ही अलसी के बीजों का सेवन करना उचित है अगर कोई व्यक्ति बहुत अधिक मात्रा में बिना डॉक्टर की सलाह के अलसी के बीजों का सेवन करता है तो उसे कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। 

क्या अलसी के बीज वजन घटाने में मदद करते हैं?

हां, डॉक्टर की सलाह से नियमित रूप से अलसी के बीजों का सेवन करने से व्यक्ति को वजन घटाने में मदद मिलती है क्योंकि अलसी के बीज पोषक तत्वों से भरे हुए होते हैं जिसमें भरपूर मात्रा में जिंक आयरन मैग्नीशियम जैसे तत्व होते हैं जो वजन घटाने में मदद करते हैं।

Leave a Comment